!-- Facebook Pixel Code -->

कैसे मनाएं इको फ्रेंडली होली?

होली मस्ती और अनोखी गतिविधियों से भरा त्योहार है। बच्चे इस दिन के आने के लिए साल भर इंतजार करते हैं ताकि वे रंग खेलने का आनंद ले सकें। रंगों के त्योहार का आकर्षण और मस्ती बरकरार रखते हुए, आइए हम इस साल इको फ्रेंडली जाने की कोशिश करें।



होली के बहुत ही नकारात्मक नकारात्मक प्रभाव जो हम अनजाने में करते हैं:

- हम ऐसे रंगों का उपयोग करते हैं जिनमें बहुत जहरीला रसायन होता है और यह पर्यावरण के लिए हानिकारक होते हैं।

- होली की रात आग जलाने के लिए लकड़ी का अपव्यय।

- होली के दौरान पानी का बहुत अधिक उपयोग।

- इको-फ्रेंडली होली में कैसे योगदान दें।

- सूखे और प्राकृतिक रंगों का उपयोग करें जो न केवल त्वचा के लिए फायदेमंद हैं बल्कि पानी बचाने में भी योगदान करते हैं। इन रंगों को आसानी से हटाया जा सकता है, इसलिए कम पानी को धोना पड़ता है।


होली के दौरान आजकल कई प्राकृतिक रंग बाजार में उपलब्ध हैं। यदि वे आपको महंगे लगते हैं, तो हमारे पास घर पर प्राकृतिक होली के रंगों को बनाने के लिए कुछ अद्भुत होली DIY हैं।

आइए इस होली में धरती मां के लिए सकारात्मक योगदान देने का संकल्प लें। केवल रंगों से खेलने के बजाय हमारे होली के सांस्कृतिक अनुष्ठानों को बढ़ावा दें। हम उन प्राचीन गतिविधियों में शामिल हो सकते हैं जिन्हें हमारे पूर्वजों ने स्थापित किया था। यह न केवल हमें मानव जाति को बचाने के लिए बल्कि हमें भगवान के करीब ले जाएगा।

अपनी टिप्पणी दर्ज करें



More Mantra × -
00:00 00:00