Home शेयर बाजार टैक्सेबल इनकम नहीं है? फिर भी हो सकती है ITR दाखिल करने...

टैक्सेबल इनकम नहीं है? फिर भी हो सकती है ITR दाखिल करने की जरूरत, जानिए क्यों?

यह तो आप जानते ही होंगे कि टैक्सेबल इनकम (Taxable income) छूट वाली लिमिट से अधिक होने पर इनकम टैक्स रिटर्न (ITR) दाखिल करना अनिवार्य होता है. हालांकि, इनकम टैक्स एक्ट (Income Tax act) के तहत कुछ ऐसी स्थितियां भी हैं जिनमें किसी व्यक्ति की कुल इनकम छूट वाली लिमिट से कम होने के बावजूद उसे ITR भरने की जरूरत होती है.
इस बारे में Taxmann के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर, नवीन वाधवा ने बताया कि इनकम के कैपिटल गेन से छूट (सेक्शन 54 से 54GB) से पहले टैक्स नहीं लगने वाली अधिकतम राशि से ज्यादा होने पर ITR दाखिल की जानी चाहिए. इसके अलावा किसी नागरिक के पास विदेश में एसेट्स होने या देश से बाहर किसी एकाउंट में साइनिंग अथॉरिटी होने पर भी ITR जरूरी है.

जानें कब करें रिटर्न फाइल

अगर किसी व्यक्ति ने एक या अधिक करंट एकाउंट्स में 1 करोड़ रुपये या इससे अधिक की कुल राशि फाइनेंशियल ईयर के दौरान जमा की है तो भी उसे ITR भरनी होगी. अपनी या किसी अन्य व्यक्ति की विदेश यात्रा पर फाइनेंशियल ईयर के दौरान 2 लाख रुपये से अधिक खर्च करने पर भी रिटर्न दाखिल करनी चाहिए.

जानें क्या कहते हैं जानकार?

HostBook Ltd के फाउंडर और चेयरमैन, कपिल राणा ने बताया कि अगर किसी व्यक्ति ने फाइनेंशियल ईयर के दौरान बिजली की खपत के लिए 1 लाख रुपये या इससे अधिक राशि खर्च की है तो भी उसे ITR दाखिल करनी होगी. टैक्सेबल इनकम नहीं रखने वाले लोग बैंक लोन, वीजा, क्रेडिट कार्ड की एप्लिकेशन जैसे अन्य उद्देश्यों के लिए भी ITR दाखिल कर सकते हैं.

ITR दाखिल करने की अंतिम तारीख बढ़ी

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेज यानी सीबीडीटी (CBDT) ने इनकम टैक्स रिटर्न यानी आईटीआर (ITR) दाखिल करने की अंतिम तारीख बढ़ाकर 30 सितंबर कर दी है. पहले यह तारीख 31 अगस्त की थी. यह बदलाव डायरेक्ट टैक्स विवाद से विश्वास (VSV) एक्ट के सेक्शन 3 के तहत किया गया है. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) के नए पोर्टल (New IT Portal) में तकनीकी कमियों के चलते टैक्सपेयर्स को रिटर्न भरने में मुश्किल हो रही थी. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

Exit mobile version