मनुष्य को हमेशा इन 4 चीजों पर करें जज, तभी पता चलेगा कि वो असली सोने की तरह खरा है या नहीं

आचार्य चाणक्य की नीतियां और विचार भले ही आपको थोड़े कठोर लगे लेकिन ये कठोरता ही जीवन की सच्चाई है। हम लोग भागदौड़ भरी जिंदगी में इन विचारों को भरे ही नजरअंदाज कर दें लेकिन ये वचन जीवन की हर कसौटी पर आपकी मदद करेंगे। आचार्य चाणक्य के इन्हीं विचारों में से आज हम एक और विचार का विश्लेषण करेंगे। आज का ये विचार मनुष्य का परीक्षण किस आधार पर करना चाहिए इस पर आधारित है।

‘जिस तरह से सोने का परीक्षण उसे घिसकर, काटकर, तपाकर और पीट कर किया जाता है उसी तरह मनुष्य का परीक्षण भी उसके त्याग, आचरण, गुण और उसके व्यवहार से किया जाना चाहिए।’ आचार्य चाणक्य

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

आचार्य चाणक्य के इस कथन का अर्थ है कि जब भी किसी जौहरी के पास सोना आता है तो वो आंख मूंद कर सामने वाले पर भरोसा नहीं कर लेता कि सोना असली है या फिर नकली। जौहरी कई तरह से सोने की जांच पड़ताल करता है ताकि उसे ये पता चल जाए कि उसके पास जो सोना आया है वो असली है या नहीं। अपनी ये जांच पड़ताल वो कई स्तर पर करता है। कई बार वो सोने को घिसता है, कभी उसे काटता है, कभी आग के सामने तपाता है तो कभी जरूरत के आधार पर उसे पीटता भी है।

जौहरी ये तब तक करता रहता है जब तक उसे इस बात का विश्वास नहीं हो जाता कि सोना असली है या फिर नकली। आचार्य चाणक्य का कहना है कि जिस तरह से सोने की शुद्धता की जांच जौहरी कई तरह से करता है ठीक उसी तरह से इंसान को जज करने के कुछ पैमाने होते हैं। जब भी कोई व्यक्ति किसी दूसरे व्यक्ति को परखे तो कुछ पैमानों के आधार पर परखे।

rgyan app

मनुष्य को परखने के आचार्य चाणक्य ने चार पैमाने बताए हैं। ये 4 पैमाने हैं त्याग, आचरण, गुण और व्यवहार। आचार्य का कहना है कि मनुष्य को हमेशा इन्हीं पैमानों के आधार पर परखना चाहिए, तभी आप जज कर पाएंगे कि सामाने वाला इंसान सोने की तरह खरा है या फिर खरा होने का दिखावा करता है।

कई बार मनुष्य सामने वाले को इन पैमानों के आधार पर नहीं बल्कि अपने मन मुताबिक यानी कि अगर उसे अपने अनुसार उसमें वो गुण दिखा तो वो सच्चा है वरना वो झूठा है। अगर आप भी सामने वाले को अपने बनाए इस आधार पर जज कर रहे हैं तो ऐसा ना करें। इसी वजह से आचार्य चाणक्य ने कहा है कि जिस तरह से सोने का परीक्षण उसे घिसकर, काटकर, तपाकर और पीट कर किया जाता है उसी तरह मनुष्य का परीक्षण भी उसके त्याग, आचरण, गुण और उसके व्यवहार से किया जाना चाहिए। अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतwww.indiatv.in
पिछला लेखSwami Vivekananda Jayanti 2021: आपके जीवन को सफल बनाने में मदद करेंगे स्वामी विवेकानंद के ये विचार
अगला लेखसेंसेक्स | शेयर बाजार: सुस्त शुरुआत, बैंकिंग शेयरों में दबाव से बाजार पस्त