दिल्ली: किसानों की ट्रैक्टर रैली में उपद्रव के बाद लाल किला मेट्रो स्टेशन बंद, जानें क्या है ट्रैफिक का हाल

गणतंत्र दिवस पर राजधानी दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान उपद्रव और हिंसा के बाद हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं। दिल्ली मेट्रो की सेवाएं भी सामान्य रूप से बहाल हो गई हैं लेकिन एहतियातन लाल किला मेट्रो स्टेशन पर एंट्री बंद कर दी गई है। इस स्टेशन से केवल बाहर निकलने की ही इजाजत गई थी लेकिन ताजा सूचना के मुताबिक अब इस स्टेशन को पूरी तरह से बंद रखा गया है। यहा मेट्रो के अन्य स्टेशन खुले हैं। वहीं, कल हुई हिंसा के बाद आज दिल्ली में कई जगह पर रास्ते बंद किये गए हैं।

rgyan app

दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोररेशन (डीएमआरसी) की तरफ से यह बताया गया है कि सभी लाइनों पर सेवाएं सामान्य रूप से चल रही हैं। लाल किला मेट्रो स्टेशन को यात्रियों को लिए बंद किया गया है। वहीं जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन पर यात्रियों के एंट्री पर पाबंदी है। जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन से यात्रियों को बाहर निकलने की अनुमति है। वहीं दिल्ली के अंदर एहतियातन कुछ रास्तों को अभी बंद रखा गया है।

कल हुई हिंसा के बाद आज दिल्ली में कई जगह पर रास्ते बंद किये गए हैं। गाजीपुर फूल मंडी, एनएच -9 और एनएच 24 भी आज बंद है। इसके साथ ही मिन्टो रोड से कनॉट प्लेस जाने वाला रास्ता बंद है। साथ ही कालिंदी कुंज से नोएडा आने-जाने वाले दोनों लेन बंद हैं।

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

आपको बता दें कि कल किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान दिल्ली में बड़े पैमाने पर हिंसा और उपद्रव की घटना हुई थी। हुड़दंगियों के एक दस्ते ने लाल किला परिसर पर कब्जा जमा लिया था। कल हिंसा के मद्देनजर दिल्ली मेट्रो ने कई स्टेशनों को बंद कर दिया था। लेकिन हालात सामान्य होने के बाद आज सुबह से मेट्रो की सेवाएं सामान्य रूप से बहाल कर दी गई हैं। लाल किला मेट्रो स्टेशन को बंद रखा गया है और जामा मस्जिद मेट्रो स्टेशन पर प्रवेश की पाबंदी है। वहीं आपको बता दें कि लाल किला परिसर को देर रात पूरी तरह से खाली करा लिया गया। वहां भारी तादाद में फोर्स को तैनात कर सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं। अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतwww.indiatv.in
पिछला लेखShare Market: गिरावट के साथ खुला शेयर बाजार, Sensex 280 अंक लुढ़का, निफ्टी 14200 के नीचे
अगला लेखकिसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा को लेकर 22 FIR दर्ज़, उपद्रवियों की पहचान में जुटी पुलिस