फेंगशुई टिप्स: लॉक डाउन में बढ़ रहा है तनाव, फेंगशुई के इन उपायों को आजमा सकते हैं आप

फेंग शुई के ये टिप्‍स काम के

अक्‍सर देखा गया है कि जब हम कुछ वक्‍त खाली हों या फिर डेली रूटीन लाइफ में अचानक से ही कुछ बदलाव हो जाए। जिसे अप्‍लाई करना कंप्‍लसरी हो जाए। मसलन लॉक डाउन जैसी स्थिति तो हो सकता है कि स्‍ट्रेस और एंग्‍जाइटी लेवल बढ़ जाए। इस सिचुएशन के लिए फेंग शुई में ऐसे टिप्‍स बताए गए हैं, जिनका इस्‍तेमाल करके आप लॉक डाउन पीर‍ियड को भी इंजॉय कर सकते हैं। आइए जानते हैं…

यह भी पढ़े: वास्तु शास्त्र: घर पर मार्बल लगाते समय ध्यान रखें ये बातें

ऐसे करें दिन की शुरुआत

फेंग शुई कहता है कि स्‍ट्रेस और एंग्‍जाइटी को दूर करने की सबसे पहली शुरुआत सुबह से होनी चाहिए। इसलिए जब भी आपको रूटीन लाइफ का पैटर्न चेंज करना पड़े तो अपने सोने और जागने का समय तय कर लें। इसके बाद जैसे ही आप नींद से जागे तो सबसे पहले ग्रेटीट्यूड यानी कि परमात्‍मा को धन्‍यवाद देकर अपने द‍िन की शुरुआत करें। आपकी जिस भी ईश्‍वर पर आस्‍था हो, आंखें बंद करके उन्‍हें प्रणाम करें और एक नए दिन के लिए शुक्रिया कहें। इसके बाद अपने द‍िन की शुरुआत करें।

बेड पर जाने के बाद न भूले यें काम

फेंग शुई में स्‍ट्रेस और एंग्‍जाइटी के लिए जिस तरह सुबह-सवेरे जागते ही ग्रेटीट्यूड की बात की गई है। ठीक वैसे ही रात को सोते समय भी यह प्रक्रिया दोहरानी है। लेकिन यहां जरा सा फेरबदल करने की जरूरत है। जब आप सोने के लिए जाएं तो सबसे पहले आपने जो कुछ भी पूरा द‍िन किया है। उसे याद करें। क्‍या अच्‍छा था, क्‍या बुरा था, कहीं आपकी किसी बात से किसी को ठेस तो नहीं पहुंचीं और पूरे द‍िन जो कुछ भी हुआ, उसमें कहां-कहां सुधार की गुंजाइश है? इन सब प्‍वाइंट्स को याद करें और अगला द‍िन उससे बेहतर कैसे कर सकते हैं। इस बारे में व‍िचार करें। इसके बाद परमात्‍मा को धन्‍यवाद देकर आज की गलतियां कल न दोहराने की प्रार्थना करें।

यह भी पढ़े: वास्तु टिप्स: आखिर क्यों रखना चाहिए झाड़ू और पोछे को किचन से दूर…?

यह प्रक्रिया बदल सकती है काफी कुछ

भागमभाग भरी लाइफ में लॉक डाउन का पीर‍ियड अगर आपको थमा-थमा सा लग रहा है तो फेंग शुई की एक और टिप्‍स है। इसके जर‍िए आप देखेंगे कि स्‍ट्रेस और एंग्‍जाइटी आपसे कोसों दूर भाग जाएंगे। जी हां इसके लिए आपको बस इतना करना है कि मेडीटेशन का कोई भी म्‍यूजिक धीमी वॉल्‍यूम में प्‍ले करना है। इसके बाद जितनी देर भी आप आंखें बंद करके बैठ सकते हैं। उतनी देर आप उस म्‍यूजिक को महसूस करने की कोशिश करें। धीरे-धीरे आप यह समय बढ़ा भी सकते हैं। फेंग शुई कहता है कि मेडीटेशन का यह म्‍यूजिक न स्‍ट्रेस -एंग्‍जाइटी भगाने के साथ ही एकाग्रता को भी बढ़ाता है।

यह टिप्‍स जरा हट के है

यूं तो फेंग शुई में कई सारी टिप्‍स बताई गई हैं लेकिन जिस टिप्‍स के बारे में यहां जिक्र है, यह थोड़ा हटकर है। फेंग शुई भी इस बात की पैरवी करता है कि अगर चीजों को देखने का नजर‍िया बदल दिया जाए तो काफी कुछ बदल सकता है। इसके मुताबिक स्‍ट्रेस और एंग्‍जाइटी दूर करने में तस्‍वीरें भी काफी मददगार साबित होती हैं। इसके लिए आपको बस इतना करना है कि अपने लिविंग रूम या फिर ड्राइंग रूम में लगी तस्‍वीरों की जगह में थोड़ी फेरबदल करनी है। इसका रीजन यह है कि आंखों का दिल के साथ गहरा र‍िश्‍ता होता है। तो जो तस्‍वीरे आपने बदली हैं या फिर कुछ पुरानी तस्‍वीरों को लगाया है तो उससे आप ऐसी चीजों को देखते हैं जो कभी आपके दिल के बेहद करीब थीं। लेकिन भागती-दौड़ती जिंदगी में आपके पास उस पल को दोबारा याद करने का मौका ही नहीं था। ऐसे में यह बदलाव आपके लिए काफी हैपन‍िंग हो सकता है।