मनुष्य को हमेशा इस एक चीज का डटकर करना चाहिए सामना, वरना हो जाएगा आप पर हावी

आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार भले ही आपको थोड़े कठोर लगे लेकिन ये कठोरता ही जीवन की सच्चाई है। हम लोग भागदौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भरे ही नजरअंदाज कर दें लेकिन ये वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे। आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से आज हम एक और विचार का विश्लेषण करेंगे। आज का ये विचार भय पर आधारित है।

‘भय को नजदीक ना आने दो, अगर यह नजदीक आए तो इस पर हमला कर दो यानी भय से भागो मत इसका सामना करो।’ आचार्य चाणक्य

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

आचार्य चाणक्य के कहने का अर्थ है कि मनुष्य को कभी भी डर से भागना नहीं चाहिए। किसी भी चीज से अगर आप डरते हैं तो जितना आप इससे भागोगे ये आपका उतना ही पीछा करेगी। इसी वजह से हमेशा आपको डर का सामना करना चाहिए। कई बार असल जिंदगी में होता है कि मनुष्य किसी व्यक्ति अथवा किसी चीज को देखकर डरता ज्यादा है। अगर उस वक्त आपने इस डर का डटकर सामना ना किया तो वो आप पर इतना हावी हो जाएगा जिसका सामना आप जिंदगी भर नहीं कर पाएंगे।

इस स्वभाव वाले लोगों से हमेशा रहें बचके, धीरे धीरे अंदर से ही आपको कर देंगे खोखला

rgyan app

असल जिंदगी में कई बार ऐसा होता है कि मनुष्य छोटी छोटी चीजों को करने से डरता है। ये छोटी छोटी चीजें आपके डेली के रुटीन में शामिल हैं। उदाहरण के तौर पर किसी से सही बात कहने पर झिझकना, कोई आपसे गलत तरह से बात कर रहा है आपका पलटवार ना करना, कोई आपकी बेइज्जती कर रहा है फिर भी आपका चुप रह जाना, घर में शांति बनी रही इस वजह से चुप रह जाना, अपने से बड़ों का अपमान होते देख चुप रहना। ये सभी चीजें ऐसी हैं जिनका सामना कोई ना कोई रोज करता है।

किसी भी मनुष्य से इन 4 चीज़ों को हासिल करना है नामुमकिन, कोशिश करने वाले की हमेशा होगी हार
अगर आप इन सब चीजों को झेल रहे हैं और चुप्पी साध रखी है तो ऐसा ना करें। क्योंकि आपका ऐसा करना इन चीजों को ना केवल बढ़ावा दे रहा है बल्कि आपने मन में डर और गहराता जा रहा है। इसी वजह से आचार्य चाणक्य का कहना है कि भय को नजदीक ना आने दो, अगर यह नजदीक आए तो इस पर हमला कर दो यानी भय से भागो मत इसका सामना करो। अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतwww.indiatv.in
पिछला लेखVastu Tips: घर में इस दिशा में रखें पैसा, आर्थिक स्थिति में आएगा सुधार
अगला लेखKisan Andolan: किसानों ने प्रदर्शन स्थल पर ही लगाई फसल, बोले- अभी और भी फसलें बोएंगे