प्रभु हनुमान को क्या-क्या पसंद है

वैसे तो हर किसी के जीवन में भगवान का बहुत महत्व होता हैं। भगवान हनुमान के त्योहारों को बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है और चारों तरफ एक अलग ही खुशी का माहौल बना होता है। विशेष रूप से भारतीय राज्यों महाराष्ट्र, गुजरात, मध्य प्रदेश, गोवा, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और कर्नाटक में। आइए जानते हैं प्रभु हनुमान की पसंदीदा चीजों के बारे में। हनुमानजी को इमरती, गुड़ के लड्डू, केसर-भात, गुड़-चने का प्रसाद पान का बीड़ा, और पंच मेवा बहुत पसंद हैं।

भगवान हनुमान को क्या पसंद है

जैसा कि आप जानते हैं कि भगवान हनुमान को लड्डू पसंद है, इसीलिए हर मंगलवार को उनके पसंदीदा भोजन के साथ भगवान हनुमान की पूजा करते हैं। ऐसी कई चीजें हैं जो भगवान हनुमान को प्रसन्न करने के लिए अर्पित करना चाहिए जिससे हमारी प्रत्येक मनचाही इच्छा पूरी हो।

आप इसे पढ़ना भी पसंद कर सकते हैं: क्यों भगवान हनुमान को संकटमोचन के रूप में जाना जाता है

भगवान हनुमान पसंदीदा भोजन

  • इमरतीइमरती का भोग लगाने से संकटमोचन बहुत ज्यादा प्रसन्न हो जाते हैं। आपकी जो भी मनोकामनाएं हैं, वह जरूर पूरी हो जाएंगी। मंगलवार के दिन हनुमानजी को इमरती चढ़ा लें।
  • गुड़ के लड्डूहनुमानजी को 3 तरह के लड्डू पसंद हैं एक केसरिया बूंदी लड्‍डू, दूसरा बेसन के लड्डू और तीसरा मलाई-मिश्री के लड्‍डू। सबसे ज्यादा उन्हें बेसन के लड्‍डू पसंद हैं। लड्डू चढ़ाने से हनुमानजी भक्तों को दे देते हैं मनचाहा वरदान और उसकी मनोकामना पूरी कर देते हैं।
  • केसर-भात: उज्जैन में मंगलनाथ पर केसर-भात से मंगल की शांति होती है। हनुमानजी को भी केसर-भात का भोग लगाया जाता है। इससे हनुमानजी बहुत जल्द प्रसन्न होते हैं। हर तरह के संकटों का समाधान हो जाता है।
  • गुड़-चने का प्रसाद: हनुमानजी को गुड़ और चने का प्रसाद तो अक्सर चढ़ाया ही जाता है। यह मंगल का उपाय भी है। इससे मंगल दोष मिटता है। यदि आप कुछ भी चढ़ाने की क्षमता नहीं रखते या किसी और कारण से चढ़ा नहीं पाते हैं तो सिर्फ गुड़ और चना ही चढ़ाकर हनुमानजी को प्रसन्न कर सकते हैं।
  • पान:अकसर आपने सुना होगा की एक प्रचलित कहावत की ‘बीड़ा उठाना’। इसका मतलब ये है कि कोई महत्वपूर्ण या जोखिमभरा काम करने का उत्तरदायित्व अपने ऊपर ले लेना। अगर आपके जीवन में कोई बहुत बड़ा संकट है या कोई ऐसा काम है जिसको करना आपके बस का नहीं है, तो आप अपनी जिम्मेदारी हनुमानजी को सौंप दें। तो आप हनुमान जी को पान का बीड़ा अर्पित करें। रसीला बनारसी पान चढ़ाकर मांग लीजिए मनचाहा वरदान। आपकी सारी इच्छा पूरी होगी| हनुमान जी बहुत भोले है वह अपने भक्तो को कभी भी दुख नही पहुचा सकते है| और हनुमान जी को पान बहुत पसंद है|
  • पंच मेवा: काजू, बादाम, किशमिश, छुआरा, खोपरागिट पंचमेवा के नाम से जाने जाते हैं। इन सब का भी हनुमानजी को भोग लगाया जाता है। क्योंकि हनुमान जी को यह बहुत पसंद है|

आप यह भी पढ़ना पसंद कर सकते हैं: प्रभु हनुमान को क्या-क्या पसंद है

भगवान हनुमान का पसंदीदा फूल

चमेली: चमेली भगवान हनुमान का पसंदीदा फूल है। हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए आपको उन्हें पांच चमेली के फूल चढ़ाने चाहिए। भगवान हनुमान को सिंदूर या सिंदूर के साथ चमेली का तेल चढ़ाने से भी आपके जीवन से बुराइयों को दूर करने में मदद मिलती है। हनुमान जी को लाल और पिला रंग का फूल बहुत पसंद है। माना जाता है की हनुमान जी को लाल और पिले रंग के फूल चढ़ाने से हनुमान जी बहुत प्रसन्न हो जाते है।

भगवान हनुमान का पसंदीदा रंग

केसर भगवान हनुमान का पसंदीदा रंग है। उसे जल्द प्रसन्न करने के लिए, उसे विशेष रूप से पूर्णिमा तिथि पर केसरिया या लाल झंडा भेंट करना चाहिए।

सिंदूर

भगवान राम के परम भक्‍त श्री हनुमान बल, बुद्धि और विद्या प्रदान करने वाले हैं। सिंदूर उन्‍हें अति प्रिय है। भक्‍त बड़े प्रेम से अपने आराध्‍य श्री हनुमान को सिंदूर चढ़ाते है। मान्‍यता है कि सिंदूर चढ़ाने से बजरंग बल‍ि बेहद प्रसन्‍न होते हैं और अपने भक्‍तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण कर देते हैं। सिंदूर को सुख, सौभाग्‍य और संपन्‍नता का प्रतीक माना जाता है। यह सिन्दूर नारंगी रंग का होना चाहिए।

हनुमान जी की आराधना करने के लिए सर्वश्रेष्ठ दिन (पसंदीदा त्योहार)

मंगलवार का दिन हनुमान जी की उपासना के लिए सर्वोत्म माना जाता है और इस दिन देवालय में भक्तों का अंबार लगा होता है। बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए कोई मंत्र जाप करता है तो कोई चालीसा या हनुमानाष्टक का पाठ करता नज़र आता है लेकिन बहुत कम लोगों को मालूम है कि कौन से संकट या कष्ट के लिए हनुमान के कौन से मंत्र या चौपाई का जाप करना चाहिए।

हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार चैत्र शुक्‍ल पूर्णिमा के दिन ही हनुमान जयंती मनाई जाती है| कैलेंडर के अनुसार हनुमान जयंती हर साल मार्च या अप्रैल के महीने में ही मनाई जाती है। इस बार हुनमान जयंती 8 अप्रैल को मनाई जा रही है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here