Garud Puran: इन 5 कारणों के कारण लाइफ में हमेशा रहता है दुख, समय रहते इनसे पा लें छुटकारा

हमारे कई ऐसे ग्रंथ है जिनमें लाइफ मैनेजमेंट को लेकर काफी कुछ बताया गया है। इन्हीं ग्रंथों में से एक है गरुड़ पुराण। जिसमें जीवन से जुड़ी कई गूढ़ बातें बताई गई हैं। जिनका अनुसरण करके आप कई तरह की परेशानियों से खुद को बचा सकते हैं।

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

हर व्यक्ति चाहता हैं कि वह हमेशा खुश रहें। लेकिन कई बार हम अपनी जिंदगी में कुछ ऐसी आदतें अपना लेते हैं। जिसके कारण हमेशा दुखी रहते हैं। गरुड़ पुराण की आचार संहिता में कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताया गया है जिनके कारण जीवन में हमेशा दुख रहता है। अगर आप चाहते हैं कि हमेशा सुख-शांति के साथ अपना जीवन जिए तो इन चीजों से तुरंत दूर हो जाए।

अधिक चिंता करना

चिंता चिता के समान होती है। इस बात को हर कोई जानता हैं लेकिन इसे मानते हैं कि नहीं यह आपके ऊपर है। अधिक चिंता करने से शारीरिक और मानसिक रूप से प्रभाव पड़ता है। चिंता के कारण आपके चेहरे का निखार के साथ-साथ पूरे शरीर की एनर्जी सी गायब हो जाती हैं।

अनजान भय

कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हें हमेशा असुरक्षा की भावना उत्पन्न होती रहती हैं। जिसके कारण हमेशा किसी न किसी तरह आपके काम पर बाधा आती हैं क्योंकि आप उस काम को पूरी शक्ति से नहीं कर पाते हैं। इसके साथ ही आपको अच्छी नींद नहीं आती है और आप कई खतरनाक बीमारियों की चपेट में आ जाते है।

ईर्ष्या

कई लोग होते हैं जो दूसरे की खुशी, तरक्की देखकर काफी ईर्ष्या करते हैं। आपकी यह आदत जीवन को सुख को खत्म कर सकती है। आप किसी की तरक्की से जले नहीं बल्कि उससे प्रोत्साहित होकर तरक्की की राह पर चले।

rgyan app

क्रोध

गुस्सा एक ऐसी चीज हैं जो बड़े से बड़े काम को बिगाड़ कर रख देती हैं। गुस्सा में आपके द्वारा की गई बातों से रिश्ते भी खराब हो सकते हैं।

आलस्य

लाइफ में सुख और सफलता चाहते हैं तो हमेशा आलस्य से बचना चाहिए। इसलिए सुबह उठकर शारीरिक और मानसिक रूप से फिट रहने के लिए योग, पूजा-पाठ जरूर करे। अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतwww.indiatv.in
पिछला लेखHDFC म्यूचुअल फंड पीछे हुआ: ICICI प्रूडेंशियल फंड का AUM 4.21 लाख करोड़, दूसरा सबसे बड़ा फंड बना, 4 लाख करोड़ के क्लब में 3 फंड हाउस
अगला लेखपश्चिम बंगाल: BJP के खिलाफ सियासी रण में उतरेंगे राकेश टिकैत, नहीं बनेंगे अन्य दलों के लिए ‘राजनीतिक कंधा’