Home आध्यात्मिक धार्मिक स्थल Guruwar Upay: गुरुवार के दिन करें ये उपाय, धन लाभ से लेकर...

Guruwar Upay: गुरुवार के दिन करें ये उपाय, धन लाभ से लेकर जीवन में सफलता मिलने की है मान्यता

2 जून को ज्येष्ठ शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि और गुरुवार का दिन है। तृतीया तिथि 2 जून रात 12 बजकर 18 मिनट तक रहेगी। शाम 4 बजकर 4 मिनट तक आर्द्रा नक्षत्र रहेगा। आकाशमंडल में 27 नक्षत्र स्थित हैं। 27 नक्षत्रों में से आर्द्रा 6 नक्षत्र माना जाता है। आर्द्रा का अर्थ होता है- नमी। आंख में आने वाले आंसुओं को इस नमी के साथ जोड़कर देखा जाता है।आर्द्रा नक्षत्र का प्रतीक चिन्ह भी आंसू की बूंद को ही माना जाता है।

वैदिक ज्योतिष के अनुसार भगवान शिव के रुद्र रूप को आर्द्रा नक्षत्र का अधिपति देवता माना जाता है। इसके अलावा आर्द्रा नक्षत्र के स्वामी राहु हैं और इसकी राशि मिथुन है। साथ ही इसका संबंध शीशम के पेड़ से बताया गया है। अतः जिन लोगों का जन्म आर्द्रा नक्षत्र में हुआ हो उन लोगों को इस दिन शीशम के पेड़ को नमस्कार करना चाहिए और साथ ही इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि इस दिन आप जाने-अनजाने शीशम के पेड़ को, उसकी लकड़ियों को या उसकी पत्तियों को किसी भी तरह का नुकसान ना पहुंचाएं।

ऐसे में आइए आचार्य इंदु प्रकाश से जानते हैं गुरुवार के दिन कौन-से उपाय करने से आपको शुभ फल मिलेंगे।

अगर आपकी तमाम कोशिशों के बाद भी आपको कार्यक्षेत्र में मनचाही सफलता नहीं मिल पा रही है, तो इस दिन सुबह स्नान आदि के बाद श्री विष्णु मंदिर जाकर भगवान को पीले रंग के पुष्प अर्पित करें। फिर भगवान से मनचाही सफलता पाने के लिए हाथ जोड़कर प्रणाम करें। ऐसा करने से आपको अपने कार्यक्षेत्र में मनचाही सफलता जरूर मिलेगी।
अगर आप जीवन में खूब तरक्की करना चाहते हैं, तो इस दिन अपने गुरु को कुछ गिफ्ट करें। साथ ही उनके पैर छूकर आशीर्वाद प्राप्त करें। ऐसा करने से आप जीवन में खूब तरक्की करेंगे।
अगर आपकी कोई मनोकामना लंबे समय से अधूरी पड़ी है, तो इस दिन हरे बांस का पौधा लगाएं। साथ ही पौधे के सामने हाथ जोड़कर प्रणाम करें और अपनी मन की बात कहें। ऐसा करने से आपकी मनोकामना जल्द ही पूरी होगी।
अगर आप अपने लक्ष्य को ऊँचे मुकाम तक ले जाना चाहते हैं, तो इस दिन मंदिर में चने की दाल दान करें। साथ ही गुरु के मंत्र का 21 बार जप करें। मंत्र है ‘ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: बृहस्पतये नम:’। ऐसा करने से आप अपने लक्ष्य को ऊंचे मुकाम तक ले जाने में कामयाब होंगे।
अगर आप दाम्पत्य संबंधों में चल रही उलझनों से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो इस दिन घर के आस-पास किसी मंदिर की साफ-सफाई में अपना सहयोग दें। साथ ही हल्दी का दान करें। ऐसा करने से दाम्पत्य संबंधों में चल रही उलझनों से आपको छुटकारा मिलेगा और आपके संबंध बेहतर होंगे।
अगर आप अपने घर की सुख-समृद्धि और सौभाग्य में बढ़ोतरी करना चाहते हैं, तो इस दिन विष्णु जी की मूर्ति या तस्वीर के सामने आसन बिछाकर बैठ जाएं और ‘ऊं नमो भगवते लक्ष्मी नारायणाय’ मंत्र का 108 बार जप करें। मंत्र जप के बाद भगवान को भुने हुए आटे में पीसी हुई शक्कर मिलाकर भोग लगाएं। ऐसा करने से आपके घर की सुख-समृद्धि और सौभाग्य में बढ़ोतरी होगी।
अगर आप अपने जीवन में सकारात्मक ऊर्जा बनाये रखना चाहते हैं, तो इस दिन देवगुरु बृहस्पति के इस विशेष मंत्र का 108 बार जप करें। मंत्र है – ऊँ ऐं क्लीं बृहस्पतये नमः। ऐसा करने से आपके जीवन में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहेगी।
अगर आप अपने जीवन के प्रत्येक पल का आनंद उठाना चाहते हैं, तो इस दिन किसी ब्राह्मण को सवा किलो चावल के साथ एक हल्दी की गांठ का दान करें। साथ ही उनका आशीर्वाद प्राप्त करें। ऐसा करने से आप अपने जीवन के प्रत्येक पल का आनंद उठा पायेंगे।
अगर आप अपने अध्यापकों के साथ संबंधों को बेहतर बनाना चाहते हैं, तो इस दिन आपको पांच मुखी रुद्राक्ष की पूजा करके उसे गले में धारण करना चाहिए। साथ ही संभव हो तो अपने अध्यापक को भी पांच मुखी रुद्राक्ष भेंट करना चाहिए। आज ऐसा करने से अध्यापकों के साथ आपके संबंध बेहतर होंगे।
अगर संतान से छोटी-छोटी बातों पर आपकी बहस हो जाती है, उनसे आपका अच्छा तालमेल नहीं बैठता है, तो ऐसी स्थिति में इस दिन पीपल के वृक्ष की सेवा करें। साथ ही किसी भी पूजा स्थल के सामने से सिर झुकाकर जाएं। ऐसा करने से संतान के साथ आपका तालमेल संबंध बेहतर और मजबूत होंगे।
अगर आप अपने आर्थिक पक्ष को मजबूत करना चाहते हैं, तो इस दिन अपने मस्तक पर केसर का तिलक लगाएं। साथ ही किसी जरूरतमंद को पीला कपड़ा दान करें। ऐसा करने से आपका आर्थिक पक्ष मजबूत होगा।
अगर कई बार आपके ऊपर अचानक से कोई मुसीबत आ जाती है और आप उससे बाहर निकलने में असुविधा महसूस करते हैं, तो इस दिन आपको अपने माता-पिता के पैर छूकर उनकी जरूरत की कोई चीज़ उन्हें भेंट करनी चाहिए। ऐसा करने से आप मुसीबतों से बाहर निकलने में सफल होंगे।

Exit mobile version