अक्षय तृतीया पर सोने की खरीद का महत्व

पौराणिक कथाओं के अनुसार अक्षय तृतीया को प्रमुख दिनों में से लोकप्रिय दिन मन जाता है। सम्पूर्ण भारत वर्ष में इस दिन श्रद्धा भक्ति से आभुषणो की खरीद दारी करते हैं खास कर इस दिन सोने के गहने की खरीद में भारी वृद्धि होती है। अक्षय तृतीया शुक्ला पक्ष के तृतीया तिथि को मनाई जाती है जो अंग्रेजी महीनो के हिसाब से हर साल अप्रैल या मई को पड़ता है। सोने को ख़रीदना नहीं , बल्कि अन्य प्रमुख निवेश भी करते हैं और शुभ अनुष्ठान या परंपराओं का भी पवित्र दिन भी माना जाता है। लोकप्रिय धारणा के बाद, अक्षय तृतीया 2019 नए कार्यों , विवाह, नए घर प्रवेश और जीवन की किसी भी प्रमुख घटना के लिए भाग्यशाली दिन भी होता है।

सोने को खरीदने के लिए शुभ समय-

07 मई / 2019 को त्रितिया तीथी शुरुआत = 03:17 से 02:17 08 मई / 2019 तक

अक्षय शब्द कभी कम या समाप्त नहीं होता है और इसलिए सोने को ऐसा एक भौतिक अस्तित्व माना जाता है जो कभी कम नहीं होगा। ज्योतिष के साथ-साथ परंपरा के अनुसार, यदि कोई इस दिन सोने में निवेश करता है तो वह समृद्धि और धन की बहुतायत से पूर्ण हो अगर हम अपने आकर्षक हिंदू पौराणिक कथाओं की जड़ों में गहरे जाते हैं, तो हम निश्चित रूप से अक्षय तृतीया पर इस स्वर्ण कब्जे के स्रोत को जान लेंगे।धन  देव  भगवान कुबेरा को भगवान शिव ने इस दिन भगवान के बैंकर के रूप में नियुक्त किया है, इस प्रकार लोग अक्षय तृतीया पर धन के रूप में सोने और चांदी की पूजा करते हैं। भगवान कुबेरा देवी लक्ष्मी के उत्साही अनुयायी थे और इसीलिए उन्हें इस असाधारण शक्ति से पुरस्कृत किया गया था।

हिंदू समुदाय के अनुसार, यह दिन भारत में विवाह के लिए एक विशेष दिन है। लड़की या लड़का, जिसका विवाह किसी कारण वस सही समय  नहीं  हो तो वह जातक अक्षय तृतीया के दिन शुभ काम कर सकता है। अक्षय तृतीया का पूरा दिन शुभ माना जाता है।

देवी लक्ष्मी को धन की देवी के रूप में चित्रित किया गया है और पहला तत्व जिसे हम हमेशा देवी लक्ष्मी के साथ जोड़ते हैं और यही कारण है कि उस दिन अक्षय तृतीयाकहा जाता  है जो माँ  लक्ष्मी  की पूजा सोने के आभूषणों से करते हैं उनकी मनोकामना पूर्ण होती है और माँ धन लक्ष्मी उन पर अपनी पूरी कृपा बनाये रखती हैं।

• "अक्षय" का अर्थ कभी खत्म या शाश्वत नहीं होता है। जब पांडव निर्वासन में थे तो उन्हें एक ऋषि से "अक्षय तृतीया" कटोरा मिला। उस कटोरे ने असीमित भोजन पैदा किया और कभी खाली नहीं हुआ, इसलिए, इस दिन के फल स्वयं-भरने वाले हैं  इसलिए अक्षय तृतीया में सोने का महत्व इतना अधिक है।

इस दिन में इन सभी पौराणिक घटनाओं का होने से यह अपने आप में एक बहुत ही शुभ समय बन जाता है। इसलिए दिन सोने की खरीद करना इस से बेहतर दिन नहीं हो सकता है।

अपनी टिप्पणी दर्ज करें


मंदिर

विज्ञापन

आगामी त्यौहार

करवा चौथ

करवा चौथ

इस साल करवा चौथ 27 अक्टूबर यानी शनिवार 2018 को मनाया जाएगा। इस दिन महिलाएं सारे दिन व्रत रख रात को च...


More Mantra × -
00:00 00:00