बीजेपी कोर कमेटी की आज होगी बैठक, मुद्दों पर चर्चा के साथ ‘लेटर बम’ का भी रह सकता है साया

बीजेपी के राष्ट्रीय पदाधिकारियों की 2 दिन पहले दिल्ली में हुई बैठक के बाद आज जयपुर में पार्टी की प्रदेश कोर ग्रुप (BJP core committee) की बैठक होगी. बैठक में कृषि कानूनों के अलावा विधानसभा उपचुनावों को लेकर रणनीति पर चर्चा होगी. खास बात यह है कि इस बैठक में वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) के भी शामिल होने के पूरी संभावना है. बैठक में वसुंधरा खेमे के विधायकों के लेटर बम (Letter bomb) का साया रहने के भी आसार हैं.

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

बीजेपी कोर कमेटी की बैठक शाम 4 बजे पार्टी मुख्यालय में होगी. इसमें कृषि कानूनों से जनता को लाभ और इसके प्रचार के साथ ही इस मुद्दे पर कांग्रेस के विरोध का जवाब देने की रणनीति भी तैयार की जायेगी. इसके साथ ही चार विधानसभा उपचुनावों की रणनीति को लेकर मंथन किया जायेगा. बैठक में हाल ही में फूटे पार्टी विधायकों के लेटर बम के भी छाने के आसार जताये जा रहे हैं. इस बैठक में कोर ग्रुप के सभी सदस्यों के शामिल रहने की संभावना है.

कृषि कानूनों के प्रचार और उपचुनाव की बन सकती है रणनीति

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया की अध्यक्षता में होने वाली कोर ग्रुप की बैठक में खास तौर पर कृषि कानूनों से लाभ की जानकारी किसानों के बीच पहुंचाने को लेकर बनाई जाने वाली रणनीति के तहत इनको लेकर फैली भ्रांतियों को दूर करने का जिम्मा भी नेताओं सौंपा जा सकता है. उपचुनाव की रणनीति तैयार करने के साथ ही प्रमुख नेताओं को इसकी जिम्मेदारियां बांटे जाने की संभावना है. पार्टी चुनावों में एक मुखी होकर जनता के बीच पहुंचे इसको लेकर आम सहमति बनाने के प्रयास किये सकते हैं. हालांकि बैठक से ऐन पहले पार्टी में लेटर बम से अंदरुनी गुटबाजी सामने आ गई है. ऐसे में इसका साया भी बैठक में छाये रहने के आसार हैं.

कटारिया बोले इस बेमौसम बारिश को समझने की कोशिश की जाएगी

माना जा रहा है कि पार्टी के प्रदेश प्रभारी अरुण सिंह भी बैठक में शामिल होंगे. बैठक से ऐन पहले लेटर बम से बीजेपी में सियासत उफान पर है. हालांकि नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया और उपनेता प्रतिपक्ष राजेन्द्र राठौड़ ने कल लेटर को लेकर स्थिति स्पष्ट की थी. गुलांबचंद कटारिया ने कहा कि इस बेमौसम बारिश को समझने की कोशिश की जाएगी.

rgyan app

राज्य में बीजेपी गुटबाजी से ऊबर नहीं पा रही है

एक तरफ केन्द्र सरकार कृषि कानूनों के विरोध का सामना करने में उलझी हुई है वहीं दूसरी तरफ राज्य में बीजेपी गुटबाजी से ऊबर नहीं पा रही है. अब पार्टी में गुटबाजी साफ तौर पर सामने आने लगी है. ऐसे में ये देखने वाली बात यह होगी कि कोर ग्रुप की बैठक में पार्टी की जमीनी हकीकत पर मंथन होगा या फिर यहां भी गुटबाजी की झलक नजर आएगी. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

स्रोतhindi.news18.com
पिछला लेखकौन हैं मटुआ, क्यों यह समुदाय बंगाल चुनाव में वोटबैंक राजनीति का केंद्र है?
अगला लेखभारत ने दिखाया बड़ा दिल, इमरान को दी भारतीय हवाई क्षेत्र से श्रीलंका जाने की अनुमति