Omicron की दहशत से दहला शेयर बाजार, Sensex और Nifty में बड़ी गिरावट, निवेशकों के 11 लाख करोड़ रुपये स्वाहा

कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन की दहशत पूरी दुनिया में है. ओमिक्रॉन वेरिएंट का असर आज स्टॉक मार्केट पर भी देखने को मिला. कारोबारी सप्ताह के पहले ही बाजार में बड़ी गिरावट देखने मिली. बाजार खुलते ही बिकवाली का दौर देखने को मिला और बाजार लाल निशान पर कारोबार करने लगा. देखते ही देखते निवेशकों को 11 लाख करोड़ रुपये से अधिक की चपत लग गई.

सप्ताह के पहले कारोबारी दिन आज सोमवार को बाजार गिरावट के साथ खुले हैं. निफ्टी 16,700 के नीचे फिसल गया है. बाजार खुलते ही सेसेंक्स 1000 अंकों से ज्यादा की गिरावट के साथ 56000 के नीचे कारोबार करता देखा गया. Cipla, Asian Paints, TCS और Power Grid Corp निफ्टी के टॉप गेनर में शामिल है जबकि were Tata Motors, IndusInd Bank, BPCL, Bajaj Finserv और SBI टॉप लूजर नजर आए.

Nifty और Sensex में गिरावट

दोपहर को मुंबई शेयर बाजार संवेदी सूचकांक बीएसई सेंसेक्स (BSE Sensex) 2.73 परसेंट की गिरावट के बाद 1564 अंक टूटकर 55,444 पर ट्रेड करता देखा गया. सेंसेक्स में दर्ज सभी स्टॉक लाल निशान में कारोबार कर रहे थे. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का प्रमुख सूचकांक निफ्टी (NIFTY 50) भी 488 अंक गिरकर 16,491 के स्तर पर कारोबार कर रहा था.

दोपहर एक बजे सेंसेक्स 1,832.24 अंक लुढ़कर 55,179.50 के स्तर पर आ गया. सेंसेक्स में 3.21 परसेंट की गिरावट दर्ज की गई. निफ्टी की गिरावट 3.19 परसेंट यानी 541.60 अंक दर्ज की गई. निफ्टी 16,443 के आसपास ट्रेड कर रहा था.

बीएसई सेंसेक्स में दर्ज सभी स्टॉक लाल निशान पर कारोबार कर रहे थे. सबसे ज्यादा गिरावट बजाज फाइनेंस के स्टॉक में देखने को मिली. यह स्टॉक 5.57 परसेंट की गिरावट के साथ 6517 के स्तर पर पहुंच गया. टाटा स्टील (-5.14%), एसबीआईएन (-5.06%) एचडीएफसी (- 3.72%), मारुति (-2.15%) समेत तमाम स्टॉक गिरावट पर कारोबार कर रहे थे.

ओमिक्रॉन का असर भारतीय बाजार पर ही नहीं बल्कि ग्लोबल स्तर पर इसका प्रभाव दिखाई दिया.

ओमिक्रॉन के बढ़ते मामलों के बीच बेंचमार्क सूचकांकों के गिरने से निवेशकों को बाजार खुलने के 10 मिनट के भीतर ही 10 लाख करोड़ रुपये से अधिक का नुकसान हुआ. बीएसई (BSE) में सूचीबद्ध कंपनियों का बाजार पूंजीकरण (market cap) शुरुआती कारोबार में 10.47 लाख करोड़ रुपये गिरकर 253.56 लाख करोड़ रुपये रह गया. पिछले सत्र में मार्केट कैप 264.03 लाख करोड़ रुपये था.

भारत में बढ़ रहे हैं ओमिक्रॉन के मामले

दरअसल भारत में भी कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं, जिसका असर भारतीय बाजार पर भी देखने को मिला. देश में ओमिक्रॉन के अबतक 161 मामले सामने आ चुके हैं. कोरोना का यह नया वेरिएंट 12 राज्यों में अपने पांव पसार चुका है. दिल्ली में ओमिक्रॉन से संक्रमित मरीजों की संख्या 26 हो गई है. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतindia.news18.com
पिछला लेखVastu Tips: ऑफिस टेबल में रखें ये चीजें, मिलेगी तरक्की
अगला लेखBhagwan Shiv ki Kahani: क्यों भगवान शिव डर कर छिपे थे गुप्ताधाम की गुफा में, जानें कहानी