राहुल गांधी जन्मकुंडली फलादेश

राहुल गांधी कुंडली राशिफल - Rahul Gandhi Horoscope , Rashifal - Birth Chart

राहुल गांधी कुंडली और राशिफल (ज्योतिषाचार्य सुनील बरमोला जी द्वारा)

नाम

:

राहुल गांधी

जन्म तिथि

:

18 जून 1970

जन्म का समय

:

9:52 PM

जन्म स्थान

:

दिल्ली

वर्तमान राजनितिक में कांग्रेस राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष व कांग्रेस पार्टी के जीर्णोद्धार माननीय राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) का जन्म भारत वर्ष के दिल्ली प्रदेश में दिनांक 18 जून 1970 को रात्रि 9 बज कर 52 मिनट पर हुआ राहुल गाँधी जी के जीवन में अनेकों परिस्थितियों जैसे उतार-चढ़ाव दिखने को मिलते हैं आज बात करते हैं उनके जीवन का सबसे बड़ा राजनितिक झटका may -2014 की ,
जन्मकुंडली के अनुसार जब उनपर चन्द्र की महादशा के साथ  बुध की अन्तर्दशा  चल रही थी , चन्द्रमा ( Moon) उनकी कुंडली में नीच  राशि में छठे स्थान में बैठा है , साथ ही छठे भाव का स्वामी मंगल लग्न में और मिथुन लग्न होने से लग्न का  स्वामीबुध ग्रह बनता है बारहवे स्थान में , मैंने हमेशा कहा है की अगर लग्न या दशम का बारहवे भाव से सम्बन्ध बन रहा है तो राजभंग  योग का निर्माण होता है इनके कुंडली के 5 भाव में शुक्र (venus) भी नवमांश कुंडली में नीच का है अतः राजभंग योग के जितने कारण बन सकते है सब कुंडली में उपलब्ध है।
इस समय में उनके बारहवा और छठा (12th house और 6th House) भाव पूरी तरह से Active थे , साथ ही चन्द्रमा बुध के नक्षत्र में (12th house से connection ) और बुध चन्द्रमा के नक्षत्र में (6th house से connection) , चन्द्रमा आत्मकारक ग्रह भी है और हमेशा मैंने कहा है की दशा बहुत कड़वे अनुभवों वाली रहती है , अतः कोई सम्भावना नहीं थी की राजपाट और सम्मान बचा रहता , साथ ही इनकी माताश्री सोनिया गाँधी की कुंडली में भी राजभंग का योग है।
राहुल गाँधी जी का वर्तमान समय ग्रहों के हिसाब से राजनितिक फीड बड़े ही कठनायों के दौर पर चल रहा जो इनके आगामी चुनाव पचार – पसर के लिए शुभ दायी साबित नहीं दिखाई दे रहे है जिस कारन इनको अपनी कुंडली में बैठे ग्रहो जैसे सर्व प्रथम कुंडली में बैठे वाणी करक गृह बुध को प्रबल व समाधान करना होगा और साथ ही राजनितिक का स्वामी शनि गृह जो कुंडली में नीच राशि का स्थित है उसको उच्चा स्टार तक मजबूत करना होगा तभी इनका राजनीकत स्थान प्रबल व ये विजय की प्राप्ति कर सकेंगे
यदि मेरे शब्दों से किसी को ठेस पहुंचे तो छमा चाहूंगा।  ( ज्योतिषाचार्य सुनील बरमोला)

 

 

4 टिप्पणी

  1. […] वर्तमान समय में भारत वर्ष के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) का जन्म 17 सितम्बर सन् 1950 रविवार  के दिन गुजरात राज्य के एक छोटे से कस्बे मेहसाना में हुआ था। उस समय उनका परिवार एक गरीब अवस्था में व्यतीत कर रहा था । ज्योतिषशास्त्र के अनुसार श्री नरेन्द्र मोदी जी का जन्म वृश्चिक लग्न व वृश्चिक राशि के साथ शनि की महादशा में हुआ था जो कि सन् 1961 तक उनके जीवन को प्रभावित करती रही। नरेन्द्र मोदी जी की कुंडली में एक मुखिया  का रूप दर्शाती जो आज सबके सामने प्रत्यक्ष रूप से सबके सामने विराजित है। नरेन्द्र मोदी जी जन्म के समय से शनि की गर्भ महादशा ने उनको तेज दिमाग, चतुर, चालाक व अपने काम के प्रति अति  पुणता प्रदान की परंतु शनि के साथ शुक्र के मेल ने उनकी किस्मत को चार चाँद लगा दिए क्योकि दसवे घर में बैठे शनि, शुक्र का मेल इन्सान को एक अच्छी सोच का मालिक बनाता है और साथ ही साथ जातक को प्रसिद्ध व विश्वविख्यात बना देता है। श्री नरेन्द्र मोदी की जन्म कुंडली के पहले घर में बैठे चंद्र मंगल के योग ने इनको देश के प्रति अपना प्रेम व्यक्त करवाता है और व्यक्ति को मेहनती बनाता है तथा इसी शनि की महादशा और राहु की युति जो कि पाँचवे घर की है जिसकी वजह से पिता को अति कष्टों का सामना करवाया साथ ही श्री नरेन्द्र मोदी को अपने पिता की चाय की दुकान में काम भी करवाया। परन्तु कुंडली में बने शुभ योग के कारन उन्होंने देश के प्रति अपनी जागरूकता जगी जिस कारन उन्होंने फैसला किया और अपना घर त्याग दिया। आज के समय पर उच्च स्तर पर बैठे श्री नरेन्द्र मोदी का नाम सदैव ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अजर व अमर रहेगा व आगे आने वाला समय इनका और भी उज्जवल व प्रकाश की तरह फलता हुआ दिखाई दे रहा है जो सम्पूर्ण विश्व के लिए शुभ सूचक दिखाई दे रहा है। राहुल गांधी कुंडली और राशिफल […]

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here