चारधाम यात्रा शुरू, खुल गए गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट

लॉकडाउन के बीच शनिवार को उत्तरकाशी के मुखवा गांव से गंगा की उत्सव डोली गंगोत्री के लिए प्रस्थान हुई। पहली बार बिना यात्रियों के साथ लिए डोली गंगोत्री की यात्रा पर निकली है। कोरोना वायरस की सरकारी अडवाइजरी के अनुरूप औपचारिक परंपराओं का निर्वहन करते हुए सीमित संख्या में डोली के साथ पुजारियों ने गंगोत्री के लिए प्रस्थान किया।

इस समय खुलेंगे गंगोत्री के कपाट
देश में फैली महामारी के हालात को देखते सभी तरह की यात्राओं पर रोक लगी हुई है। जिसमें तीर्थ यात्रा भी शामिल है। एडवाइजरी के अनुरूप सीमित तीर्थ पुरोहितों एवं कर्मचारियों को धामों में जाने की अनुमति दी गई है। शनिवार रात्रि विश्राम भैरव घाटी स्थित भैरव मंदिर में होगा। रविवार 26 अप्रैल की सुबह भैरवघाटी से प्रस्थान कर चल विग्रह डोली गंगोत्री धाम पहुंचेगी। जहां 12 बजकर 35 मिनट पर अभिजित मुहूर्त में गंगोत्री मंदिर के कपाट खोले जाएंगे। इस अवसर पर किसी भी तीर्थयात्री को गंगोत्री जाने की अनुमति नहीं है।

यह भी पढ़े: भगवान केदारनाथ की उत्सव डोली उखीमठ से केदारनाथ के लिए रवाना, 29 को खुलेंगे कपाट

रविवार को खुलेंगे यमुनोत्री के कपाट मां गंगोत्री के कपाट खुलने के के साथ चारधाम यात्रा की शुरुआत भी हो जाएगी। यमुनोत्री धाम के कपाट भी कल अक्षय तृतीया 26 अप्रैल को दिन में 12 बजकर 41 मिनट पर खुलेंगे। रविवार सुबह विग्रह डोली शीतकालीन गद्दी स्थल खरसाली से रवाना होगी। चारधाम यात्रा विकास परिषद उपाध्यक्ष आचार्य शिव प्रसाद ‌ममगाई‌ ने बताया कि मंदिरों में पूजा-अर्चना गंगोत्री एवं यमुनोत्री पंच पण्डा पुरोहित एवं मंदिर समिति के लोगों के द्वारा होगी। उन्होंने कहा कि तीर्थ पुरोहितों के हक-हकूक पूर्ववत सुरक्षित है।

बदरी-केदार के कपाट खुलने की तैयारियां शुरू
उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड की व्यवस्थायें प्रशासनिक स्तर पर हैं‌। गढ़वाल आयुक्त/उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम बोर्ड के सीईओ रमन रविनाथ ने श्री गंगोत्री एवं यमुनोत्री के कपाट खुलने की व्यवस्थाओं के मद्देनजर उपजिलाधिकारी भटवाड़ी एवं उप जिलाधिकारी बड़कोट को निर्देशित किया है। जबकि देवस्थानम बोर्ड द्वारा श्री बदरीनाथ-केदारनाथ धाम में कपाट खुलने की व्यवस्थाओं के सफल संचालन तैयारियां शुरू कराई गई हैं। इसी क्रम में बदरी-केदार में अग्रिम दल भेजे गए हैं।

15 मई को खुलेंगे बदरीनाथ के कपाट
उत्तराखंड चार धाम देवस्थानम बोर्ड से जुड़े मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ ने बताया कि श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 15 मई को सुबह 4 बजकर 30 मिनट पर खुलेंगे। जबकि श्री केदारनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल को सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर खुलेंगे। श्री केदारनाथजी की पंचमुखी डोली 26 अप्रैल दिन रविवार को सड़क मार्ग से गौरीकुंड रवाना होगी। वहीं 27 अप्रैल को डोली लिंचोली पहुंचेगी।

29 अप्रैल को खुलेंगे केदारनाथ के कपाट
28 अप्रैल की शाम को भगवान केदारनाथजी की पंचमुखी डोली श्रीकेदारनाथ धाम पहुंच जाएगी। 29 अप्रैल सुबह 6 बजकर 10 मिनट पर श्री केदारनाथ मंदिर के कपाट खुल जाएंगे। चारों धामों में कपाट खुलने के कार्यक्रमों में कोरोना महामारी से बचाव सेतु शारीरिक दूरी तथा सरकारी एडवाइजरी का पालन किया जा रहा है।