किसानों से बातचीत फेल होने के बाद सिंधु बॉर्डर पर बढ़ाई गई फोर्स, नोएडा लिंक रोड बंद

नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन 11वें दिन में प्रवेश कर गया है. दिल्ली-हरियाणा पर स्थित सिंधु बॉर्डर पर हजारों किसानों की भीड़ पिछले 10 दिनों से 24 घंटे से दिन रात डटी है. किसानों का प्रदर्शन गाजीपुर बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर पर भी जारी है. इसके अलावा बुराडी ग्राउंड पर भी कुछ किसान प्रदर्शन कर रहे हैं. आइए जानिए व्हाइट हाउस में 120 साल पहले आ गई थी बिजली.

किसानों और सरकार के बीच 5 राउंड की बात हो चुकी है, लेकिन गतिरोध जारी है. अब किसानों ने 8 दिसंबर को भारत बंद का ऐलान किया है. इसी के साथ सबकी निगाहें अब 9 दिसंबर को सरकार के साथ होने वाली किसानों पर बातचीत पर टिकी है.

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

दिल्ली पुलिस का ट्रैफिक अपडेट

दिल्ली पुलिस ने राजधानी में ट्रैफिक मैनेजमेंट की जानकारी देते हुए कहा है कि कालिंदी कुंज, सूरज कुंड, बदरपुर और आयानगर बॉर्डर दोनों ओर खुला हुआ है.

हरियाणा जाने के लिए धंसा, दरौला, कापसेहड़ा, रजोकरी एनएच-8, बिजवासन, पलाम विहार और दुंढेरा बॉर्डर का इस्तेमाल किया जा सकता है.

नोएडा लिंक रोड पर चिल्ला बॉर्डर को बंद कर दिया गया है. पुलिस के मुताबिक दिल्ली आने के लिए नोएडा लिंक रोड का इस्तेमाल न करें बजाय इसके डीएनडी का इस्तेमाल करें.

सिंधु बार्डर पर निहंग सिखों ने मोर्चा संभाला

सिंघु बॉर्डर पर धरने पर बैठे किसानों की संख्या हर रोज बढ़ रही है तो यहां फोर्स की तैनाती में भी इजाफा हो रहा है. दिल्ली पुलिस की एंटी टेरर स्क्वाड, स्पेशल सेल के सीनियर अफसर भी अब ड्यूटी में तैनात किए गए हैं. ये अधिकारी बॉर्डर पर सुरक्षा व्यवस्था की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं.

बॉर्डर पर आईटीबीपी, आरएएफ, सीआरपीएफ के जवान तैनात किए गए है. यहां पर नए सिरे से सीमेंटेड बैरिकेडिंग की जा रही है.

rgyan app

सिंघु बॉर्डर पर एक तरफ RAF के जवानों को फ्रंटलाइन पर तैनात किया गया है तो दूसरी ओर किसानों की तरफ से फ्रंट लाइन पर निहंग सरदार तैनात हैं. हांथों में तलवार कृपाण लिए, घोड़े के साथ मौजूद निहंग सरदार वक्त वक्त पर तलवारबाजी दिखा रहे हैं.

हरियाणा सरकार लगाएगी मेडिकल कैंप

हरियाणा का स्वास्थ्य विभाग हरियाणा में जहां किसान धरना दे रहे हैं वहां पर मेडिकल हेल्थ कैंप लगा रहा है. इन स्थानों पर डॉक्टर दवाइयां एम्बुलेंस सब मौजूद रहेंगी. ताकि आपात स्थिति में किसानों को चिकित्सा सेवा दी जा सके. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

स्रोतwww.aajtak.in
पिछला लेखVastu Tips: अगर बच्चों का पढ़ाई में नहीं लगता है मन तो घर में लगाएं तोते की तस्वीर, होंगे और भी फायदे
अगला लेखव्हाइट हाउस में 120 साल पहले आ गई थी बिजली, डरते थे राष्ट्रपति, दिलचस्प है कहानी