रामनवमी यानी कल 2 अप्रैल इस लॉकडाउन के बीच अयोध्‍या में ऐसे हो रही है पूजापाठ, आइए देखते हैं कुछ तस्‍वीरें

नवरात्र में इस बार लॉकडाउन के बीच देश के सभी मंदिरों में पूजापाठ तो हो रही है, लेकिन भक्‍तों की भीड़ के बिना। कल हमने आपको दिखाया था उज्‍जैन में महाकाल के मंदिर में लॉकडाउन में पूजापाठ का कार्यक्रम कैसे चल रहा है। इसी क्रम में आज हम आपको ले चलते हैं भगवान राम की जन्‍म‍भूमि अयोध्‍या के दर्शन करवाने। यहां रामलला विराजमान और हनुमानगढ़ी मंदिर में आजकल कैसे हो रही है आरती और पूजापाठ।

यह भी पढ़े: रामनवमी 2020: नवमी वाले दिन आप घर पर खुद से कर सकते हैं हवन, आइए जानते है विधि

रामलला की यहां हुई पूजा

हिंदू नववर्ष के अवसर पर राम लला को एक अस्‍थाई भवन में स्‍थापित कर दिया गया है और अब यहां रोजाना वैदिक मंत्रोच्‍चारण के साथ पूजापाठ हो रही है। राम नवमी के अवसर पर यहां भव्‍य आरती और पूजापाठ के कार्यक्रम होंगे।

हनुमानगढ़ी में आरती

भगवान राम के परम भक्‍त हनुमानजी भी यहां हनुमानगढ़ी में विराजमान हैं। मान्‍यता है कि यहां आने वाले भक्‍तों को भगवान राम के दर्शन से पहले यहां हनुमानजी की इजाजत लेनी पड़ती है। यानी अयोध्‍या में जो भी आता है उसे पहले हनुमानजी के दर्शन करने होते हैं।

भगवान का एकांतवास

यहां हनुमानजी भी इस वक्‍त एकांतवास में हैं। लॉकडाउन के वक्‍त यहां भक्‍तों की भीड़ के बिना केवल कुछ पुजारी पूजा कर रहे हैं और आरती की जा रही है।

कनकभवन भी पड़ा सूना

यहां राजा दशरथ का महल कनक भवन भी इस वक्‍त सूना पड़ा है। एक-या दो पुजारी पूजापाठ के जरूरी कार्य संपन्‍न कर रहे हैं। कनकभवन के बारे में कहा जाता है कि भगवान राम से विवाह होकर जब सीता माता अयोध्‍या आईं थीं तो कौशल्‍या माता ने मुंहदिखाई में यह भवन उनको दिया था।