arkadaşlık sitesi porno adana escort चैत्र नवरात्रि 2022 का दूसरा दिन: देवी ब्रह्मचारिणी पूजा, मंत्र और आरती !-- Facebook Pixel Code -->

नवरात्रि 2022 का दूसरा दिन - ब्रह्मचारिणी पूजा

नवरात्रि का दूसरा दिन नवदुर्गा के दूसरे रूप - देवी ब्रह्मचारिणी की पूजा के लिए समर्पित है। वह सर्वोच्च स्व के ज्ञान से शाश्वत आनंद देती है। ब्रह्मचारिणी को तपस्चारिणी, अपर्णा और उमा के नाम से भी जाना जाता है।

चैत्र नवरात्रि का दूसरा दिन
दिनांकरविवार, 3 अप्रैल
तिथिचैत्र सुक्ल पक्ष द्वितीया
देवीमाँ ब्रह्मचारिणी
पूजाब्रह्मचारिणी पूजा
मंत्र'ओम देवी ब्रह्मचारिणीयै नमः'
फूलगुलदाउदी फूल
रंगनारंगी

सभी नवरात्रि के दूसरे दिन की तिथि

- दूसरा दिन माघ गुप्त नवरात्रि: गुरुवार, 3 फरवरी
- दूसरा दिन चैत्र नवरात्रि: रविवार, 3 अप्रैल
- दूसरा दिन आषाढ़ गुप्त नवरात्रि: शुक्रवार, 1 जुलाई
- दूसरा दिन शारदीय नवरात्रि: मंगलवार, 27 सितंबर

नवदुर्गा के दूसरे स्वरूप मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने से ज्ञान और वैराग्य की प्राप्ति होती है। शास्‍त्रों में मां एक हर रूप की पूजा विधि और कथा का महत्‍व बताया गया है। मां ब्रह्मचारिणी की कथा जीवन के कठिन क्षणों में भक्‍तों को संबल देती है।

नवरात्रि का दूसरा दिन - मां ब्रह्मचारिणी पूजा

पूजा विधि

नवरात्रि के दूसरे दिन द्वितीया तिथि को मां ब्रह्मचारिणी की पूजा की जाती है। मां ब्रह्मचारिणी की पूजा में मां को फूल, अक्षत, रोली, चंदन आदि चढ़ाएं. मां ब्रह्मचारिणी को दूध, दही, पिघला हुआ मक्खन, शहद और चीनी से स्नान कराएं। फिर पिस्ते से बनी मिठाई का भोग लगाएं। इसके बाद पान, सुपारी, लौंग का भोग लगाएं। ऐसा कहा जाता है कि मां ब्रह्मचारिणी की पूजा करने वाले भक्त जीवन में हमेशा शांत और खुश रहते हैं। उन्हें किसी प्रकार का भय नहीं है।

देवी ब्रह्मचारिणी का स्वरूप ज्योति से परिपूर्ण व आभामय है। माता के दाहिने हाथ में जप की माला व बाएं हाथ में कमंडल है। देवी के इस स्वरूप की पूजा और साधना से कुंडलिनी शक्ति जागृत होती है।

मां ब्रह्मचारिणी मंत्र

“ या देवी सर्वभूतेषु ब्रह्मचारिणी रूपेण संस्थिता।

नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:’’।। 

दधाना करपद्माभ्यामक्षमालाकमण्डलू।

देवी प्रसीदतु मयि ब्रह्मचारिण्यनुत्तमा॥


इसका अर्थ है- 'हे मां! सर्वत्र विराजमान और ब्रह्मचारिणी के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार नमस्कार करता हूँ मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूं। माता का आशीर्वाद पाने के लिए नवरात्रि के दूसरे दिन माता ब्रम्चारिणी  के स्वरूप का  पूजन,ध्यान, जप आदि किया जाता है। और माता अपने भक्तों पर सादा अपनी कृपा बनाये रखती है।

संबंधित विषय:

नवरात्रि दिवस १ | नवरात्रि दिवस ३ | नवरात्रि दिवस ४ | नवरात्रि दिवस ५ | नवरात्रि दिवस ६ | नवरात्रि दिवस ७ | नवरात्रि दिवस  | नवरात्रि दिवस ९ | दशहरा

टिप्पणियाँ

  • 09/10/2020

    I pray to goddess kushmanda who symbolizes simplicity, love,loyalty, wisdom and knowledge. the divine goddess and i wish that u too get the blessings of the goddess and live a happy life. om devi kushmandaiye namaha and happy navratri

  • 18/10/2020

    Nice blog yourinformationguru.in

अपनी टिप्पणी दर्ज करें



More Mantra × -
00:00 00:00