पीएम मोदी ने महाराजा सुहेलदेव स्‍मारक किया शिलान्यास, बोले- बहराइच की इस पुण्यभूमि को नमन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने मंगलवार को श्रावस्ती के महान योद्धा राजा सुहेलदेव (Maharaja Suheldev) की 4.20 मीटर ऊंची प्रतिमा के निर्माण समेत स्‍मारक का वीडियो कांफ्रेंस के जरिये बसंत पंचमी के दिन मंगलवार को शिलान्यास किया. इस दौरान उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ और भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह बहराइच स्थित कार्यक्रम स्‍थल चित्तौरा में इस दौरान मौजूद रहे.

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

प्रधानमंत्री ने वीडियो कांफ्रेंस के जरिये मंगलवार को बहराइच की चित्‍तौरा झील के विकास कार्यों का शिलान्‍यास किया. यह कार्यक्रम महाराजा सुह‍ेलदेव की जयंती के उपलक्ष्‍य में उत्‍तर प्रदेश के बहराइच में आयोजित किया गया. इसमें महाराजा सुहेलदेव की एक घोड़े पर सवार प्रतिमा की स्‍थापना, कैफेटेरिया, अतिथि गृह और बच्‍चों के पार्क जैसी विभिन्‍न पर्यटक सुविधाओं को शामिल किया गया है.

प्रधानमंत्री मोदी ने डिजिटल माध्यम से बहराइच जिले में महाराजा सुहेलदेव स्मारक तथा चित्तौरा झील की विकास योजना का शिलान्यास की. साथ ही, प्रधानमंत्री ने महाराजा सुहेलदेव स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय एवं महर्षि बालार्क चिकित्सालय, बहराइच का लोकार्पण भी किया.

इस दौरान पीएम ने कहा कि अपने पराक्रम से मातृभूमि का मान बढ़ाने वाले, राष्ट्रनायक महाराजा सुहेलदेव की जन्मभूमि और ऋषि मुनियों ने जहां तप किया, बहराइच की इस पुण्यभूमि को मैं नमन करता हूं. बसंत पंचमी की आप सभी को बहुत-बहुत मंगलकामनाएं। मां सरस्वती भारत के ज्ञान-विज्ञान को और समृद्ध करें.

rgyan app

प्रधानमंत्री ने कहा कि राम चरित मानस में गोस्वामी तुलसीदास जी कहते हैं- ‘ऋतु बसंत बह त्रिविध बयारि’ यानी बसंत ऋतु में शीतल, मंद, सुगंध ऐसी तीन प्रकार की हवा बह रही है. इसी हवा, इसी मौसम में खेत-खलिहान, बाग, बगान से लेकर जीवन का हर हिस्सा आनंदित हो रहा है.
पीएम ने कहा- आज मुझे बहराइच में महाराजा सुहेलदेव जी के भव्य स्मारक के शिलान्यास का सौभाग्य मिला है. उन्होंने दावा किया ये आधुनिक और भव्य स्मारक, ऐतिहासिक चित्तौरा झील का विकास, बहराइच पर महाराजा सुहेलदेव के आशीर्वाद को बढ़ाएगा और आने वाली पीढ़ियों को प्रेरित करेगा. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here