शिक्षक दिवस से जुड़ी कुछ आध्यात्मिक कथायें

शिक्षक दिवस से जुड़ी कुछ आध्यात्मिक कथायें (ज्योतिषाचार्य सुनील बारमोला द्वारा)

शिक्षक दिवस से जुड़ी कुछ आध्यात्मिक कथायें

 

बंदउँ गुरु पद पदुम परागा। सुरुचि सुबास सरस अनुरागा॥

अमिअ मूरिमय चूरन चारू। समन सकल भव रुज परिवारू॥

अर्थात – मैं गुरु महाराज के चरण कमलों की रज की वंदना करता हूं, जो सुरुचि (सुंदर स्वाद), सुगंध तथा अनुराग रूपी रस से पूर्ण है। वह अमर मूल (संजीवनी जड़ी) का सुंदर चूर्ण है, जो सम्पूर्ण भव रोगों के परिवार को नाश करने वाला है।

पौराणिक कथा –

पौराणिक कथाओं के अनुसार एकलव्‍य एक बहादुर बालक था। उसके पिता का नाम हिरण्‍यधनु था, जो उसे हमेशा आगे बढ़ने की सलाह देते थे। एकलव्‍य को धनुष-बाण बहुत प्रिय था। लेकिन जंगल में उम्‍दा धनुष और बाण न होने के कारण एक दिन वह धनुर्विद्या सीखने के उद्देश्य से गुरु द्रोणाचार्य के आश्रम में गया और गुरु द्रोणाचार्य के द्वारा ,धनुर्विद्या न सीखने पर एकलव्य ने दृढ संकल्प ले लिया कि मुझे धनुर्विद्या सीखनी है वह एकांत में जाकर गुरु द्रोणाचार्य की मिट्टी की मूर्ति बनाई और मूर्ति की ओर एकटक देखकर ध्यान करके उसी से प्रेरणा लेकर वह धनुर्विद्या सीखने लगा। मन की एकाग्रता तथा गुरुभक्ति के कारण उसे उस मूर्ति से प्रेरणा मिलने लगी और वह धनुर्विद्या में वह बहुत आगे बढ़ गया।

Image result for एकलव्य

एकलव्य की परीक्षा व गुरुदक्षिणा –

एक बार गुरु द्रोणाचार्य, पांडव एवं कौरव को लेकर धनुर्विद्या का प्रयोग करने अरण्य में आए। उनके साथ एक कुत्ता भी था, जो थोड़ा आगे निकल गया। कुत्ता वहीं पहुंचा जहां एकलव्य अपनी धनुर्विद्या का प्रयोग कर रहा था। एकलव्य के खुले बाल एवं फटे कपड़े देखकर कुत्ता भौंकने लगा। एकलव्य ने कुत्ते को लगे नहीं, चोट न पहुंचे और उसका भौंकना बंद हो जाए इस ढंग से सात बाण उसके मुंह में थमा दिए।

कुत्ता वापिस वहां गया, जहां गुरु द्रोणाचार्य के साथ पांडव और कौरव थे। तब अर्जुन ने कुत्ते को देखकर कहा- गुरुदेव, यह विद्या तो मैं भी नहीं जानता। यह कैसे संभव हुआ? आपने तो कहा था कि मेरी बराबरी का दूसरा कोई धनुर्धारी नहीं होगा, किंतु ऐसी विद्या तो मुझे भी नहीं आती।’

Related image

द्रोणाचार्य ने आगे जाकर देखा तो वहा हिरण्यधनु का पुत्र गुरुभक्त एकलव्य था।

द्रोणाचार्य ने पूछा- ‘बेटा! यह विद्या कहां से सीखी तुमने?’

एकलव्य- ‘गुरुदेव! आपकी ही कृपा से सीख रहा हूं।’

द्रोणाचार्य तो वचन दे चुके थे कि अर्जुन की बराबरी का धनुर्धर दूसरा कोई न होगा। किंतु यह तो आगे निकल गया। अब गुरु द्रोणाचार्य के लिए धर्मसंकट खड़ा हो गया।

एकलव्य की अटूट श्रद्धा देखकर द्रोणाचार्य ने कहा- ‘मेरी मूर्ति को सामने रखकर तुमने धनुर्विद्या तो सीख ली, किंतु मेरी गुरुदक्षिणा कौन देगा?’

एकलव्य ने कहा- ‘गुरुदेव, जो आप मांगें?’

द्रोणाचार्य ने कहा- तुम्हें मुझे दाएं हाथ का अंगूठा गुरुदक्षिणा में देना होगा।’

एकलव्य ने एक पल भी विचार किए बिना अपने दाएं हाथ का अंगूठा काटकर गुरुदेव के चरणों में अर्पण कर दिया।

धन्य है एकलव्य जो गुरुमूर्ति से प्रेरणा पाकर धनुर्विद्या में सफल हुआ और गुरुदक्षिणा देकर दुनिया को अपने साहस, त्याग और समर्पण का परिचय दिया। आज भी ऐसे साहसी धनुर्धर एकलव्य को उसकी गुरुनिष्ठा और गुरुभक्ति के लिए याद किया जाता है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here