प्रियंका चोपड़ा जन्मकुंडली

प्रियंका चोपड़ा जन्मकुंडली (ज्योतिषाचार्य सुनील बरमोला जी द्वारा)

नाम

:

प्रियंका चोपड़ा

जन्म तिथि

:

18 जुलाई 1982

जन्म का समय

:

12:30 AM

जन्म स्थान

:

जमशेदपुर ( झारखण्ड )

प्रियंका चोपड़ा का जन्म 18 जुलाई 1982 को जमशेदपुर, झारखण्ड में पैदा हुयी थी। प्रियंका चोपड़ा बचपन से पढ़ाई लिखाई  में बहुत ही तीव्र बुद्धि व रिसर्च करने में प्रवीण थी और ये अपने जीवन में साफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहती थी परन्तु ग्रहों का ऐसा प्रभाव हुआ की उसकी अपनी सोच के साथ चल रही किस्मत को ही बदल डाला व सन 2000 में मिस इंडिया मुकाबले में भाग लेने और मॉडलिंग  बनने के लिए जय हिंद कॉलेज में एडमिशन ले लिया और प्रियंका चोपड़ा ने अपने जीवन का बदलाव कर सन 2000 में ‘मिस इंडिया वर्ल्ड’ से चुनी गयी। और अपने जीवन में तमिल नायडू से फ़िल्म में काम कर अपने नाम को हर दिन आगे बढ़ने लगी और अनेको फिल्मों में अपन नाम उज्जवल किया  जो आज  हॉलीवुड में अपनी सफलता के झंडे गाड़ रही हैं।

फ़िल्म में एक नए अवतार और अंदाज़ के लिये मशहूर, प्रियंका चोपड़ा, अपने फ़िल्मी करियर में अब तक कुल 86 अवार्ड्स अपने नाम कर चुकी हैं। जिनमें प्रमुख अवार्ड्स हैं- 1 नेशनल फ़िल्मफेयर अवार्ड, 4 फ़िल्मफेयर और आईफा अवार्ड्स, 6 स्क्रीन अवार्ड्स और 7 स्टार गिल्ड अवार्ड्स।

ज्योतिष शास्त्र द्वारा निर्मित प्रियंका चौपड़ा जन्मकुंडली

प्रियंका चौपड़ा का जन्म 18 जुलाई 1982 को रात्रि को 00:30 झारखण्ड के जमशेदपुर में हुआ था। ज्योतिषीय गणना द्वारा इनका जन्म  रोहिणी नक्षत्र के तीसरे चरण के मेष लग्न व  वृष राशि में हुआ है। लग्न स्वामी मंगल और राशि स्वामी शुक्र बनता है जो इन्हें ऊर्जा शक्ति से भरपूर, और पुरे विश्व में अपना नाम प्रसिद्ध किया व बहुमुखी प्रतिभा की धनी बनी। वर्त्तमान समय के अनुसार देखा जाय तो नृत्य से लेकर संगीत तक में अपनी छाप छोड़ चुकी हैं। वर्तमान में इन पर बृहस्पति की महादशा चल रही है जो कि इनकी कुंडली के अनुसार भाग्य के स्वामी भी हैं। वहीं इनकी अंतरदशा में बुध चल रहे हैं तो प्रत्यंतर में शनि गोचर कर रहे हैं। दशाओं के अनुसार वर्तमान समय में चल रहे दशाओं का फल इनके मांगलिक कार्य का योग बनाता है जो इनके सही समय पर हो रहे मांगलिक कार्य को एक अच्छे जीवनम साथी का संकेत करता है और एक सुखी जीवन यापन करने में सफल करेगा। और भविष्य में फ़िल्मफेयर में सर्वोच्च स्थान पर बनने के योग बने हुए हैं जो इनको सदैव भारत के इतिहास में शामिल रहेगा।

 

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here