वसंत पंचमी के लिए मंत्र

सरस्वती मंत्रा 

सरस्वती महाभागे विद्ये कमललोचने

विद्यारूपा विशालाक्षि विद्यां देहि नमोस्तुते॥

या देवी सर्वभूतेषू, मां सरस्वती रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।

 

सरस्वती वंदना


या कुंदेंदु तुषार हार धवला या शुभ्र वस्त्रव्रिता |.

या वीणा वरा दंडमंडित करा या श्वेत पद्मासना ||.

या ब्रह्मच्युत शंकरा प्रभुतिभी देवी सदा वन्दिता |.

सामा पातु सरस्वती भगवती निशेश्य जाड्या पहा ||.

 

सरस्वती परिवार

या कुंदेंदु तुषारहार धवला,या शुभ्र वस्त्रावृता |

या वीणावर दण्डमंडितकरा,या श्वेतपद्मासना ||

या ब्रह्माच्युतशंकरप्रभ्रृतिभिर्देवै: सदा वन्दिता |

सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेष जाड्यापहा ||

शुक्लां ब्रह्मविचार सार परमां आद्यां जगद्व्यापिनीं |

वीणा पुस्तक धारिणीं अभयदां जाड्यान्धाकारापाहां |

हस्ते स्फाटिक मालीकां विदधतीं पद्मासने संस्थितां |

वन्दे तां परमेश्वरीं भगवतीं बुद्धि प्रदां शारदां ||

अपनी टिप्पणी दर्ज करें


मंदिर

विज्ञापन

आगामी त्यौहार

करवा चौथ

करवा चौथ

इस साल करवा चौथ 27 अक्टूबर यानी शनिवार 2018 को मनाया जाएगा। इस दिन महिलाएं सारे दिन व्रत रख रात को च...


More Mantra × -
00:00 00:00