डिप्रेशन और उदासी वाले हॉर्मोंस को चंदन करता है नियंत्रित, साथ ही चंदन लगाने से मिलती है शांति और सुकून

  • धार्मिक महत्व: चंदन से मिलते हैं समझदारी, ईमानदारी और जिम्मेदारी के गुण

चन्दन एक खास तरह की सुगन्धित लकड़ी है। जैसे-जैसे इसका पौधा बढ़ता है, वैसे ही इसके तने और जड़ों में सुगन्धित तेल का अंश बढ़ता है। चंदन के तेल का उपयोग कई हर्बल दवाइयों में होता है। एक स्टडी रिपोर्ट में बताया गया है कि  इसकी खूशबू से डिप्रेशन और तनाव वाले हॉर्मोंस भी नियंत्रित रहते हैं। धार्मिक तौर पर देखा जाए तो जब हम चन्दन भगवान को अर्पण करते हैं तो उसका भाव यह है कि हमारा जीवन भगवान की कृपा से सुगंध से भर जाए और हमारा व्यवहार शीतल रहे। चन्दन का तिलक ललाट पर या छोटी सी बिंदी के रूप में दोनों भौहों के बीच लगाया जाता है। हिन्दू धर्म में चन्दन का तिलक लगाना शुभ माना जाता है, इसका धार्मिक और औषधीय महत्व भी है।

यह भी पढ़े: उत्तराखंड के चारधाम / अब ऑन लाइन कर सकेंगे बद्रीनाथ और केदारनाथ के दर्शन,बोर्ड के लिए..

उदासी वाले हॉर्मोन को संतुलित करती है चंदनी की खुशबू
2016 में ऑस्ट्रिया के फॉर्मास्यूटिकल कैमिस्ट्री डिपार्टमेंट की एक स्टडी के मुताबिक चंदन के तेल की खुशबू से तनाव दूर होता है इससे दिमाग में सेराटोनिन और बीटा एंडोर्फिन का स्राव संतुलित तरीके से होता है, जिससे हमारी उदासी कम होती है। चंदन कई तरह की मानसिक बीमारियों से बचाता है। इसका तिलक लगाने से सिरदर्द की समस्या से भी राहत मिलती है। चंदन का तिलक लगाने और इसकी खूशबू से शांति व सुकून महसूस होता है।

चंदन से मिलते हैं समझदारी, ईमानदारी और जिम्मेदारी के गुण
काशी के पं. गणेश मिश्रा के अनुसार चंदन के तिलक से ही कोई शुभ कार्य शुरू होता है। भारतीय संस्कृति का निर्देश है कि पहले किसी भी व्यक्ति को चंदन का तिलक लगाकर सम्मानित करो और उसके बाद कोई काम करो। पं. मिश्रा का कहना है कि ऋषियों ने छोटे से चंदन के तिलक में जीवन के बड़े सारे सूत्र बताएं हैं। चंदन लगाने से मन शांत और शीतल रहता है। जिससे जीवन में सुख शांति बनी रहती है। इसको लगाने से मन में बुरे विचार नहीं आते हैं। चंदन पवित्रता का अहसास करवाता है। इसलिए चंदन का तिलक लगाने से कभी गलत काम नहीं होते। सरल भाषा में चंदन के इन गुणों को समझदारी, ईमानदारी और जिम्मेदारी कहा जाता है।

सुंदरता और बुद्धि बढ़ाने में मददगार
चन्दन का तिलक लगाने से त्वचा शुद्ध रहती है। गर्मी के दिनों में चंदन चंदन लगाने से मेधाशक्ति बढ़ती है तथा मानसिक थकावट विकार नहीं होता। त्वचा पर लाल चन्दन का प्रयोग करें तो इसके आराम और सुकून प्रदान करने वाले गुण आपको सूरज के झुलसाने वाले प्रभाव से दूर रखेंगे। चंदन को आप कंडीशनर के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह बालों को मजबूत बनाता है साथ ही इसका प्रयोग बालों को चमक व पोषण देता है।