arkadaşlık sitesi porno adana escort izmir escort porn esenyurt escort ankara escort bahçeşehir escort शिवाजी जयंती 2022: तिथि, कथा और महत्व !-- Facebook Pixel Code -->

शिवाजी जयंती 2022: तिथि, कथा और महत्व

महान मराठा शासक छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती को शिवाजी जयंती के रूप में मनाया जाता है। हर साल शिवाजी जयंती 19 फरवरी को पूरे महाराष्ट्र राज्य में बहुत उत्साह और उत्साह के साथ मनाया जाता है। यह महाराष्ट्र के लोगों के लिए एक सार्वजनिक अवकाश है। 19 फरवरी, 1630 को, शिवनेरी किले में, शिवाजी महाराज का जन्म हुआ था।

शिवाजी जयंती 2022 - छत्रपति शिवाजी का 392वां जन्म दिवस
तारीख - शनिवार, 19 फरवरी 2022

इस दिन, लोग शिवाजी और उनके सहयोगियों के रूप में तैयार होते हैं और कई जुलूस निकालते हैं। पूरे महाराष्ट्र राज्य में इसे छुट्टी घोषित किया जाता है क्योंकि इस दिन को बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। गोवा और कर्नाटक में भी, शिवाजी जयंती मनाई जाती है। लोग शिवाजी महाराज के जीवन पर नाटक करते हैं। इस दिन प्रमुख सरकारी अधिकारियों द्वारा भाषण दिए जाते हैं।

कहानी

शिवाजी महाराज ने बीजापुर की घटती आदिलशाही सल्तनत से एक पूरे क्षेत्र को तराशा। यह मराठा साम्राज्य की शुरुआत बन गया। इसलिए, उन्हें सबसे बड़ा मराठा शासक माना जाता था। शिवाजी महाराज ने 16 साल की छोटी उम्र में टोमा किले को जब्त कर लिया और 17 साल की उम्र तक उन्होंने रायगढ़ और कोंडाना किलों को जब्त कर लिया और उनका राज्याभिषेक 1674 में हुआ।

वह एक ऐसा व्यक्ति था जिसके प्रयासों ने मय्यल, कोंकण और देश क्षेत्रों के मराठा प्रमुखों को एकजुट किया। वह न केवल महाराष्ट्र के लोगों के लिए एक नायक हैं, बल्कि शेष भारत के लिए भी एक नायक हैं।

महत्व

भारतीय इतिहास में, युद्ध के दौरान उनकी सैन्य कौशल और छापामार रणनीति को बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है। शिवाजी जयंती की शुरुआत सबसे पहले पुणे में महात्मा ज्योतिराव फुले ने 1870 में की थी। उन्होंने रायगढ़ पर शिवाजी महाराज की समाधि की खोज की थी। फुले पहले व्यक्ति थे जिन्होंने शिवाजी महाराज के जीवन पर सबसे लंबा गाथा लिखी थी।

शिवाजी जयंती की भारत की स्वतंत्रता संग्राम में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका थी। इस अवसर का उपयोग बाल गंगाधर तिलक ने ब्रिटिश उत्पीड़न के दौरान लोगों को एकजुट करने के लिए किया था। और आज भी यह जयंती बहुत धूमधाम से मनाई जाती है।

शिवाजी महाराज ने एक उन्नत और सुव्यवस्थित नागरिक प्रशासन प्रणाली का निर्माण किया। अदालत और प्रशासन में, उन्होंने फ़ारसी का उपयोग करने के बजाय मराठी और संस्कृत के उपयोग को बढ़ावा दिया। फारसी का इस्तेमाल ज्यादातर उन समय की अदालतों में किया जाता था।

अपनी टिप्पणी दर्ज करें



More Mantra × -
00:00 00:00