कालाष्टमी 2021: तिथियां, व्रत कथा और पूजा विधि

हर महीने की कृष्ण पक्ष अष्टमी को भक्तों में बड़ी श्रद्धा के साथ कालाष्टमी मनाई जाती है। कालाष्टमी के दिन भगवान शिव को भैरव के रूप में पूजा जाता है। कालाष्टमी को 'काल अष्टमी' के नाम से भी जाना जाता है। कालाष्टमी की सभी तिथियों में भैरव अष्टमी (कालभैरव जयंती) सबसे महत्वपूर्ण है। जो शनिवार 27 नवंबर 2021 को पड़ रहा है। कालाष्टमी के दिन, भगवान शिव को भैरव के रूप में पूजा जाता है। भगवान शिव (भोलेनाथ) के भैरव रूप के स्मरण से सभी प्रकार के पाप और कष्ट दूर हो जाते हैं। अत: भैरव जी की पूजा-अर्चना करने व कालाष्टमी के दिन व्रत एवं षोड्षोपचार पूजन करना अत्यंत शुभ और फलदायक माना गया है।

२०२१ में कालाष्टमी कब है?

कालाष्टमी 2021 तिथियाँ
पौष कलाष्टमीबुधवार, 06 जनवरी
माघ कालाष्टमीगुरुवार, 04 फरवरी
फाल्गुन कालाष्टमीशुक्रवार, 05 मार्च
चैत्र कालाष्टमीरविवार, 04 अप्रैल
वैशाख कालाष्टमीसोमवार, 03 मई
ज्येष्ठ कालाष्टमीबुधवार, 02 जून
आषाढ़ कालाष्टमीगुरुवार, 01 जुलाई
श्रावण कालाष्टमीशनिवार, 31 जुलाई
भाद्रपद कालाष्टमीशनिवार, 30 अगस्त
अश्विनी कलाष्टमीमंगलवार, 28 सितंबर
कार्तिक कालाष्टमीगुरुवार, 28 अक्टूबर
मार्गशीर्ष कालाष्टमीशनिवार, 27 नवंबर
भैरव अष्टमी
पौष कलाष्टमीरविवार, 26 दिसंबर

कालाष्टमी के दिन, यदि कोई भक्त भगवान भैरव (शिव) की पूजा करता है, तो उसके सभी मनचाहे परिणाम प्राप्त होते हैं। इसलिए, उचित उपवास अनुष्ठानों और समारोहों के साथ कालाष्टमी के इस अनुकूल दिन पर मासिक रूप से भगवान भैरव की पूजा करना बहुत शुभ और लाभकारी माना जाता है।

कालाष्टमी पूजा विधि

कालाष्टमी पूजा विधि

कालाष्टमी के दिन, भक्त को एक कठोर उपवास करना चाहिए। साथ ही भगवान शिव और पार्वती के साथ भगवान कालभैरव की पूजा करते हैं। वेदी को पवित्र स्नान के बाद प्रातः काल में स्थापित किया जाता है और कालभैरव की मूर्ति को पवित्र स्नान कराया जाता है और भक्त की रुचि के अनुसार पूजा की जाती है। इस दिन जप करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण है कालभैरव अष्टकम। पूजा के अंत में, भगवान को सुरक्षा के लिए प्रार्थना के साथ प्रसाद चढ़ाया जाता है। पूजा के समापन चरण के दौरान इस दिन कालभैरव की कथा का पाठ करना सबसे शुभ माना जाता है। इस दिन की गई अन्य गतिविधियाँ पवित्र नदियों में पवित्र डुबकी, दिवंगत आत्माओं को तर्पण और काले कुत्तों को खाना खिलाना (कालाभैरव की सवारी काले कुत्ते) हैं।

साथ ही मूर्ति को चंदन, चावल, गुलाब, नारियल और दूध और मेवे जैसे कुछ मीठे व्यंजनों की पेशकश कर सकते हैं। भक्तों को कुछ अगरबत्ती के साथ एक सरसों के तेल का दीपक भी जलाना चाहिए और उसकी पूजा करते समय मूर्ति के सामने रखना चाहिए।

काल भैरव मंत्र

“ह्रीं वटुकाय आपदुद्धारणाय कुरुकुरु बटुकाय ह्रीं”

“ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं हरिमे ह्रौं क्षम्य क्षेत्रपालाय काला भैरवाय नमः”

कालाष्टमी व्रत कथा

पौराणिक कथाओं में कालाष्टमी की व्रत कथा मिलती है कि एक बार भगवान  विष्णु और ब्रह्मा के बीच विवाद छिड़ गया कि श्रेष्ठ कौन है। यह विवाद इतना अधिक बढ़ गया कि सभी देव गण घबरा गए की अब परलय होने वाला है और सभी देव भगवन शिव के पास चल गए और समाधान ढूंढ़ने लग गए और ठीक उसी समय  भगवान शिव ने एक सभा का आयोजन  किया और भगवान शिव ने इस सभा में सभी ज्ञानी, ऋषि-मुनि, सिद्ध संत आदि उपस्थित किये और साथ में विष्णु व ब्रह्मा जी को भी आमंत्रित किया ।

सभा में लिए गए एक निर्णय को भगवान विष्णु तो स्वीकार कर लेते हैं, किंतु ब्रह्मा जी संतुष्ट नहीं होते। वे महादेव का अपमान करने लगते हैं। शांतचित शिव यह अपमान सहन न कर सके और ब्रह्मा द्वारा अपमानित किए जाने पर उन्होंने रौद्र रूप धारण कर लिया। भगवान शंकर प्रलय के रूप में नजर आने लगे और उनका रौद्र रूप देखकर तीनों लोक भयभीत हो गए। भगवान शिव के इसी रूद्र रूप से भगवान भैरव प्रकट हुए। वह श्वान पर सवार थे, उनके हाथ में दंड था। हाथ में दंड होने के कारण वे ‘दंडाधिपति’ कहे गए। भैरव जी का रूप अत्यंत भयंकर था। उन्होंने ब्रह्म देव के पांचवें सिर को काट दिया तब ब्रह्म देव को उनके गलती का एहसास हुआ। तत्पश्च्यात ब्रह्म देव और विष्णु देव के बीच विवाद ख़त्म हुआ और उन्होंने ज्ञान को अर्जित किया जिससे उनका अभिमान और अहंकार नष्ट हो गया।

कालाष्टमी का महत्व

भगवान भैरव की पूजा करने से सभी प्रकार के अधर्म और कष्टों से मुक्ति मिलती है। और विशेष रूप से किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि, राहु, केतु और मंगल जैसे ग्रहों के बुरे प्रभावों को ठीक करता है। उचित शुभ मुहूर्त के साथ भगवान की वंदना करने से भी बुरे प्रभाव दूर होते हैं। यह पूजा व्यक्ति को धीरे-धीरे शांति और शांति की दिशा में आगे बढ़ने में मदद करती है। भगवान काल भैरव के जप (मंत्र) का जप (उचित ध्यान के साथ इस भविष्यनिष्ठा के दिन का उल्लेख) जीवन की सभी बाधाओं और बाधाओं को दूर करता है।

अपनी टिप्पणी दर्ज करें



More Mantra × -
00:00 00:00