वामन अवतार – भगवान विष्णु का पांचवां अवतार

दशावतारम भगवान विष्णु के दस प्रमुख अवतारों को संदर्भित करता है। भगवान विष्णु समय-समय पर धरती पर अवतार लेकर बुरी शक्तियों को मिटाते हैं और धर्म की पुनर्स्थापना करते हैं। भगवान विष्णु का दूसरे युग का पहला अवतार वामन अवतार था। वामन, बौना, भगवान विष्णु के पांचवे अवतार हैं। आदित्य के बारहवें, वे भगवान इंद्र के छोटे संस्करण हैं और उपेंद्रप्लस त्रिविक्रम के रूप में भी पहचाने जाते हैं।

जानिए क्यों भगवान विष्णु ने लिया वामन अवतार

शुक्राचार्य ने बलि को विभिन्न यज्ञों को करने और अपनी शक्तियों को वापस पाने की सलाह दी। उन्होंने ऋषि की देखरेख में यज्ञों को स्वीकार किया। भगवान इंद्र बलि से डर गए थे क्योंकि वह अपनी सभी शक्तियों को यज्ञों के माध्यम से पुन: प्राप्त कर रहे थे। भगवान इंद्र फिर विष्णु के पास पहुंचे और मदद मांगी। भगवान विष्णु ने जवाब दिया “सब कुछ जल्द ही गिर जाएगा, शान्ति बनाये रखें”।
आप ये भी पढ़ना पसंद करेंगेराम की पूजा घर में कैसे करें

वामन अवतार की प्रामाणिक कथा

वामन अवतार

एक बार दैत्यराज बलि ने इंद्र को परास्त कर स्वर्ग पर अधिकार जमा लिया था। पराजित इंद्र की दयनीय स्थिति को देखकर उनकी मां अदिति बहुत दुखी हुईं। उन्होंने अपने पुत्र के उद्धार के लिए विष्णु की आराधना की।

उनसे प्रसन्न होकर विष्णु प्रकट हुए और बोले – हे देवी! चिंता मत करो। मैं तुम्हारे पुत्र के रूप में जन्म लेकर इंद्र को उसका खोया राज्य दिलाऊंगा। समय आने पर उन्होंने अदिति के गर्भ से वामन के रूप में अवतार लिया। उनके ब्रह्मचारी रूप को देखकर सभी देवता और ऋषि-मुनि आनंदित हो उठे।

एक दिन भगवान वामन को पता चला कि राजा बलि स्वर्ग पर स्थायी अधिकार जमाने के लिए अश्वमेध यज्ञ करा रहा है। यह जानकर वामन वहां पहुंचे। बलि को ब्राह्मण बने भगवान विष्णु पर दया आई और पूछा की तुम्हारे माँ बाप कौन है तो जवाब मिला की मैं अनाथ हूँ मेरा कोई नही है।

वामन और बलि के बीच बातचीत – बलि का तीन पग दान

भगवान से बलि ने पूछा की जो भी तुम्हे चाहिए मैं दूंगा मांगो तुम्हे क्या चाहिए?
तब वामन ने तीन पग भूमि मांगी,
इस्पे बलि ने फिर पूछा सिर्फ तीन पग भूमि?
इस पर वामन चुप रहे।
बलि ने उनसे और अधिक मांगने का आग्रह किया, लेकिन वामन अपनी बात पर अड़े रहे।
इस पर बलि ने हाथ में जल लेकर तीन पग भूमि देने का संकल्प ले लिया।
संकल्प पूरा होते ही वामन का आकार बढ़ने लगा और वे वामन से विराट हो गए।

उन्होंने एक पग से पृथ्वी और दूसरे से स्वर्ग को नाप लिया। तीसरे पग के लिए बलि ने अपना मस्तक आगे कर दिया। वह बोला- प्रभु, सम्पत्ति का स्वामी सम्पत्ति से बड़ा होता है। तीसरा पग मेरे मस्तक पर रख दें। सब कुछ गंवा चुके बलि को अपने वचन से न फिरते देख वामन प्रसन्न हो गए। उन्होंने ऐसा ही किया और बाद में उसे पाताल का अधिपति बना दिया और देवताओं को उनके भय से मुक्ति दिलाई।
आप ये भी पढ़ना पसंद करेंगेकाली जीभ का होना ईश्वर के द्वारा एक अभिशाप या फिर एक दुर्लभ बीमारी

विष्णु का पहला मानव अवतार

कश्यप ऋषि की पत्नी अदिति देवमाता कही जाती है क्योंकि वो देवताओ की माँ है जिनमे इंद्र सूर्य और आदित्य भी शामिल है, वो बारह वर्षो से तपस्या कर रही थी भगवान को अपने पुत्र रूप में पाने के लिए। हालाँकि उनका मुख्य उदेश्य पुत्र इंद्र को पुनः राज पात दिलाना था।

तब भगवान प्रसन्न हुए और उनके पुत्र रूप में प्रकट हुए, इस पर देवताओ ने उनका स्वागत किया और वो श्रवण मास की द्वादशी के दिन अभिजीत नक्षत्र में प्रकटे थे। सूर्य ने उन्हें गायत्री मन्त्र सिखाया, देवगुरु बृहस्पति ने उन्हें छाता दिया, अगस्त्य ने मृगचर्म, मरीचि ने पलाश का दंड, आंगिरस ने वस्त्र ऐसे सब ने कुछ न कुछ दिया तो माँ ने उन्हें लाल रंग की लंगोट दी।

वामन अवतार से संदेश

वामन अवतार का उद्देश्य उन देवताओं की रक्षा करना है जो बलि के बाद से बेघर हुए हैं। जब एक बार आप अपने अहंकार को बहा देते हैं और पूरी तरह से सर्वोच्च भगवान के चरणों में समर्पण करते हैं, तो कुछ भी नहीं है जिसके बारे में चिंता कर सकते हैं और कुल सुरक्षा प्राप्त करेंगे।
आप ये भी पढ़ना पसंद करेंगेप्रभु हनुमान को क्या-क्या पसंद है

ओणम क्यों मनाया जाता है

बलि को एक वरदान दिया गया जिससे उसे प्रत्येक वर्ष में एक बार अपने लोगों से मिलने का मौका मिला। इसलिए, यह माना जाता है कि राजा बलि अपने राज्य में यह देखने के लिए जाते हैं कि क्या उनकी प्रजा खुश और संतुष्ट है। इसलिए, लोग अपने घरों को पूकोलम से सजाते हैं और वल्लमकाली, पुली काली, काई कोट्टू काली जैसी सामूहिक गतिविधियों में भाग लेते हैं और ओणम साधना तैयार करते हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here