यह संस्कार गर्भ में पल रहे बच्चे के चौथे, छठवें और आठवें महीने में किया जाता है। यह सीमन्तोन्नयन संस्कार गर्भस्थ शिशु के उन्नयन के लिये किया जाता है। यह संस्कार शिशु को सौभाग्य संपन्न बनाता है। यह संस्कार गर्भ के सातवें महीने में करना चाहिए। इस संस्कार का उद्देश्य जन्म लेने वाले शिशु के स्वास्थ्य तथा शारीरिक एवं मानसिक विकास के लिए ईश्वर से प्रार्थना करना है। मुहूर्त के चयन में निम्नांकित विचार आवश्यक हैं। इस संस्कार में हवन किया जाता है और गर्भवती स्त्री के जूडे़ (सिर के बालों) में तीन कुशाएं और गूलर के फूल लगाये जाते हैं। इस संस्कार के अवसर पर वीणा वादन के साथ सोमराग का गान आदि भी होता है, जो गर्भवती स्त्री को प्रफुल्लित करने का, भक्ति का संस्कार करने का उत्तम साधन है।

सीमन्तोन्नयन संस्कार का महत्व-

येनादिते: सीमानं नयाति प्रजापतिर्महते सौभगाय।

तेनाहमस्यौ सीमानं नयामि प्रजामस्यै जरदष्टिं कृणोमि।।


सीमन्तोन्नयन संस्कार सीमन्त और उन्नयन से मिलकर बना है। सीमन्त बालों को कहा जाता है और उन्नयन का अर्थ होता है ऊपर उठाना। मान्यता है कि जब स्त्री गर्भधारण करती है तो समय के साथ-साथ उसके अंदर बहुत सारे परिवर्तन आते हैं। सीमन्तोन्नयन संस्कार आठवें महीने में किया जाता है। इस समय स्त्री की पीड़ा और उसके स्वभाव में परिवर्तन बहुत बढ़ जाते हैं ऐसे में उसे मानसिक रूप से तैयार करने की जरूरत होती है। इस संस्कार के बहाने पति पत्नी के केश संवारता है ताकि उसे मानसिक शक्ति प्राप्त हो। इस संस्कार की यह मान्यता भी काफी प्रबल है कि इससे गर्भ सुरक्षित रहता है। माना जाता है कि चौथे, छठे या आठवें माह में गर्भपात हो जाये तो गर्भ के जीवित रहने की संभावनाएं नहीं होती बल्कि माता के जीवन को भी कई बार संकट हो जाता है। इसलिये यह संस्कार छठे या आठवें माह में अवश्य करने की सलाह दी जाती है। इस संस्कार का एक महत्व यह भी माना जाता है कि इससे शिशु का भी मानसिक विकास होता है। क्योंकि आठवें माह में वह माता को सुनने समझने लगता है। इसलिये मां का मानसिक स्वास्थ्य यदि बेहतर होगा तो शिशु का भी बेहतर बना रहता है।


सीमन्तोन्नयन संस्कार की पूजन रिति:-

सीमन्तोन्नयन संस्कार को सीमन्तकरण अथवा सीमन्त संस्कार भी कहते हैं।

1- सीमन्तोन्नयन का अभिप्राय है। सौभाग्य संपन्न होना। गर्भपात रोकने के साथ-साथ गर्भस्थ शिशु एवं उसकी माता की रक्षा के लिए सीमन्तोन्नयन संस्कार किया जाता है।

2- सीमन्तोन्नयन संस्कार के माध्यम से गर्भ धारण के छठे अथवा आठवें महीने में गर्भिणी स्त्री का मन प्रसन्न रखने के लिये सौभाग्यवती स्त्रियां गर्भवती की मांग भरती हैं और गर्भस्थ शिशु के सम्पूर्ण विकास के साथ- साथ तेजस्वी पुत्र की कामनाएं करती है।

 

पिछला विषय

{ पुंसवन

अगला टॉपिक

जातकर्म

अपनी टिप्पणी दर्ज करें


विज्ञापन

आगामी त्यौहार

शीर्ष त्यौहार


More Mantra × -
00:00 00:00