Coldest Place: दुनिया की 10 सबसे ठंडी जगह, बर्फ पिघलाकर जहां पानी पीते हैं लोग

भारत में पारा 15-20 डिग्री सेल्सियस नीचे क्या चला जाए, लोग ठंड के मारे कांपना शुरू कर देते हैं. यहां 2-3 डिग्री सेल्सियस तापमान का मतलब ठिठुरने वाली सर्दी होती है. जबकि दुनिया में ऐसी कई जगह हैं, जहां इतनी ठंड (Coldest place on earth) पड़ती है क‍ि लोग पानी पीने के लि‍ए भी बर्फ पिघलाते हैं. इसके बावजूद लोगों ने ऐसे परिवेश में ढलना और जीना सीख लिया है. आइए आज आपको दुनिया की 10 सबसे ठंडी जगहों के बारे में बताते हैं. आइए जानिए नैचुरल तरीकों से मिलेगी राहत.

उलानबाटार मंगोलिया- मंगोलिया की राजधानी उलानबटार दुनिया के सबसे ठंडे इलाकों में शुमार है. यहां तापमान कभी -16 डिग्री सेल्सियस से ऊपर नहीं जाता है. मंगोलिया की तकरीबन आधी आबादी उलानबाटार में ही रहती है. यहां के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल और म्यूजियम देखने टूरिस्ट दूर-दूर से आते हैं.

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

वोस्टोक वैदर स्टेशन, अंटार्कटिका- अंटार्कटिका स्थित रशिया का ये रिसर्च स्टेशन दुनिया की सबसे ठंडी जगहों में से एक है. 21 जुलाई 1983 को यहां तापमान -89.2 डिग्री सेल्सियस तक गया था. गर्मी के मौसम में भी यहां हालात में ज्यादा बदलाव नहीं होता है. उस वक्त भी तापमान लगभग -32 डिग्री टेंपरेचर पर रहता है.

माउंट डेनाली, अलास्का- समुद्र तल से 6,190 मीटर ऊंचा माउंड डेनाली उत्तरी अमेरिका का सबसे ऊंचा पर्वत है. साल 2003 में यहां तापमान -83 डिग्री सेल्सियस गया था. इस पर्वत की चोटी साल के 12 महीने बर्फ और ग्लेशियर से ढकी रहती है.

वेरखोयांस्क, रूस- उत्तरी रूस में स्थित वेरखोयांस्क भी बेहद ठंडी जगहों में से एक है. जनवरी में यहां औसत तापमान -48 डिग्री सेल्सियस रहता है. आमतौर पर पारा अक्टूबर से अप्रैल के बीच शून्य के नीचे ही रहता है. गर्मियों के मौसम में थोड़ी राहत होती है, जब पारा करीब 30 डिग्री सेल्सियस के पास होता है.

इंटरनेशनल फॉल्स, मिनेसोटा, अमेरिका- इंटरनेशनल फॉल्स, मिनेसोटा (अमेरिका) की सबसे ठंडी जगह है. अपने न्यूनतम तापमान के चलते ये जगह ‘आइसबॉक्स ऑफ द नेशन’ का खिताब भी जीत चुकी है. इंटरनेशनल फॉल्स ने आइसबॉक्स फेस्टिवल की मेजबानी करते हुए फ्रोजन टर्की बॉलिंग, स्नो स्कल्प्टिंग (बर्फ से मूर्तियां गढ़ना) और फायरवर्क्स में ये खिताब अपने नाम किया था.

फ्रेसर, कोलोराडो (अमेरिका)- समुद्र तल से 2,613 मीटर ऊंचाई पर स्थित फ्रेसर नाम की जगह पर 1,275 लोग रहते हैं. यहां का औसत तापमान 3 डिग्री सेल्सियस रहता है. ‘आइसबॉक्स ऑफ द नेशन’ के लिए खिताबी जंग में फ्रेसर दूसरा स्थान हासिल कर चुका है.

स्नैग, यूकॉन (कनाडा)- नॉर्थ अमेरिका का छोटा सा गांव स्नैग भी अपने तापमान के लिए मशहूर है. 1947 में यहां तापमान -63.9 डिग्री सेल्सियस गया था. यूकॉन कनाडा का सबसे कम आबादी वाला प्रांत है, जहां करीब 36,000 लोग रहते हैं.

rgyan app

ओइमयाकॉन, रूस- 500 लोगों की आबादी वाला ओइमयाकॉन गांव धरती की सबसे ठंडे जगहों में से एक है. यहां तापमान -71.2 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाता है.

ईस्ट अंटार्कटिका प्लैट्यू- ईस्ट अंटार्कटिका प्लैट्यू को दुनिया की सबसे ठंडी जगह माना जाता है. यहां तापमान -100 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किया जा चुका है.

लोगन पास, मॉन्टैना (अमेरिका)- समुद्र तल से 5,610 मीटर ऊंचाई पर स्थित लोगन पास का गर्मियों में तापमान 6 डिग्री सेल्सियस रहता है. 1954 में यहां का तापमान -56 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया जा चुका है. अक्टूबर से अप्रैल के बीच यहां तापमान बढ़ने की संभावना बहुत कम रहती है. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

स्रोतwww.aajtak.in
पिछला लेखबंगालः नदिया में दीवार पर लिखा- TMC के खिलाफ वोट दिया तो खून की नदी बहेगी
अगला लेखDandruff in winters: सर्दी में बढ़ रही है डैंड्रफ की समस्या? इन 4 नैचुरल तरीकों से मिलेगी राहत