Home आध्यात्मिक त्योहार Dhanteras 2020: धनतेरस पर ना लाएं लक्ष्मी मां की ऐसी मूर्ति-तस्वीर, बनी...

Dhanteras 2020: धनतेरस पर ना लाएं लक्ष्मी मां की ऐसी मूर्ति-तस्वीर, बनी रहेगी पैसों की दिक्कत

धनतेरस (Dhanteras 2020) का त्योहार आज मनाया जा रहा है. धनतेरस का दिन खरीदारी के लिए बहुत शुभ माना जाता है. धनतेरस के दिन मां लक्ष्मी, भगवान धन्वन्तरि और कुबेर देव की पूजा की जाती है. मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए धनतेरस के दिन हर तरह के उपाय किए जाते हैं. धनतेरस पर पूजा से धन-वैभव और संपत्ति का वरदान पाया जा सकता है. आइए जानिए शेयर बाजार.

धनतेरस पर मां लक्ष्मी की नई तस्वीर या मूर्ति लाने से पहले कुछ बातों को ध्यान में रखना जरूरी है. मां लक्ष्मी से जुड़ी हर चीज का अपना महत्व और प्रभाव है. चलिए जानते हैं धनतेरस और दिवाली की पूजा में मां लक्ष्मी की कैसी मूर्ति या चित्र की पूजा करनी चाहिए और किन गलतियों से बचना चाहिए.

मां लक्ष्मी का ऐसा चित्र ही घर लाएं जिसमें वह कमल के पुष्प पर बैठी हुईं हों. मां लक्ष्मी कमल के फूल पर विराजमान रहती हैं. इस मुद्रा का अर्थ यही है कि दुनिया में रहकर भी पूरी तरह से दुनिया के मायाजाल में नहीं फंसें. कमल की उत्पत्ति कीचड़ में होती है लेकिन यह पानी की सतह से ऊपर मुस्कुराता दिखता है. मोह से बाहर निकलना और विकास करते रहना ही इसका संदेश है.

मां लक्ष्मी को चंचला कहा जाता है. पैसा कमाना तो आसान है लेकिन स्थिर लक्ष्मी की प्राप्ति बहुत मुश्किल से होती है. अगर आप चाहते हैं कि आपके घर में लक्ष्मी का लंबे समय तक वास रहे तो आप लक्ष्मी मां की खड़ी मुद्रा की तस्वीर घर में ना लाएं. जिस तस्वीर या मूर्ति में मां बैठी हुईं हों, ऐसी तस्वीर की पूजा करना श्रेष्ठ है.

जिस तस्वीर में मां लक्ष्मी के हाथ से गिरते हुए सिक्के दिखें, तो वैभव का वरदान मिलता है. गिरते सिक्कों का मतलब है- हर दिशा में संपन्नता. सोने के सिक्के केवल धन और वैभव का ही प्रतीक नहीं है, इसका विस्तृत अर्थ हर तरह की संपन्नता से है. सिक्के किसी बर्तन या पात्र में गिर रहे हों तो अच्छा है.

चित्र में यदि माता के दोनों ओर ऐरावत हाथी मौजूद हों और धन की वर्षा कर रहे हो तो इससे घर में कभी धन की कमी नहीं होती है. इसी तरह यदि सूंड में कलश लिए हुए हाथी हो तो शुभ माना जाता है. अगर हाथी पानी में खड़े हों और सिक्के बरसा रहे हों तो यह बहुत शुभ माना जाता है.

लक्ष्मी मां की तस्वीर में हाथियों को पानी फेंकते हुए दिखाया जाता है. ये 4 हाथी चार दिशाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं. सफेद रंग के हाथी पवित्रता का प्रतीक हैं. हिंदू मान्यताओं में, हाथी को बुद्धिमानी का प्रतीक भी माना जाता है. अक्सर धन की प्राप्ति के बाद लोग गलत रास्ते पर चलने लगते हैं इसीलिए धन के साथ बुद्धि का मेल जरूरी है. वैभव और संपत्ति सुफल हो, इसके लिए आपको ऐसी तस्वीर की ही पूजा करनी चाहिए.

ऐसी मान्यता है कि अकेली लक्ष्मी मां के चित्र का पूजन नहीं करना चाहिए. गणेश व सरस्वती के साथ उनका पूजन कल्याणकारी होता है. इस तरह धन, विद्या व शुभता की प्राप्ति एक साथ हो जाती है. यदि चित्र में माता लक्ष्मी मुस्कुरा रही है तो आप सदा उनसे आशीर्वाद एवं धन प्राप्त करेंगे. देवी-देवताओं की रौद्र रूप वाली तस्वीरें घर में नकारात्मकता का संचार करती हैं.

जब भी मां लक्ष्मी का पूजन विष्णु जी एवं गणेश जी के साथ करें तो हमेशा गणेश जी लक्ष्मी जी के दाहिने और एवं विष्णु जी लक्ष्मी जी के बाएं होने चाहिए. सही तरीके से पूजन करने से माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्ति होती है Reach out to the best Astrologer at Jyotirvid.

मां लक्ष्मी जिस चित्र में उल्लू पर बैठी हों, वह तस्वीर नहीं लानी चाहिए. इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा आती है. उल्लू वाहन से आई लक्ष्मी गलत दिशा से आने वाली और जाने वाली धन का संकेत करती है. पूजा स्थल में लक्ष्मी मां की दो मूर्तियां नहीं रखनी चाहिए. लक्ष्मी मां की दो मूर्तियां आस-पास तो बिल्कुल नहीं रखनी चाहिए. ऐसा होने पर उस घर में कलह होती है.

घर में खंडित मूर्ति या मां लक्ष्मी का फटा हुआ चित्र नहीं रखना चाहिए. वास्तु और ज्योतिष दोनों के हिसाब से ही यह अशुभ माना जाता है. और अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

Exit mobile version