वाराणसी: मणिकर्णिका घाट पर जलती चिताओं के बीच खेली गई भस्म से होली, जानिए इसके पीछे की प्रचलित मान्यताएं

भारत के मुख्य त्योहारों में शुमार होली का जश्न शुरू हो गया है. देशभर में होली का त्योहार बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है. हालांकि, होली मनाने के तरीके और परपंराएं देश के अधिकतर हिस्सों में काफी अलग-अलग होती हैं. होली कहीं रंगों से, कहीं फूलों से तो कहीं जलती चिताओं के बीच चिता की भस्म से खेलने का रिवाज है. वहीं, काशी में होली की शुरुआत रंगभरी एकादशी से ही हो जाती है.

astrologi report

गुरुवार को वाराणसी के मणिकर्णिका घाट पर जलती चिताओं के बीच भस्म से होली खेली गई. वीडियो में आप देख सकते हैं कि लोग बेहद जोश में चिता भस्म से होली खेलते हुए नज़र आ रहे हैं.

क्यों खेली जाती है चिता भस्म से होली?

चिता की भस्म से होली खेलने के पीछे एक प्राचीन मान्यता है कि वाराणसी के मणिकर्णिका घाट पर रंग भरी एकादशी के दूसरी के दिन भगवान शंकर यहां चिता भस्म की होली खेलने आते थे.

rgyan app

माना जाता है कि बसंत पंचमी को जब भगवान शंकर का तिलक होता है तो इसके बाद से ही बनारस में होली का उत्सव शुरू हो जाता है. इसके बाद शिवरात्रि के दिन उनका विवाह होता है. मान्यता है कि जब भगवान विश्वनाथ मां पार्वती का गौना कराकर काशी पहुंचे तो उन्होंने देवता, यक्ष आदि लोगों के साथ मिलकर होली खेली थी, लेकिन वो अपने प्रिय गण जैसे भूत, प्रेत और पिशाच के साथ होली नहीं खेल पाए थे. इसलिए वे दूसरे दिन श्मशान घाट पर आते हैं और जमकर होली खेलते हैं.

इसी मान्यता के अनुसार, बनारस के लोग मणिकर्णिका घाट आकर चिता भस्म की होली खेलते हैं. इसे मसाने की होली भी कहा जाता है. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

स्रोतndtv.in
पिछला लेखDream Interpretation: सपने में दिखाई देने वाली ये चीजें काम में सफलता मिलने की ओर करती हैं इशारा, जानिए कैसे
अगला लेख1 अप्रैल से लागू हो रहे हैं बैंक PF इनकम टैक्स से जुड़े ये 6 नए नियम, बदल जाएगी आपकी जिंदगी!