कोयला संकट: महाराष्ट्र सरकार ने की बिजली बचाने की अपील, केंद्रीय ऊर्जा मंत्री ने कहा- नहीं है कोई कमी

मुंबई: ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने जहां देश में किसी तरह के बिजली संकट नहीं होने का दावा किया लेकिन महाराष्ट्र सरकार के बिजली विभाग ने एक प्रेस रिलीज जारी कर राज्य की जनता से बिजली की बचत करने की अपील कर दी है। रिलीज में कहा है कि कोयले की कमी का संकट गहराता जा रहा है लोडशेडिंग टालने के लिए बिजली विभाग के महावितरण कंपनी की पुरजोर कोशिश जारी है। कोयले की कमी के कारण बीजली निर्माण केंद्र के 13 यूनिट बंद हुए है। इसलिए सुबह और शाम 6 से 10 के दौरान बिजली का कम इस्तेमाल करें।

ऊर्जा मंत्री आर के सिंह का बयान

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि न तो बिजली का संकट था और न ही बिजली संकट है। इसे बेवजह बनाया जा रहा है। उन्होने कहा कि मैने टाटा पावर के प्रमुख को चेतावनी दी है कि अगर उन्होने ग्राहकों को ऐसे आधारहीन मैसेज भेजे जिससे भय फैले तो कार्रवाई की जायेगी। उनके मुताबिक गेल और टाटा पावर के द्वारा भेजे गये मैसेज गैर जिम्मेदार व्यवहार में आते हैं।

कोयले की उपलब्धता को लेकर केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि वो प्रतिदिन के हिसाब से कोयले की मॉनिटरिंग करते हैं, और चार दिन से ज्यादा औसत स्टाक हमारे पास है । उनके मुताबिक जितना स्टॉक दिन का खर्च हो रहा उतना आ रहा है। साथ ही कोल बिल्डअप भी मजबूत हो रहा है। केन्द्रीय मंत्री ने साफ कहा कि जितनी जरूरत है उतनी बिजली का उत्पादन हो रहा है।

सरकार की टाटा पावर को चेतावनी

बिजली संकट के बीच सरकार ने टाटा पावर को आज चेतावनी दी है। ऊर्जा मंत्री आर के सिंह ने आज संवाददातओं से बात करते हुए इसकी जानकारी दी। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि टाटा पावर के द्वारा ग्राहकों को मैसेज भेजे जाने से बेवजह का डर फैला है। इसके साथ ही केन्द्रीय मंत्री ने गेल के द्वारा बवाना गैस पावर प्लांट को भेजे मैसेज पर भी नाखुशी जताई है। उनके मुताबिक देश में बिजली संकट नहीं है इसके बेवजह दिखाया जा रहा है।

क्या था मैसेज में?

शनिवार को टाटा पावर ने अपने उपभोक्ताओं को एक मैसेज भेजकर बिजली की खपत समझदारी के साथ करने की सलाह दी थी। इसके लिये कंपनी ने कोयला स्टॉक में गिरावट की बात कही थी। टाटा पावर दिल्ली डिस्ट्रीब्यूशन लिमिटेड जो कि उत्तर और उत्तर पश्चिम दिल्ली में बिजली की सप्लाई करती है ने एक मैसेज में कहा कि उत्तर भारत के बिजली संयंत्रों में कोयले की सीमित उपलब्धता की वजह से दोपहर के बाद 2 बजे से 6 बजे के बीच बिजली आपूर्ति की स्थिति गंभीर रह सकती है, कृपया बिजली का सोच समझकर इस्तेमाल करें। वहीं दूसरी तरफ गेल ने बवाना गैस पावर प्लांट को मैसेज भेज कर कहा था कि वो 2 दिन के बाद गैस की सप्लाई रोक देंगे क्योंकि उनका कॉन्ट्रैक्ट खत्म हो रहा है। केन्द्रीय मंत्री के मुताबिक टाटा पावर और गेल के मैसेज से बेवजह का डर फैला है। अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतwww.indiatv.in
पिछला लेखVastu Tips: मां दुर्गा को कभी न चढ़ाएं ये फूल, देवी मां हो सकती हैं रुष्ट
अगला लेखNavratri 2021: नवरात्रि के छठे दिन होगी मां कात्यायनी की पूजा, इन मंत्रों का जाप करके समस्याओं से पाएं निवारण