नवरात्रि अष्टम दिवस - माँ महागौरी पूजा विधान, मंत्र और महत्व

मां महागौरी देवी का महत्व

नवरात्रि के आठवें दिन मां महागौरी की पूजा का विधान है। भगवान शिव की प्राप्ति के लिए इन्होंने कठोर पूजा की थी, जिससे इनका शरीर काला पड़ गया था। जब भगवान शिव ने इनको दर्शन दिया, तब उनकी कृपा से इनका शरीर अत्यंत गौर हो गया और इनका नाम गौरी हो गया।

माना जाता है कि माता सीता ने श्री राम की प्राप्ति के लिए इन्हीं की पूजा की थी। नवरात्रि के 8वें दिन की देवी मां महागौरी हैं। परम कृपालु मां महागौरी कठिन तपस्या कर गौरवर्ण को प्राप्त कर भगवती महागौरी के नाम से संपूर्ण विश्व में विख्यात हुईं। भगवती महागौरी की आराधना सभी मनोवांछित को पूर्ण करने वाली और भक्तों को अभय, रूप सौंदर्य प्रदान करने वाली है अर्थात शरीर में उत्पन्न नाना प्रकार के विष व्याधियों का अंत कर जीवन को सुख-समृद्धि आरोग्यता से पूर्ण करती हैं। मां की शास्त्रीय पद्धति से पूजा करने वाले सभी रोगों से मुक्त हो जाते हैं और धन-वैभव संपन्न होते हैं। 

मां महागौरी की पूजा विधि

चैत्र नवरात्रि 2019 पर, महागौरी पूजा शनिवार, 13 अप्रैल को होती है। नवरात्रि दिन 8; महागौरी पूजा विधी इस प्रकार है;

- पीले वस्त्र धारण करके पूजा आरम्भ करें. मां के समक्ष दीपक जलाएं और उनका ध्यान करें।

- पूजा में मां को श्वेत या पीले फूल अर्पित करें. उसके बाद इनके मन्त्रों का जाप करें।

- अगर पूजा मध्य रात्रि में की जाय तो इसके परिणाम ज्यादा शुभ होंगे।

- मां की उपासना सफेद वस्त्र धारण करके करें. मां को सफेद फूल और सफेद मिठाई अर्पित करें।

साथ में मां को इत्र भी अर्पित करें।

- पहले मां के मंत्र का जाप करें. फिर शुक्र के मूल मंत्र " शुं शुक्राय नमः" का जाप करें।

- मां को अर्पित किया हुआ इत्र अपने पास रख लें और उसका प्रयोग करते रहें।

- अष्टमी तिथि के दिन कन्याओं को भोजन कराने की परंपरा है, इसका महत्व और नियम क्या है।

- नवरात्रि केवल व्रत और उपवास का पर्व नहीं है. यह नारी शक्ति के और कन्याओं के सम्मान का भी पर्व है।

- इसलिए नवरात्रि में कुंवारी कन्याओं को पूजने और भोजन कराने की परंपरा भी है.

- हालांकि नवरात्रि में हर दिन कन्याओं के पूजा की परंपरा है, पर अष्टमी और नवमी को अवश्य ही पूजा की जाती है।

- 2 वर्ष से लेकर 11 वर्ष तक की कन्या की पूजा का विधान किया गया है।

- अलग-अलग उम्र की कन्या देवी के अलग अलग रूप को बताती है।


जरूर पढ़े: पूरे नौ दिनों तक नवरात्रि मंत्र

नवरात्रि दिवस 8 मंत्र: महागौरी पूजा मंत्र

ओम देवी महागौर्यै नमः ।।

श्वेते वृषसमरुधा श्वेताम्बरधरा शुचि।
महागौरी शुभं दद्यानमहादेव प्रमोददा ।।

यं देवी सर्वभूतेषु मां महागौरी रूपेण संस्थिता 
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः 

वन्दे वंचिता कामार्थे चन्द्रार्धकृतचरशेखरम्।
सिंहरुद्ध चतुर्भुजा महागौरी यशस्वनीम् 
पूर्णन्दु निभम गौरी सोमचक्रस्थिताम् अष्टमं महागौरी त्रिनेत्राम 
वरभीतिकरम त्रिशुला दामरुधरम महागौरी भजेम् 
पटाम्बरा परिधनम् मृदुहास्य नानालंकार भूषिताम् 
मंजीरा, हर, कीरा, किंकिणी, रत्नाकुंडला मंडितम्।
प्रफुल्ल वंदना पल्लवधरम कांता कपोलम त्रैलोक्य मोहनम 
कमनीयम लावण्यम मृणालम चंदना गंधालिप्टम।

सर्वसंकट हन्त्री तवमही धना ऐश्वर्यप्रदाय 
ज्ञानदा चतुर्वेदमयी महागौरी प्रणमाम्यहम् 
सुख शान्तिदात्री धना धन प्रज्ञाम्
डमरुवद्यं प्रया आद्या महागौरी प्रणमाम्यहम्
त्रैलोक्यमंगला तवमही तपत्रया हरिनिम 
वदाम् च चैतन्यमयी महागौरी प्रणमाम्यहम्  

ओंकार पातु शिरशो मां, हिम बीजम, हृदय
कृपया समुदाय व्यवस्थापक से संपर्क करें 
ललातम करनो हम बीजम पातु महागौरी माँ नेतराम घरनो
कपोता चिबुको चरण पातु स्वाहा मा सर्ववदनो।

संबंधित विषय:

नवरात्रि दिवस ९ और राम नवमी
नवरात्रि दिवस १

नवरात्रि दिवस २
नवरात्रि दिवस ३
नवरात्रि दिवस ४
नवरात्रि दिवस ५
नवरात्रि दिवस ६
नवरात्रि दिवस ७
 

अपनी टिप्पणी दर्ज करें


मंदिर

विज्ञापन

आगामी त्यौहार

करवा चौथ

करवा चौथ

इस साल करवा चौथ 27 अक्टूबर यानी शनिवार 2018 को मनाया जाएगा। इस दिन महिलाएं सारे दिन व्रत रख रात को च...

शीर्ष त्यौहार


More Mantra × -
00:00 00:00