Bhraspativar Aarti

Share

Om Jai Bhraspati Deva, Jai Bhraspati Deva.

Chin chin Bhoog Lagaoon Phal Mewa II OM II

 

Tum Puran Parmatama, tum Antaryami.

Jagatpita Jagdeeshvar tum sabke Swami II OM I

 

Charnamrit nij nirmal, sab patak harta.

Sakal Manorath Dayak, kripa karo Bharta II OM II

 

Tan Mann Arpankar jo jann sharan pade.

Prabhu prakat tab hokar, Aakar Dwar Khade II OM II

 

Deen Dayal DayaNiddhi, Bhaktan Hitkari.

Paap Dosh sab Harta, Bhav Bandhan Haar II OM II

 

Sakal Manorath Dayak, sab Sanshay taro.

Vishay Vikar Mitao Santan Sukhkari II OM II

 

Jo Koi Aarti teri Prem Sahit Gave.

Jaeshtanand Band so so Nischay Pave II OM II

 

Sab Bolo Vishnu Bhagwan ki Jai.

Sab Bolo Bhraspati Bhagwan ki Jai .

हिन्दू धर्म में बृहस्पति देव को सभी देवताओं का गुरु माना जाता है। गुरुवार के व्रत में बृहस्पति देव की आरती करने का विधान माना जाता है, अतः श्री बृहस्पति देव की आरती निम्न लिखित है।

श्री बृहस्पति देव की आरती

जय वृहस्पति देवा, ऊँ जय वृहस्पति देवा।
छिन छिन भोग लगाऊँ, कदली फल मेवा॥

तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी।
जगतपिता जगदीश्वर, तुम सबके स्वामी॥

चरणामृत निज निर्मल, सब पातक हर्ता।
सकल मनोरथ दायक, कृपा करो भर्ता॥

तन, मन, धन अर्पण कर, जो जन शरण पड़े।
प्रभु प्रकट तब होकर, आकर द्घार खड़े॥

दीनदयाल दयानिधि, भक्तन हितकारी।
पाप दोष सब हर्ता, भव बंधन हारी॥

सकल मनोरथ दायक, सब संशय हारो।
विषय विकार मिटा, संतन सुखकारी॥

जो को आरती तेरी, प्रेम सहित गावे।
जेठानन्द आनन्दकर, सो निश्चय पावे॥

सब बोलो विष्णु भगवान की जय। 
बोलो वृहस्पतिदेव भगवान की जय॥

Mantra Benefit


More Mantra × -
00:00 00:00