वर्षा ऋतु का आगमन व पितरों को सदगति दिलाती है आषाढ़ी अमावस्या

वर्षा ऋतु का आगमन व पितरों को सदगति दिलाती है आषाढ़ी अमावस्या Arshadi Amavasya

वर्षा ऋतु का आगमन व पितरों को सदगति दिलाती है आषाढ़ी अमावस्या

भारतीय हिन्दू पंचांग के अनुसार  हर माह के कृष्ण पक्ष की अंतिम तिथि अमावस्या होती है। इस दिन का भारतीय जन-जीवन समुदाय में अत्यधिक महत्व हैं। क्योंकि हर माह की अमावस्या को कोई न कोई पर्व अवश्य मनाया जाता है। सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहा जाता है और ठीक उसी प्रकार हर वार को पड़ने वाली अमावस्या को अलग-अलग प्रभाओं व अनेकों नामों से पुकारा जाता है। शास्त्रों में अमावस्या को पितरों का दिन कहा गया है। इसलिए इस दिन पितरों के निमित्त किए गए दान-तर्पण, पितृकर्म आदि उन्हें सीधे प्राप्त होते हैं और अपने परिजनों को आशीर्वाद प्रदान करते हैं ।  इस दिन धार्मिक तीर्थ स्थलों पर स्नान का भी विशेष महत्व माना जाता है।  बात करते हैं हम आज आषाढ़ माह की अमावस्या की ?

आषाढ़ अमावस्या

धर्म ग्रन्थों के अनुसार प्रत्येक माह की अमावस्या तिथि पितृकर्म के लिए श्रेष्ठ मानी गई है।  किंतु प्रचलित लोक मान्यताओं के अनुसार आषाढ़ माह की अमावस्या का कुछ अलग विशेष महत्व है। यह माह वर्षाकाल के प्रारंभ का समय होता है और कहा जाता है पितृ आषाढ़ अमावस्या के दिन अपने परिजनों से अन्न-जल ग्रहण करने आते हैं। इसलिए आषाढ़ी अमावस्या के दिन पवित्र नदियों के तट पर बड़ी संख्या में पितृकर्म संपन्न किए जाते हैं। और पितरों को शांत करने के लिए नदी तट पर बड़े-बड़े यज्ञ अनुष्ठान किये जाते हैंइसी कारण आषाढ़ अमावस्या को पितृकर्म अमावस्या के नाम से भी जाना जाता है

आषाढ़ अमावस्या करें उपाय

  •  इस दिन पितरों के निमित्त तर्पण, पितृकर्म संपन्न कराएं। इससे पितृदोष का निवारण होगा।
  •  पित्रों से संबंधित परेशानी आ रही है तो पितरों के निमित्त गरीबों को दान दें, भोजन कराएं।
  •  यदि व्यक्ति शनि ग्रह या मंगल ग्रह से पीड़ित हो तो आषाढ़ अमावस्या के दिन हनुमान मंदिर में चमेली के तेल, सिंदूर और चोला चढ़ाएं। हनुमान जी को बेसन के लड्डू का भोग लगाएं।
  •  पितरों के मोक्ष के लिए इस दिन गंगा में उनके नाम की डुबकी लगाएं ऐसा करने से सदैव घर में खुशियां व बरकत बनी रहेगी ।

यदि आप इस लेख से जुड़ी अधिक जानकारी चाहते हैं या आप अपने जीवन से जुड़ी किसी भी समस्या से वंचित या परेशान हैं तो आप नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर हमारे ज्योतिशाचार्यो से जुड़ कर अपनी हर समस्याओं का समाधान प्राप्त कर अपना भौतिक जीवन सुखमय बना सकते हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here