ॐ जय जगदीश हरे

Share

ओम जय जगदीश हरेस्वामीजय जगदीश हरे।

भक्त जनों के संकटक्षण में दूर करे॥


ओम जय जगदीश हरे।जो ध्यावे फल पावेदुःख विनसे मन का।

स्वामी दुःख विनसे मन का।सुख सम्पत्ति घर आवेकष्ट मिटे तन का॥


ओम जय जगदीश हरे।मात-पिता तुम मेरेशरण गहूं मैं किसकी।

स्वामी शरण गहूं मैं किसकी।तुम बिन और  दूजाआस करूं जिसकी॥


ओम जय जगदीश हरे।तुम पूरण परमात्मातुम अन्तर्यामी।

स्वामी तुम अन्तर्यामी। पारब्रह्म परमेश्वरतुम सबके स्वामी॥


ओम जय जगदीश हरे।तुम करुणा के सागरतुम पालन-कर्ता।

स्वामी तुम पालन-कर्ता।मैं मूरख खल कामीकृपा करो भर्ता॥


ओम जय जगदीश हरे।तुम हो एक अगोचरसबके प्राणपति।

स्वामी सबके प्राणपति।किस विधि मिलूं दयामयतुमको मैं कुमति॥


ओम जय जगदीश हरे।दीनबन्धु दुखहर्तातुम ठाकुर मेरे।

स्वामी तुम ठाकुर मेरे।अपने हाथ उठाद्वार पड़ा तेरे॥


ओम जय जगदीश हरे।विषय-विकार मिटापाप हरो देवा।

स्वमी पाप हरो देवा।श्रद्धा-भक्ति बढ़ासंतन की सेवा॥


ओम जय जगदीश हरे।श्री जगदीशजी की आरतीजो कोई नर गावे।

स्वामी जो कोई नर गावे।कहत शिवानन्द स्वामीसुख संपत्ति पावे॥


ओम जय जगदीश हरे।

मंत्र लाभ


More Mantra × -
00:00 00:00