Mahashivratri 2022: महाशिवरात्रि पर बन रहा है विशिष्ट योग, शत्रुओं पर पा सकते हैं विजय

इस साल महाशिवरात्रि 01 मार्च दिन मंगलवार को है. पंचांग के अनुसार, हर साल फाल्गुन माह (Phalgun Month) के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि (Chaturdashi Tithi) को महाशिवरात्रि मनाई जाती है. महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव की विधिपूर्वक पूजा करते हैं. इस साल महाशिवरात्रि पर विशिष्ट योग बन रहा है. इस योग में महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा करने से आपको शत्रुओं पर विजय प्राप्त होगी. आपके खिलाफ शत्रुओं की चाल असफल रहेगी, शिव कृपा से आपकी विजय होगी, आपके यश और कीर्ति में वृद्धि होगी. इस साल महाशिवरात्रि पर पंचग्रही योग भी बन रहा है. आइए जानते हैं महाशिवरात्रि के विशिष्ट योग और पंचग्रही योग (Panch Grahi Yog) के बारे में.

परिघ एवं शिव योग में महाशिवरात्रि 2022

इस साल महाशिवरात्रि यानी फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि 01 मार्च को तड़के 03:16 बजे से शुरू हो रही है, जो देर रात 01:00 बजे तक है. महाशिवरात्रि के दिन दो शुभ योग बन रहे हैं. महाशिवरात्रि को परिघ योग दिन में 11 बजकर 18 मिनट तक है. उसके बाद से शिव योग प्रारंभ हो जाएगा. यह 02 मार्च को प्रात: 08 बजकर 21 मिनट तक रहेगा.

परिघ योग में यदि आप अपने शत्रुओं को परास्त करने की योजना बनाते हैं, तो आप सफल होंगे. इस योग में शिव पूजा करके अपने कार्य को आगे बढ़ाएं, आपको सफलता प्राप्त होगी. शिव योग मांगलिक कार्यों के अच्छा होता है. इस योग में आप कोई भी शुभ कार्य कर सकते हैं.

वैसे भी महाशिवरात्रि का दिन अतिपावन होता है. इस दिन शिव पूजन आप कभी भी कर सकते हैं. हालांकि महाशिवरात्रि पर प्रात:काल से ही शिव मंदिरों में भक्त पूजन के लिए आने लगते हैं. इस दिन बेलपत्र शिवलिंग पर अवश्य चढ़ाते हैं.

महाशिवरात्रि पर पंचग्रही योग

इस साल महाशिवरात्रि पर पंचग्रही योग भी बन रहा है. महाशिवरात्रि के दिन मकर राशि में मंगल, शनि, चंद्रमा, शुक्र और बुध ग्रह एक साथ उपस्थित होकर पंचग्रही योग का निर्माण कर रहे हैं. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतindia.news18.com
पिछला लेखVastu Tips: जानिए – किस दिशा में सीढ़ियां बनवाने से होता है लाभ?
अगला लेखRussia Ukraine News : रूस ने किया यूक्रेन पर हमला तो भारत देगा किसका साथ? जानें, अमेरिका ने क्या दावा किया