Kisan Andolan: किसानों ने प्रदर्शन स्थल पर ही लगाई फसल, बोले- अभी और भी फसलें बोएंगे

नई दिल्ली. दिल्ली की सीमाओं पर नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों के आंदोलन को अब एक महीने का समय हो गया है। बड़ी संख्या में किसान बुराड़ी स्थित निरंकारी समागम ग्राउंड में भी कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। इस बीच यहां एक नई तस्वीर देखने को मिल रही है। कुछ प्रदर्शनकारियों ने इस ग्राउंड के एक हिस्से में ही फसल उगाना शुरू कर दिया है। एक किसान ने कहा, “हमारा प्रदर्शन जारी है। एक महीने से हम खाली बैठे हैं, इसलिए हमने सोचा कि प्याज उगाई जाए जो प्रतिदिन खाना बनाने के दौरान इस्तेमाल की जा सकेगी। हम और भी फसलें बुराड़ी ग्राउंड में बोएंगे।”

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

किसान नेता सरकार के साथ वार्ता बहाल करने के लिए तैयार

केंद्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों ने शनिवार को सरकार के साथ बातचीत फिर से शुरू करने का फैसला किया और अगले दौर की वार्ता के लिए 29 दिसंबर की तारीख का प्रस्ताव दिया, ताकि नए कानूनों को लेकर बना गतिरोध दूर हो सके। संगठनों ने साथ ही यह स्पष्ट किया कि कानूनों को निरस्त करने के तौर-तरीके के साथ ही न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए गारंटी का मुद्दा एजेंडा में शामिल होना चाहिए।

कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे 40 किसान यूनियनों के मुख्य संगठन संयुक्त किसान मोर्चा की एक बैठक में यह फैसला किया गया। इस फैसले से एक दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जोर दिया था कि उनकी सरकार अपने कटु आलोचकों समेत सभी से बातचीत के लिये तैयार है, लेकिन यह बातचीत ‘‘तर्कसंगत, तथ्यों और मुद्दों’’ पर आधारित होनी चाहिये।

rgyan app

उन्होंने केन्द्र और किसानों के बीच वार्ता में गतिरोध के लिये राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों पर निशाना भी साधा था। इस बीच, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी प्रदर्शनकारी किसानों से चर्चा के जरिए अपने मुद्दों का हल करने का आग्रह किया। कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय में संयुक्त सचिव विवेक अग्रवाल को लिखे पत्र में मोर्चा ने कहा, “हम प्रस्ताव करते हैं कि किसानों के प्रतिनिधियों और भारत सरकार के बीच अगली बैठक 29 दिसंबर को सुबह 11 बजे हो।’’ अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here