Chaitra Navratri 2022: चैत्र नवरात्रि के प्रथम दिन करते हैं मां शैलपुत्री की पूजा, जानें कलश स्थापना मुहूर्त

चैत्र नवरात्रि 02 अप्रैल दिन शनिवार से प्रारंभ हो रहा है, 11 अप्रैल को इसका समापन होगा. इस साल चैत्र नवरा​त्रि पूरे 09 दिनों की है, इसे शुभ माना जाता है. चैत्र नवरात्रि के प्रथम दिन कलश स्थापना करते हैं, उसके बाद मां दुर्गा को आह्वान करते हैं. फिर नवरात्रि की पूजा प्रारंभ होती है. नवरा​त्रि घटस्थापना एक महत्वपूर्ण कार्य है, उस दौरान जौ बोना भी उसका ही हिस्सा है. कलश के नीचे उगने वाले जौ हमारे भविष्य के बारे में कुछ संकेत देते हैं. नवरा​त्रि के प्रथम दिन मां दुर्गा के प्रथम स्वरुप शैलपुत्री की पूजा करते हैं. आइए जानते हैं कलश स्थापना मुहूर्त (Kalash Sthapana Muhurat) एवं मां शैलपुत्री (Maa Shailputri) के स्वरुप के बारे में.

कौन हैं मां शैलपुत्री

मां शैलपुत्री आदिशक्ति मां दुर्गा की प्रथम स्वरुप हैं. नवरात्रि के प्रथम दिन इनकी ही पूजा करते हैं. इन्होंने पर्वतराज हिमालय के घर कन्या के रुप में जन्म लिया था. उनका नाम शैत्रपुत्री रखा गया. पौराणिक कथाओं के अनुसार, प्रजापति दक्ष ने भगवान शिव के अपमान के लिए सती और महादेव को यज्ञ में आमंत्रित नहीं किया, तो सती शिव जी के समझाने के बावजूद यज्ञ में चली गईं. वहां महादेव के अपमान से दुखी होकर यज्ञ के अग्नि कुंड में आत्मदाह कर लिया. वही सती अगले जन्म में पर्वतराज हिमालय के शैलपुत्री के नाम से प्रसिद्ध हुईं. इन्हीं को पार्वती और हेमवती भी कहते हैं. इनका विवाह भगवान शिव से हुआ.

मां शैलपुत्री का स्वरूप

मां शैलपुत्री का श्रवरुप अद्भुत है. मां शैलपुत्री बैल की सवारी करती हैं, इस वजह से उन्हें वृषारुढ़ा कहते हैं. अपने बाएं हाथ में कमल और दाएं हाथ में त्रिशूल धारण करती हैं. नवदुर्गा में यह प्रथम दुर्गा हैं.

मां शैलपुत्री की कृपा से निडरता प्राप्त होती है, भय दूर होता है. वे उत्साह, शांति, धन, विद्या, यश, कीर्ति और मोक्ष प्रदान करने वाली देवी हैं.

चैत्र नवरात्रि 2022 कलश स्थापना मुहूर्त

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा तिथि प्रारंभ: 01 अप्रैल, शुक्रवार, समय 11:53 एएम पर
चैत्र शुक्ल प्रतिपदा तिथि समापन: 02 अप्रैल, शनिवार, समय 11:58 एएम पर
कलश स्थापना का शुभ समय
02 अप्रैल, सुबह 06:10 बजे से सुबह 08:31 बजे तक
दोपहर 12 बजे से 12:50 बजे तक

अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतhindi.news18.com
पिछला लेखVastu Tips: किचन और डाइनिंग रूम से जुड़ी इन बातों को न करें नजरअंदाज़, आ सकती हैं परेशानियां
अगला लेखदैनिक राशिफल 4 अप्रैल 2022: कर्क राशि वालों को बिना सोचे-समझे नहीं देना है उधार, सिंह राशि वालों की होगी तारीफ