January 2022 Vrat Tyohar: जनवरी के दूसरे सप्ताह में हैं ये व्रत एवं त्योहार, देखें लिस्ट

जनवरी 2022 का दूसरा सप्ताह 10 जनवरी से प्रारंभ हो रहा है, जो 16 जनवरी तक है. जनवरी के दूसरे सप्ताह में कई महत्वपूर्ण व्रत एवं त्योहार है. इनमें दुर्गाष्टमी व्रत, पौष पुत्रदा एकादशी (Putrada Ekadashi), वैकुंठ एकादशी, मकर संक्रांति (Makar Sankranti), पोंगल, उत्तरायण, लोहड़ी, खरमास समापन, कूर्म द्वादशी, शनि प्रदोष जैसे व्रत हैं. जनवरी के दूसरे सप्ताह में ही खरमास का समापन हो रहा है. इस सप्ताह में स्वामी विवेकानंद जयंती (Vivekananda Jayanti) भी है. इस दिन राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है. आइए जानते हैं इस सप्ताह के व्रत एवं त्योहारों के बारे में

जनवरी 2022: दूसरे सप्ताह के व्रत एवं त्योहार

10 जनवरी, सोमवार: दुर्गाष्टमी व्रत

दूसरे सप्ताह के पहले दिन सोमवार को मासिक दुर्गाष्टमी व्रत है. इस दिन व्रत रखा जाता है और माता दुर्गा की पूजा की जाती है. आज फलाहार करते हुए मां दुर्गा की भक्ति भजन करते हैं. रात्रि के समय में जागरण करते हैं और अगले दिन व्रत का पारण करते हैं.

12 जनवरी, बुधवार: स्वामी विवेकानंद जयंती, राष्ट्रीय युवा दिवस

स्वामी विवेकानंद की जयंती 12 जनवरी दिन बुधवार को है. इस दिन राष्ट्रीय युवा दिवस है. स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता में हुआ था. उनके बचपन का नाम नरेंद्रनाथ था. इस दिन देशभर में कार्यक्रमों का आयोजन होता है.

13 जनवरी, गुरुवार: पौष पुत्रदा एकादशी, वैकुंठ एकादशी, लोहड़ी

पौष पुत्रदा एकादशी: पौष पुत्रदा एकादशी साल 2022 की पहली एकादशी है. इस दिन व्रत रखने और भगवान विष्णु की पूजा करने से पुत्र की प्राप्ति होती है. यह एक धार्मिक मान्यता है. इस दिन पूजा के समय पुत्रदा एकादशी व्रत की कथा का श्रवण किया जाता है. पौष पुत्रदा एकादशी को वैकुंठ एकादशी भी कहते हैं. इससे मोक्ष की प्राप्ति होती है.

लोहड़ी 2022: नई फसल की खुशी में लोहड़ी का त्योहार 13 जनवरी 2022 को मनाया जाएगा. इस दिन पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और हिमाचल प्रदेश में उत्सव मनाया जाता है. इस दिन आग जलाकर उसमें धान का लावा, मूंगफली, रेवड़ी आदि डाली जाती है और उसे प्रसाद के रूप में भी बांटा जाता है.

14 जनवरी, शुक्रवार: कूर्म द्वादशी व्रत

पौष मा​​ह के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को कूर्म द्वादशी व्रत रखा जाता है. इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, भगवान विष्णु ने कछुए का अवतार धारण किया था. कूर्म द्वादशी को भगवान विष्णु के कूर्म स्वरूप की पूजा की जाती है.

15 जनवरी, शनिवार: मकर संक्रांति, पोंगल, उत्तरायण, खिचड़ी, खरमास समापन, शनि प्रदोष व्रत

इस बार मकर संक्रांति का पर्व 15 जनवरी को मनाया जाएगा. इस दिन स्नान दान होता है. मकर संक्रांति को खिचड़ी भी कहते हैं. इस दिन पोंगल, उत्तरायण जैसे त्योहार भी देश के दूसरे हिस्सों में मनाया जाता है. मकर संक्रांति के दिन से खरमास का समापन हो जाता है और मांगलिक कार्य
प्रारंभ हो जाते हैं.

शनि प्रदोष व्रत 2022: साल का पहला शनि प्रदोष व्रत 15 जनवरी को है. इस दिन भगवान ​शिव की पूजा की जाती है. शनि प्रदोष व्रत पुत्र प्राप्ति के लिए किया जाता है. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतindia.news18.com
पिछला लेखवास्तु टिप्स: नौकरी के लिए इंटरव्यू देते समय इन बातों का रखें ध्यान, मिलेगी सफलता
अगला लेखMarket Update: सप्ताह के पहले कारोबारी दिन बढ़त में खुले बाजार, Nifty 17900 के पार