नतीजों पर बोले तेजस्वी यादव- जनता का फैसला हमारे साथ, कुर्सी छोड़ें नीतीश कुमार

बिहार में महागठबंधन को हार का सामना करना पड़ा है, जिसके बाद अब मंथन का दौर चल रहा है. गुरुवार को पटना में पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के आवास पर महागठबंधन के नेताओं का जमावड़ा लगा. इस दौरान सभी दलों के नेता बैठक में पहुंचे. महागठबंधन की बैठक में राजद नेता तेजस्वी यादव ने सभी नेताओं को संबोधित भी किया. महागठबंधन की बैठक में तेजस्वी यादव को गठबंधन का नेता चुना गया है. आइए जानिए एक और राहत पैकेज का दिवाली गिफ्ट मिलेगा?

Not-satisfied-with-your-name-or-number

बैठक के बाद तेजस्वी यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि जनता का फैसला महागठबंधन के पक्ष में है, वहीं चुनाव आयोग का नतीजा एनडीए के पक्ष में गया है. 2015 में भी हमारे पक्ष में फैसला आया था, लेकिन बीजेपी चोर दरवाजे से सरकार में आ गई थी. हमने चुनाव में गरीबी, मजदूर, शिक्षा, विकास का मसला उठाया.

तेजस्वी यादव बोले कि देश का युवा, किसान, मजदूरों में आक्रोश है. चुनाव में पीएम मोदी, बिहार के सीएम और कई लोग एक तरफ रहे लेकिन 31 साल के युवा को रोकने में असफल रहे. ये लोग राजद को सबसे बड़ी पार्टी होने से कोई रोक नहीं पाया. तेजस्वी यादव ने कहा कि आज नीतीश कुमार तीसरे नंबर पर आ गए हैं, बिहार के लोगों ने जो जनादेश दिया वो बदलाव का है.

महागठबंधन की बैठक में तेजस्वी यादव ने दावा किया है कि सरकार महागठबंधन की ही बनेगी, सभी विधायकों को पूरे महीने पटना में रहने को भी कहा गया है.

दीपांकर भट्टाचार्य ने उठाए कांग्रेस पर सवाल

महागठबंधन की बैठक में हिस्सा लेने पहुंचे CPI (M-L) नेता दीपांकर भट्टाचार्य ने नतीजों पर टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि इस बार कांग्रेस का स्ट्राइक रेट काफी कमजोर रहा, 70 सीटों को संभालना कांग्रेस के लिए मुश्किल हो गया था. दीपांकर बोले कि अगर कांग्रेस को कम सीटें मिलतीं और वो सीटें राजद-लेफ्ट में आतीं तो नतीजा बेहतर होता.

लेफ्ट नेता ने कहा कि बिहार में हम हमेशा से ही मौजूद थे, बस इस बार अधिक सीटें मिली हैं. हमारा प्रदर्शन गठबंधन में अच्छा रहा है. लेकिन हम एनडीए को बाहर नहीं कर सके, ऐसे में हम कहेंगे कि मिशन में फेल हुए हैं.

गौरतलब है कि इस बार महागठबंधन सिर्फ 110 सीटें ही जीत पाया है, जिसमें से 75 सीटें राजद, 19 सीटें कांग्रेस और 16 सीटें लेफ्ट पार्टियों के खाते में गई हैं. कांग्रेस पार्टी 70 सीटों पर चुनाव लड़ी थी और सिर्फ 19 सीटों पर जीत पाई, ऐसे में लगातार उसके प्रदर्शन पर सवाल खड़े हो रहे हैं. खुद कांग्रेस पार्टी के नेता तारिक अनवर ने इस बात को कुबूला है कि कांग्रेस के बुरे प्रदर्शन के कारण महागठबंधन की सरकार बनते-बनते रह गई. Reach out to the best Astrologer at Jyotirvid.

rgyan app

राजद की ओर से बिहार चुनाव में धांधली का आरोप भी लगाया गया. हालांकि, चुनाव आयोग की ओर से ऐसे आरोपों को नकार दिया गया है. बिहार के चीफ इलेक्शन ऑफिसर एचआर श्रीनिवास ने कहा कि चुनाव बिल्कुल सही तरीके से हुए हैं और वोटों की गिनती में भी किसी तरह की गड़बड़ी नहीं है. और अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

स्रोतwww.aajtak.in
पिछला लेखएक और राहत पैकेज का दिवाली गिफ्ट मिलेगा? वित्त मंत्री की PC थोड़ी देर में
अगला लेखDhanteras 2020: धनतेरस पर क्या है खरीदारी का शुभ मुहूर्त? पूजन विधि भी जान लें