जानिये राम जन्मभूमि (अयोध्या) विवाद के कुछ ज्योतिषीय तथ्य, कब मिलेगी विजय ?

राम जन्मभूमि (अयोध्या) विवाद में कब मिलेगी विजय ? ज्योतिषीय तथ्य के अनुसार Ram Janam Bhoomi

जानिये राम जन्मभूमि (अयोध्या) विवाद के कुछ ज्योतिषीय तथ्य, कब मिलेगी विजय ? (ज्योतिषाचार्य सुनील बरमोला जी द्वारा)

राम जन्मभूमि या अयोध्या नगरी कहें जो की भारत में एक लंबे समय से लंबित सामाजिक-धार्मिक, कानूनी और राजनीतिक मामलों प्रमुख स्थान बनाये हुयी है। मुद्दा अयोध्या में भूमि की साजिश के लिए हिंदुओं के दावों के चारों ओर घूमता है, जिसे पारंपरिक रूप से भगवान राम के जन्मस्थान के रूप में माना जाता है, जो वर्तमान में बाबरी मस्जिद को ध्वस्त करने के खंडहर के स्थान पर विवादित है।

1528 ईस्वी में, बाबरी मस्जिद, बाबर के आदेश पर, अवध क्षेत्र के गवर्नर मीर बाकी द्वारा बनाया गया था, जो भगवान राम में एक पूर्व विद्यमान मंदिर नष्ट हो गया था। इस मस्जिद को मस्जिद-ए-जन्मास्थन और बाद में बाबरी मस्जिद (बाबर के मस्जिद) के रूप में जाना जाने लगा।

Image result for ram janam bhoomi

दिलचस्प रूप से वर्ष 1528 ईस्वी के दौरान बृहस्पति मकर राशि का था यानी मकर यह संकेत है जो भारत को एक महान ज्योतिषी वाराहमहिहिरा के रूप में दर्शाता है। स्थानांतरण शनि उस मेष राशि में था, और पूर्ण दृष्टि से मकर राशि
यानि अपने घर को प्रभावित करता था। जो की एक विवाद का योग बना रहा था।

अयोध्या विवाद में आधुनिक समय में राम जन्माभूमि के मामले में हिंदुओं और मुसलमानों के बीच हिंसा का पहला दर्ज मुद्दा 1853 में हुआ था जब एक हिंदू संप्रदाय निर्मोहिस ने राम मंदिर बनाने के लिए संरचना का दावा किया था। 1853-55 के दौरान दोनों समुदायों के बीच हिंसक संघर्षों की कई घटनाओं के बाद, ब्रिटिश सरकार ने तब शासन किया।

Related image

राम जन्मभूमि से जुड़े क़ानूनी मुद्दे के ज्योतिषीय पहलु

वर्तमान परिदृश्य में चल रहे अयोध्या राम मंदिर भारत के सुप्रीम कोर्ट में अपने अंतिम चरण में है और ग्रहों के संकेतों के अनुसार इस मामले में 2018 का अंतिम चरण भी विवादों से घिरा रहेगा। परन्तु 2019 के प्रारम्भिक 3 महीनों में
सफल सुचना के अधिक योग बन रहे हैं।

न्यायाधीश का नेतृत्व भारत के मुख्य न्यायाधीश श्री दीपक मिश्रा करते हैं, जो अपना कार्यकाल पूरा करने के बाद अक्टूबर 2018 के पर सेवानिवृत्त होने जा रहे हैं। अब भारत के नींव चार्ट यानि जन्मकुंडली के अनुसार चंद्रमा में बृहस्पति का दशा अगस्त 2018 से शुरू होगा। और 27/28 जुलाई 2018 का चंद्र ग्रहण मकर राशि या मकर राशि में पड़ रहा है जो भारतीय स्वतंत्रता जन्मकुंडली का 9वां घर है।

ज्योतिष में 9वां घर विशेष रूप से धार्मिक विवादों और उच्च न्यायालयों के देशों को चिह्नित करता है। बृहस्पति ग्रह भारत वर्ष की जन्मकुंडली के अदालत के मामलों या विवादों के 6 घर में है, बृहस्पति कुंभ राशि को पहलू दे रहा है जो राशी संकेत है धार्मिक स्थानों और मंदिरों। पारगमन में मंगल और केतु मकर राशी में देश की धार्मिक नीव अयोध्या राम मंदिर बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले के 9 वें घर में जा रहे हैं।

Image result for ram mandir kaisa hoga

ग्रहों के अनुसार संभावना है कि अदालत हिंदू मुकदमे के पक्ष में अपना समर्थन दे सकती है। धनु राशि से स्थानांतरित शनि अपने पहलू से संकेत करता है। जिसका मतलब ज्योतिष गणना के अनुसार भगवान राम जन्मभूमि अपना स्थान प्राप्त कर सकती है। इस प्रकार सभी ग्रहों के संकेत अयोध्या राम मंदिर के पक्ष में निर्णायक निर्णय दिखा रहे हैं।

भगवान श्री राम के अन्य मंदिर देखने के लिए क्लिक करें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here