कोजागरी लक्ष्मी पूजा: बिजनेस में बढ़ोत्तरी के लिए आज करे ये खास उपाय, मां लक्ष्मी का बना रहेगा आर्शीवाद

आज अधिक आश्विन शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि और दिन शुक्रवार है। चतुर्दशी तिथि आज शाम 5 बजकर 46 मिनट तक रहेगी। आज कोजागरी लक्ष्मी पूजा है। ये पूजा मिथिलांचल और बंगाल में बहुत ही महत्व रखती है। इस पूजा को मां लक्ष्मी के संदर्भ में मनाया जाता है। कोजागरी का अर्थ है कि ‘कौन जाग रहा है ?’ कहते हैं इस दिन मां लक्ष्मी अपने वाहन उल्लू पर बैठकर आती हैं और देखती हैं कि रात को उनकी उपासना के लिये कौन जाग रहा है। जो व्यक्ति इस दिन रात को जागकर मां लक्ष्मी की उपासना करता है, उसके ऊपर मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है और घर में धन-धान्य की बढ़ोतरी होती है।

योग और नक्षत्रआज दोपहर 2 बजकर 57 मिनट तक रवि योग रहेगा। रवि योग सभी कुयोगों , अनिष्ट शक्तियों को नष्ट करने की अद्भुत शक्ति रखता है। अतः इस योग में जो भी कार्य किये जायें, वो सफल होते हैं। इसके अलावा आज दोपहर 2 बजकर 57 मिनट तक रेवती नक्षत्र रहेगा| आज शाम 5 बजकर 46 मिनट से कल सुबह 7 बजकर 3 मिनट तक भद्रा रहेगी।

बंग समुदाय में इस पूजा को लक्खी पूजा कहा जाता है। ये पूजा फसल तैयार हो जाने के उपलक्ष्य में मनायी जाती है। इस पूजा में मां लक्ष्मी को धान अर्पित किया जाता है। वहीं मिथिलांचल में कोजागरी पूजा नवविवाहितों के लिए बहुत महत्व रखती है। इस दिन घर पर भोज का आयोजन किया जाता है और ससुराल पक्ष से नवविवाहितों को नये कपड़े व गहने उपहार में दिये जाते हैं। साथ ही आस-पास के लोगों में पान और मखाने बांटे जाते हैं। कोजागरी पूजा के दिन किये जाने वाले उपायों की ।

sharad_purnima

अगर आप अपने मान-सम्मान और वैभव में बढ़ोतरी करना चाहते हैं तो कोजागरी लक्ष्मी पूजा की रात को पूजा के समय 5 कौड़ियां लीजिये और उन्हें अभिमंत्रित करके देवी मां को चढ़ाइए। पहले एक कौड़ी हाथ में लीजिये और मंत्र पढ़िये- ‘श्रीं ह्रीं श्रीं’……. फिर दूसरी कौड़ी हाथ में लीजिये और मंत्र पढ़िये- ‘श्रीं ह्रीं श्रीं’…… इसी प्रकार पांचों कौड़िया देवी मां को चढ़ाइए। फिर देवी मां को पुष्प आदि अर्पित करके उनके सामने घी का दीपक जलाइए। इस प्रकार जब पूजा हो जाये तो उन कौड़ियों को उठाकर एक सुंदर-सी कटेरी में डालकर अपने मन्दिर में रख लें और उसे रोज धूप दिखाएं।

अगर आप अपने किसी कार्य को जल्दी से पूर्ण करना चाहते हैं तो आज रात के समय मां लक्ष्मी के सामने अखंड ज्योत जलाएं फिर ज्योत के सामने आसन बिछाकर बैठ जायें, अपने कार्य के जल्दी पूर्ण होने की इच्छा रखते हुए देवी मां के इस मंत्र का 108 बार जप करें, आप जप स्फटिक , कमलगट्टे या रुद्राक्ष की माला पर कर सकते हैं। ध्यान रहे ज्योत भोर होने तक जलती रहे। मंत्र है – ‘श्रीं ह्रीं श्रीं’

rgyan app

अगर आप अपने जीवनसाथी की या अपने बच्चों की आर्थिक तरक्की सुनिश्चित करना चाहते हैं तो कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन एक पान के पत्ते को धोकर, उस पर थोड़े-से मखाने रखकर अपने जीवनसाथी या अपने बच्चे के हाथ से मां लक्ष्मी को चढवाएं। साथ ही उनकी आर्थिक तरक्की के लिये देवी मां से प्रार्थना करें।…… आपके जीवनसाथी और बच्चों की आर्थिक तरक्की सुनिश्चित होगी।

अगर आप अपने सुख-सौभाग्य में बढ़ोतरी करना चाहते हैं, तो कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन आपको सौभाग्य बीसा यंत्र की स्थापना करनी चाहिए। सौभाग्य बीसा यंत्र लेकर उसकी उचित प्रकार से प्राण-प्रतिष्ठा करके, उस पर मां लक्ष्मी के मंत्र का एक लाख बार जप करें। मंत्र है – ‘श्रीं ह्रीं श्रीं’ ..इस प्रकार मंत्र से सिद्ध करने के बाद आप उस यंत्र को अपने गले में भी धारण कर सकते हैं।

अगर आप कोई बिजनेस करते हैं, तो अपने बिजनेस में लाभ की बढ़ोतरी के लिये और अपने बिजनेस की बेहतर गति को निरंतर बनाये रखने के लिये कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन आपको अपने ऑफिस में बुध यंत्र की स्थापना करनी चाहिए। आप आज बुध यंत्र लेकर, उसकी प्राण प्रतिष्ठा करके और उचित प्रकार से उसकी पूजा करके, उस पर बुध के मंत्र का 21 हजार से सवा लाख बार जप करके अपने ऑफिस में स्थापित कर सकते हैं। बुध का मंत्र इस प्रकार है-‘ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं स: बुधाय नम:’।

अगर आपकी कमर में दर्द बना रहता है, जिससे आपको चलने फिरने में दिक्कत आती है, तो कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन विधारा की लकड़ी लेकर, उसे शुद्ध करके उसका एक छोटा-सा टुकड़ा लेकर एक ताबीज में भर लें और उस ताबीज को अपने गले में पहन लें। आपकी कमर का दर्द जल्द ही ठीक हो जायेगा।

अगर आप अपनी नौकरी को लेकर परेशान हैं, अगर आपको अच्छी नौकरी नहीं मिल पा रही है या काफी दिनों से आपकी सैलरी नहीं बढ़ पा रही है तो इन सब स्थितियों को ठीक करने के लिये कोजागरी लक्ष्मी पूजा का दिन बड़ा ही अच्छा है। कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन आप अपने घर में गुरु यंत्र की स्थापना करके इन सारी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन मां लक्ष्मी के सामने मंत्रों से सिद्ध किया हुआ गुरु यंत्र स्थापित करके देवी मां की पूजा करनी चाहिए। गुरु यंत्र को किस मंत्र से सिद्ध करना है, वो भी आपको बता देता हूं- ‘ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: बृहस्पतये नम:’। .इस मंत्र से 51000 बार जप करके गुरु यंत्र को सिद्ध करना है। सिद्ध करने के बाद आप उस यंत्र को अपने मन्दिर में रख सकते हैं या उसे ताबीज में भरवाकर अपने गले में भी पहन सकते हैं।

अगर आप अपने आस-पास का माहौल खुशनुमा बनाये रखना चाहते हैं तो कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन धूप-दीप आदि से विधि-विधान पूर्वक मां लक्ष्मी की पूजा के बाद उन्हें नारियल और खोये से बनी मिठाई का भोग लगाएं। अगर आप खुद मिठाई बनायेंगे तो बहुत अच्छा है, अन्यथा आप मार्किट से लाकर भी भोग लगा सकते हैं। माहौल खुशनुमा बना रहेगा। Reach out to the best Astrologer at Jyotirvid.

अगर कुछ दिनों से आपकी अपने लवमेट के साथ ज्यादा नहीं बन रही है तो उनसे अपने संबंध मधुर करने के लिये कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन एक ओंपल की अंगूठी लेकर, उसकी विधि-पूर्वक पूजा करके धारण करें।

अगर आप अपने घर के सदस्यों के जीवन में सुख-समृद्धि कायम रखना चाहते हैं तो कोजागरी लक्ष्मी पूजा के दिन देवी लक्ष्मी को पुष्प अर्पित करें। अगर संभव हो तो कमल का पुष्प अर्पित करें। फिर घी का दीपक जलाएं और वहीं पर आसन बिछाकर बैठ जायें। अब मां लक्ष्मी के मंत्र का एक माला जप करें। मंत्र है -“ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः अगर आप इस मंत्र का पूरे एक माला जप कर पायें तो बहुत अच्छा है, अन्यथा आप 51 बार ही जप कर लें और उतना भी न हो पाये तो 11 बार कर लें, लेकिन करें जरूर। और अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here