Home आध्यात्मिक Holashtak 2022: होलाष्टक में किस तिथि को कौन सा ग्रह होता है...

Holashtak 2022: होलाष्टक में किस तिथि को कौन सा ग्रह होता है उग्र, जानें दुष्प्रभाव

हर साल होलाष्टक का प्रारंभ फाल्गुन माह (Phalguna Month) के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि से होता है. इस साल होलाष्टक 10 मार्च को शुरु होगा और 17 मार्च को होलिका दहन (Holika Dahan) के साथ इसका समापन होगा. फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से पूर्णिमा तक 8 ग्रह उग्र अवस्था में रहते हैं, इस वजह से कोई भी शुभ कार्य नहीं करते हैं. ग्रहों की उग्रता के कारण होली के पूर्व 8 दिन अशुभ माने जाते हैं. फाल्गुन पूर्णिमा को होलिका दहन होता है, उस0के बाद से ग्रहों में शांति आती है. आइए जानते हैं कि होलाष्ट की आठ तिथियों में कब कौन से ग्रह उग्र होते हैं.

होलाष्टक 2022 उग्र होने वाले ग्रह

होलाष्टक पहला दिन: फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि होलाष्टक का पहला दिन होता है. ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार इस दिन चंद्रमा उग्र होता है.

होलाष्टक दूसरा दिन: फाल्गुन शुक्ल नवमी को सूर्य देव उग्र रहते हैं. यह होलाष्टक का दूसरा दिन होता है.

होलाष्टक तीसरा दिन: फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि होलाष्टक का तीसरा दिन होता है. इस दिन कर्मफलदाता शनि देव उग्र होते हैं.

होलाष्टक चौथा दिन: इस दिन शुक्र ग्रह उग्र रहते हैं. फाल्गुन शुक्ल एकादशी को होलाष्टक का चौथा दिन होता है. इस दिन आंवला एकादशी या रंभगरी एकादशी होती है.

होलाष्टक पांचवा दिन: होलाष्टक के पांचवे दिन गुरु ग्रह उग्र होते हैं. फाल्गुन शुक्ल द्वादशी होलाष्टक का पांचवा दिन होता है.

होलाष्टक छठा दिन: फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी ति​थि को होलाष्टक छठा दिन होता है. इस दिन बुध ग्रह उग्र होते हैं. त्रयोदशी के दिन प्रदोष व्रत रखते हैं.

होलाष्टक सातवां दिन: होलाष्टक के सातवें दिन मंगल ग्रह उग्र होते हैं. फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को होलाष्टक सातवां दिन होता है.

होलाष्टक आठवां दिन: फाल्गुन पूर्णिमा यानी होलिका दहन को होलाष्टक का आठवां और अंतिम दिन होता है. इस दिन राहु ग्रह उग्र होता है.

उग्र ग्रहों का दुष्प्रभाव

ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, ग्रहों के उग्र होने से व्यक्ति के स्वभाव, बुद्धि और निर्णय क्षमता पर असर पड़ता है. इस वजह से होलाष्ट में शुभ कार्य या बड़े फैसले करने से बचने को कहा जाता है. उग्र ग्रहों के दुष्प्रभाव के कारण व्यक्ति गलत फैसले कर सकता है, बेवजह क्रोधित हो सकता है या वाद विवाद की स्थिति बन सकती है. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

Exit mobile version