मकर संक्रांति अनुष्ठान और पूजा विधान

वर्ष का पहला बड़ा त्यौहार मकर संक्रांति है। मकर संक्रांति में प्रदर्शन करने के लिए मूल पूजा और अनुष्ठानों को जानें

लोग इस शुभ दिन में अपने घरों में साफ-सफाई करते हैं।

मकर संक्रांति के दिन, व्यक्ति तेल स्नान कर घर में पूजा करते है।

घर सुंदर रूप से प्रवेश द्वार पर रंगीन और फूलों की माला और द्वारों में लटकते आम पत्तियों से सजाया जाता है।

पूजा कक्ष में भगवान सूर्य की मूर्ति या तस्वीर पूजा में रखी जाती है।

मकर-संक्रांति पर सूर्योदय से सूर्यास्त का समय शुभ है। इस अवधि के दौरान एक पवित्र डुबकी विशेष महत्व रखती है। जो नदियों के तट पर पवित्र स्थानों पर गंगा, यमुना, गोदावरी, कृष्णा और कावेरी नदियों में पवित्र डुबकी लगाते हैं, अपनी मनोकामना की उपासना करते हैं।


महिलाओं के लिए हल्दी कुमकुम समारोह किया जाता है

छोटे मिट्टी के बर्तनों की पूजा कर गुड़ के साथ काले तिल मंदिरों, रिश्तेदारों और दोस्तों में वितरित किया जाता है। ऐसा माना जाता है कि यह शनि और सूर्य भगवान के दुर्भावनापूर्ण प्रभावों को खत्म करने में मदद करता है

इस दिन लोग घर पर शनि शांति ग्रहा पूजा भी करते हैं।

यदि सूर्य को आपके कुंडली में नकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है तो इस दिन आप इसके प्रभाव को कम करने के लिए जरूरतमंदों को दान कर सकते हैं।

इस दिन किसी भी काम के लिए शुभ माना जाता है।

इस  दिन पतंगों  को उड़ा ऐसा माना जाता है कि यह आपकी सभी बुरी किस्मत दूर उड़ जाएगा।

गुड़ और तिल के प्रसाद को प्राप्त कर आपके शरीर से नकारात्मक शक्तियों को हटाने के लिए किया जा सकता है। फिर आप उन्हें काले गायों भी परैत करा सकते हैं।


इस दिन मछली को भोजन देना भी शुभ है।

भगवान शिव के नाम पर एक बहुत ही शक्तिशाली पूजा है और यदि इस दिन भगवन शिव की भी पूजा की जय तो चमत्कार फल प्राप्त हो सकता है।

मकर संक्रांति के बारे में और जानें

मकर संक्रांति पौराणिक कथाओं

मकर संक्रांति पूजा और अनुष्ठान, व्रत कथा और विधान

मकर संक्रांति का इतिहास

मकर संक्रांति का महत्व

अपनी टिप्पणी दर्ज करें


मंदिर

विज्ञापन

आगामी त्यौहार

सिंधु दर्शन महोत्सव

सिंधु दर्शन महोत्सव

सिंधु- दर्शन महोत्सव एक तरह का त्यौहार है, जो सिंधु के तट पर बड़े ही धूम - धाम से मनाया जाता है, जिस...


More Mantra × -
00:00 00:00