चित्रा नक्षत्र में सूर्य, अर्घ्य संग लाल गुड़हल चढ़ाने से दूर होगा ग्रह दोष

सूर्य आज यानी कि शनिवार, 10 अक्टूबर को सूर्य चित्रा नक्षत्र में प्रवेश कर चुका है और 24 अक्टूबर तक सूर्य चित्रा नक्षत्र में ही रहेगा. कुछ ज्योतिषियों का मानना है कि सूर्य का यह राशि परिवर्तन पर्यावरण में भी बदलाव ला सकता है. सूर्य के मंगल ग्रह के नक्षत्र में प्रवेश से मौसम पर व्यापक प्रभाव तो पड़ेगा ही. इसके साथ ही सूर्य का चित्रा नक्षत्र में प्रवेश अर्थव्यवस्था और प्रशासनिक बदलाव लेकर आया है जोकि समय के साथ देखने को मिलेगा. सूर्य के नक्षत्र परिवर्तन का प्रभाव अलग-अलग राशियों पर भी कई तरीके से पड़ेगा. आइए जानिए गुरु नानक के ऐसे मुस्लिम दोस्त.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार सूर्य के चित्रा नक्षत्र में प्रवेश से मेष, वृष, कर्क, वृश्चिक, धनु और मकर राशि वालों के लिए अच्छा समय आएगा. वहीं, सिंह, कन्या और मीन राशि वालों के लिए समय सामान्य रहेगा. वहीं मिथुन, तुला और कुंभ राशि वाले लोगों के लिए समय थोड़ा भारी हो सकता है लेकिन चिंता करने की आवश्यकता नहीं है, बस सावधानी बरतें.बता दें कि इससे पहले सूर्य हस्त नक्षत्र में था. जानें सूर्य के प्रभाव से बचने के कुछ तरीके…

rgyan app

सूर्य आज चित्र नक्षत्र में प्रवेश कर चुका है. चित्रा नक्षत्र का स्वामी मंगल ग्रह होता है.सूर्य के इस नक्षत्र में आने पर अशुभ प्रभाव से मुक्ति के लिए जातकों को मंगल के पौधे मदार और पीपल में जल देना चाहिए. सूर्योदय में सूर्य देव को प्रणाम करें. तांबे के लोटे में स्वच्छ जल भरकर सूर्य देव को अर्पित करें. सूर्य देव को लाल रंग का पुष्प चढ़ाएं. अगर आपकी कुंडली में सूर्य नीच का है तो आप इस प्रभाव को समाप्त करने के लिए सूर्य को लाल गुड़हल का फूल अर्पित कर सकते हैं. ऐसा करने से आपका दोष कट जाएगा. (Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.) और अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here