1 जून से कर्नाटक में खुल जाएंगे मंदिर, आइये जानते हैं कैसे कर पाएंगे आप दर्शन

श्रद्धालुओं को कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए आवश्यक सावधानियां बरतने की सलाह दी जाएगी। साथ ही सरकार की तरफ से शारीरिक दूरी और साफ़-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाएगा।

कर्नाटक सरकार ने 1 जून से राज्य के सभी मंदिरों को खोलने का एलान किया है। साथ ही मस्जिद और चर्चों के भी 1 जून से खुलने की पूरी उम्मीद है। इस बारे में कर्नाटक मुज़राई मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी ने मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि सरकार ने सभी मंदिरों को 1 जून से खोलने का निर्णय लिया है, जो कि पिछले दो महीने से बंद है। हम कोरोना को हराने में कामयाब होंगे।

यह भी पढ़े: गंगा दशहरा: जानें, गंगा माता की कैसे हुई उत्पत्ति और क्या है धार्मिक महत्व

इसके लिए श्रद्धालुओं को कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए आवश्यक सावधानियां बरतने की सलाह  दी जाएगी। साथ ही सरकार की तरफ से शारीरिक दूरी और साफ़-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। हालांकि, धार्मिक समारोहों और मेले पर पाबंदी जारी रहेगी।

पुजारी ने आगे कहा कि मानक संचालन प्रोटोकॉल संबंधित अधिकारियों से बातचीत के बाद जारी किया जाएगा। राज्य के सभी प्रमुख मंदिर ऑनलाइन टिकट बेच सकते हैं। यह सेवा जल्द ही (1-2 दिन में) शुरू कर दी जाएगी। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो इस संबंध में गुरुवार यानि आज कैबिनेट स्तर की मीटिंग हो रही है, जिसमें मस्जिद और चर्चों को खोलने पर विचार-विमर्श किया जा रहा है।

मंदिर मुज़राई ( हिन्दू धर्म के मंदिर और हिन्दू धर्म के कार्य ) प्रबंधन के अंतर्गत आता है। ऐसे में मस्जिदों और चर्चों को खोलने पर अभी फैसले नहीं लिया गया है। वहीं, दूसरी ओर तिरुपति बालाजी मंदिर को खोलने की तैयारी भी जोर शोर पर है।

हालांकि, राज्य सरकार का यह आदेश केंद्र सरकार पर निर्भर है। अगर लॉकडाउन को चरणबद्ध तरीके से बढ़ाया जाता है तो राज्य सरकार का यह आदेश निरस्त हो जाएगा। ऐसे में अब सबकी निगाहें केंद्र सरकार पर टिकी है। गौरतलब है कि लॉकडाउन 4.0 , 31 मई को समाप्त हो रहा है। इसके लिए केंद्रीय स्तर की मीटिंग चल रही है। जल्द ही अगले लॉकडाउन के बारे में फैसला आ सकता है।