कोरोना वायरस क्या है आइये जानते है इस वायरस के लक्षण, कारण, भ्रम और इसके बचाव…

साल 2019 के दिसंबर में चीन के वुहान शहर से कोरोनो वायरस की शुरुआत हुई। अब ये वायरस भारत सहित 123 देशों में फैल चुका है। अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे वैश्विक महामारी घोषित कर दिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अभी तक कोरोना वायरस से संक्रमण के करीब 136,895 मामले सामने आ चुके है। जानें आखिर क्या है कोविड 19, कैसा है फैलता, लक्षण और कैसे करें बचाव। 

क्या है कोराना वायरस?
COVID-19 सबसे लंबे समय तक पाए जाने वाले कोरोना वायरस के रूप में लाया जाने वाला रोग है। यह नया संक्रमण और बीमारी दिसंबर 2019 में चीन के वुहान शहर से शुरू हुई थी। 

कैसे फैलता है कोरोना वायरस?
कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसी फैमिली से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी कई समस्याए हो जाती है। अगर हम किसी संक्रमित जगह को छूते है तो यह आंख, मुंह और नाक को छूते है तो यह शरीर में पहुंच जाते है। 

ऐसे में खांसते और छींकते समय टिश्यू या रूमाल का इस्तेमाल करें। बिना हाथ धोए अपने चेहरे को छूनें से बचें। इसके साथ ही संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से बचे। 

कोरोनावायरस के खिलाफ बुनियादी सुरक्षात्मक उपाय

कोरोना वायरस के लक्षण
व्यक्ति के शरीर में पहुंचने वाला कोरोना वायरस सीधे फेफड़ो को संक्रमित करता है। लेकिन इससे पहले सूखी खांसी, बुखार, जुकाम-खांसी,शरीर में दर्द, नाक बंद होना, नाक बहना और गले में खराश शामिल है।  कई मामले में तेज बुखार के साथ सांस लेने में भी तकलीफ होने लगती है। इसके लक्षण निमोनिया की तरह की होते है। 

क्या कोविड 19 को डायग्नोसिस किया जा सकता है?
कोविड 19 के लिए एक टेस्ट है जिसमें नाक और गले दोनों से ‘स्वैब्स’ स्वैब इकट्ठा करना शामिल है।

कोरोना वायरस से बचने के लिए क्या करें?
विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोना वायरस से बचाव के तरीके बताए हैं। इन्हें अपनाकर आप इस जानलेवा बीमारी से खुद को और अपनों को बचाकर इसे और फैलने से रोक सकते हैं।

कोरोना वायरस से बचने के लिए एम्स के डायरेक्टर से जानते है हाथ धोने का सही तरीका

  • अपने हाथों को  सैनिटाइजर या फिर हैंडवॉश और पानी से कम से कम 20 सेकंड तक धोएं।
  • जब आप बाहर से घर वापस आए तो सबसे पहले अपने हाथ धोएं।
  • अगर  आप बाहर है तो सैनिटाइजर का यूज करें। 
  • खांसी या जुकाम है तो मास्क पहनें। इसके साथ ही छींक आते समय टिशू से मुंह को ढक लें। जिससे कोई दूसरी व्यक्ति इससे संक्रमित न हो। 
  • उपयोग की गई टिशू को तुंरत डस्टबीन में डाल दें और अपने हाथ को धो लें।
  • खांसी या जुकाम वाले व्यक्ति से बातें करते या मिलते समय उससे करीब 1 मीटर यानी 3 फिट की दूसरी बनाकर रखें।
  • डब्लूएचओ के अनुसार आप किसी जगह को छूते है तो हो सकता है कि उसमें वह वायरस हो। इसलिए नाक, आंख और मुंह को न छुएं।
  • अस्पताल में भी ऐसे वार्ड्स की तरफ न जाएं जहां कोरोना वायरस के मरीज हों, अगर अस्पताल या क्लीनिक में काम करते हैं तो मास्क जरूर लगाएं। 
  • ज्यादा प्रॉब्लम हो रही है तो घर पर रहें। इसके अलावा अगर आपको बुखार, खांसी , जुकाम हो या फिर सांस लेने में समस्या हो रही है तो तुरंत डॉक्टर से सपंर्क करें 
  • कोरोना वायरस से बचना चाहते है तो अच्छी तरह से पका हुआ खाना ही खाए। 

कोरोना का खात्मा करने आ रहे अब गुरु महाराज, शनि मचा रहे तबाही

कहां से टेस्ट करा सकते हैं?
अगर आपको कोरोना वायरस से संबधित कोई भी लक्षण नजर आ रहे है तो घर बैठे ही सामाजिक बीमा लाभ से संपर्क करें।

कौन लोग होते है जल्दी संक्रमित?
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार आमतौर पर कोरोना वायरस से हर उम्र के लोग संक्रमित हो सकते है। लेकिन बुजुर्गों की बात की जाए तो चूंकि उनकी प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है इसलिए वो जल्द इसकी चपेट में आ रहे हैं। इसके अलावा अस्थमा, डायबिटीज, दिल की बीमारियां भी कोरोना की जल्द गिरफ्त में आने का कारण बन सकती है।

Pregnent
Pregnent

क्या प्रेग्नेंट महिला या होने वाले बच्चे को हो सकता है कोरोना वायरस?
अभी तक की रिपोर्ट में इस बात का पता चला है कि कोविड 19 से प्रेग्नेंट महिला या उके होने बच्चे पर कोई असर नहीं पड़ता है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि प्रेग्नेंट महिला अपनी हाइजीन के साथ-साथ डाइट का पूरा ध्यान रखें। 

कोरोना वायरस को लेकर भम्र
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने ऐसे ही भ्रम और उनकी सच्चाई बताई है। आप इन भ्रमों को इनकी सच्चाई को जानकर इस वायरस से बच सकते हैं। इसलिए अफवाहों और मिथकों पर ध्यान न दें औऱ सावधानी बरतें।

हैंड ड्रायर से मरेंगे कोरोना वायरस
ऐसा नहीं है हैंड ड्रायर से किसी भी तरह का प्रभाव कोरोना वायरस पर नहीं पड़ता है। लेकिन लगातार इसे चलाने से आप बीमार नहीं पड़ेंगे, ऐसी गारंटी नहीं है। इसलिए हैंड ड्रायर को छोड़िए और हाथों को अच्छी तरह साफ कीजिए। इसके साथ ही टिशू या फिर हैंड ड्रायर से अपने हाथों को सुखाइए। 

कोरोना से कब मिलेगी मुक्ति, शेयर बाजार का कैसा रहेगा हाल, जानें क्या कहते हैं सितारे

यूवी लैंप 
लोगों के बीच अफवाह फैल रही हैं कि पराबैंगनी कीटाणुशोधन लैंप (Ultraviolet disinfection lamp) से कोरोना वायरस कीटाणु मर जाते हैं। ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। यूवी लैंप का यूज  हाथों या अन्य जगहों पर नहीं करना चाहिए। इससे आपको स्किन में जलन हो सकती है।

नए कोरोनावायरस से संक्रमित लोगों का पता लगाने में थर्मल स्कैनर कितने प्रभावी हैं?
थर्मल स्कैनर उन लोगों का पता लगाने में समर्थ होते हैं जिनकी बॉडी का तापमान नॉर्मल इंसान से ज्यादा होता है क्योंकि वह कोरोना वायरस से संक्रमित रहते हैं।  हालांकि, वे उन लोगों का पता नहीं लगा सकते जो संक्रमित हैं लेकिन अभी तक बुखार नहीं हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि संक्रमित लोगों के बीमार होने के बाद बुखार होने में करीब 2 से 10 दिन लगते हैं।

एल्कोहल और क्लोरीन से बॉडी में स्प्रे करना
कई लोगों को लगता है कि बॉडी में एल्कोहल और क्लोरीन से स्प्रे करने से कोरोना वायरस खत्म हो जाएगा।  यह बात बिल्कुल भी सही नहीं है। यह स्प्रे आपके शरीर के बाहर के वायरस को मार देगा लेकिन शरीर के अंदर के वायरस को दवा से ही मारा जा सकेगा। 

कोई पार्सल लेना सुरक्षित है कि नहीं
हां बिल्कुल, अगर कहीं से कोई पार्सल आया है तो आप इसे ले सकते हैं क्योंकि कोरोना वायरस वस्तुओं पर ज्यादा दिनों तक जीवित नहीं रह सकता है। बस ध्यान रहें कि बीमार व्यक्ति के हाथ से पार्सल लेने के बाद हाथों को अच्छी तरह से धो लें और पार्सल के रैप को नष्ट कर दें।

कोरोना वायरस से बचने के लिए कुछ टिप्स जिसकी मदद से…

पालतू जानवर फैला सकते हैं कोरोना वायरस
इस समय की बात करें तो अभी तक ऐसे कोई भी साक्ष्य नहीं मिले है कि कुत्ता या बिल्ली के द्वारा कोरोना वायरस फैल रहा है। इससे अच्छा है कि जब भी आप पालतू जानवरों के संपर्क में आए उसके बाद अपने हाथों को अच्छे से जरूर धोएं। ऐसा करने से जानवरों में होने वाले अन्य वायरस से भी आप बच सकते है। 

निमोनिया की वैक्सीन नए कोरोना वायरस से दिलाएगी निजात
नहीं,  निमोनिया के खिलाफ टीके जैसे न्यूमोकोकल वैक्सीन और हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (एचआईबी) वैक्सीन नए कोरोना वायरस के से बचाव में मदद नहीं कर सकते। यह वायरस बहुत ही नया और भिन्न है औऱ इसके उन्मूलन के लिए नई वैक्सीन खोजी जा रही है। शोधकर्ता नई वैक्सीन बनाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। 

लहसुन खाने से दूर होना कोरोना वायरस
लहसुन एक हेल्दी फूड है जिसमें कुछ एंटीमाइक्रोबियल गुण पाए जाते हैं। लेकिन इसके द्वारा कोरोना वायरस से नहीं बचा जा सकता है।

तिल के तेल से कोरोना वायरस रहेगा दूर
नहीं, तिल का तेल कोरोना वायरस को नहीं मार सकता है।  कुछ रासायनिक कीटाणुनाशक हैं जो सतहों पर 2019-nCoV को मार सकते हैं। इनमें ब्लीच/ क्लोरीन-आधारित कीटाणुनाशक या तो सॉल्वैंट्स, 75% इथेनॉल, पेरासिटिक एसिड और क्लोरोफॉर्म शामिल हैं। हालांकि, यदि आप इसे स्किन या अपनी नाक के नीचे रखते हैं, तो वायरस पर कोई इफेक्ट नहीं पड़ेगा लेकिन आपकी स्किन के लिए खतरनाक हो सकता है। 

कोरोना वायरस: डरें नहीं, लड़ें और जांच में सामने आई इन…

एंटीबॉयोटिक से कोरोना का रोकथाम
नहीं, एंटीबॉयोटिक बैक्टीरिया को रोकने में मदद करता है लेकिन यह कोरोना वायरस पर बिल्कुल असर नहीं करेगा। 

सिर्फ बच्चों और बूढ़ों को घेरता है कोरोना वायरस
कई लोगों का मानना है कि कोरोना वायरस सिर्फ बच्चों को और बुजुर्ग लोगों को होता है। लेकिन डब्लूएचओ के अनुसार कोरोना किसी भी उम्र के लोगों को हो सकता है। इसलिए हर उम्र के लोगों को कोरोना वायरस से सतर्क रहना चाहिए। 

Coronavirus
Coronavirus

टॉप 10 देश जो कोरोना वायरस से है सबसे ज्यादा प्रभावित
चीन
इटली
ईरान
दक्षिण कोरिया
स्पेन
जर्मनी
फ्रांस
अमेरीका
स्विट्जरलैंड
नॉर्वे
जापान