25 मार्च से शुरू होने वाले है चैत्र नवरात्रि, अब जानते है किस दिन होगी कलश स्थापना

चैत्र मास शुक्ल प्रतिपदा के दिन से चैत्र नवरात्र की शुरुआत होती है। हिंदू धर्म में चैत्र नवरात्रि का काफी महत्व माना जाता है। पूरे नौ दिनों तक चलने वाले पर्व में आदिशक्ति मां दुर्गा के नौ रूपों की आराधना की जाती है। इस दिन विधि-विधान से पूजा की जाती है। कई भक्त पूरे 9 दिन मां दुर्गा की आराधना करते हुए व्रत रहते हैं। इस बार नवरात्रि 25 मार्च से शुरू हो रहे हैं। पढ़ें चैत्र नवरात्रि संबंधी हर बात।

चैत्र नवरात्रि व्रत कब से है?
चैत्र नवरात्रि का पर्व हर साल चैत्र शुक्ल प्रतिपदा तिथि से शुरू होकर नवमी तिथि तक चलता है। इस साल 25 मार्च से इसकी शुरुआत हो रही है वहीं नवरात्रि का समापन  03 अप्रैल 2020 को समाप्त होगी। 

लग रहे है कई शुभ योग
25 मार्च से शुरू होने वाले चैत्र नवरात्रि में इस बार कई शुभ योग लग रहे हैं। इस नवरात्रि 4 सर्वार्थसिद्ध योग, रवि योग के साथ गुरू पुष्य योग लग रहा है। इस शुभ योग में मां की आराधना करने से हर मनोकामना पूर्ण होती है।

कोरोना वायरस: वैष्णो देवी और शिरडी साईं मंदिर में श्रद्धालुओं से ना आने की अपील की गई  

जानें किस दिन पड़ कौन सी देवी का दिन
25 मार्च, प्रतिपदा – बैठकी या नवरात्रि का पहला दिन- घट/ कलश स्थापना – शैलपुत्री
26 मार्च, द्वितीया – मां ब्रह्मचारिणी  की पूजा
27 मार्च, तृतीया- मां चंद्रघंटा की पूजा
28 मार्च, चतुर्थी – नवरात्रि का चौथा दिन- कुष्मांडा पूजा
29 मार्च, पंचमी – नवरात्रि का पाचवां दिन- मां स्कंदमाता पूजा
30 मार्च, षष्ठी – नवरात्रि का छठा दिन- मां कात्यायनी की पूजा
31 मार्च , सप्तमी – नवरात्रि का सातवां दिन- मां कालरात्रि की पूजा
1 अप्रैल, अष्टमी – नवरात्रि का आठवां दिन- मां महागौरी की पूजा, दुर्गा अष्टमी ,नवमी पूजन
2 अप्रैल, नवमी – नवरात्रि का नौवां दिन- मां सिद्धिदात्री की पूजा, नवमी हवन
3 अप्रैल,  दशमी – पारण, दुर्गा विसर्जन