प्रवासी भारतीय सम्मेलन में बोले PM मोदी- जड़ से दूर भले हो गई नई पीढ़ी, लेकिन जुड़ाव बढ़ा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 16वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि आज नई पीढ़ी भले ही जड़ों से दूर हो गई हो, लेकिन उनका जुड़ाव भारत से बढ़ा है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बार कोरोना काल में भारत के लोगों ने शानदार काम किया है और ये लोग आस पास के लोगों के प्रति मददगार दिखे. इस दौरान भारत के लोगों ने सेवा भाव का परिचय दिया है. बता दें कि इस बार प्रवासी भारतीय दिवस का विषय आत्मनिर्भर भारत है. आइए जानिए महाराष्ट्र में बच्चों का शरीर पड़ा काला.

Ask-a-Question-with-our-Expert-Astrologer-min

भारत का लोकतंत्र सबसे जीवंत

प्रधानमंत्री ने कहा कि दुनिया गवाह है कि जब भी भारत के सामर्थ्य को सवालिया निशानों से देखा गया है तो हर बार भारतीयों ने इसे गलत साबित किया है. जब भारत पराधीन था तो यूरोप में लोग कहते थे कि भारत आजाद नहीं हो सकेगा. लेकिन भारतीयों ने इसे गलत साबित कर दिया. जब भारत आजाद हो गया तो पश्चिम के लोग कहते थे कि इतना गरीब देश एक साथ नहीं रह पाएगा, यहां लोकतंत्र का प्रयोग सफल नहीं हो पाएगा, लेकिन भारत ने इसे भी गलत साबित कर दिया. पीएम मोदी ने प्रवासी भारतीयों से कहा कि आज भारत का लोकतंत्र सबसे सफल, सबसे जीवंत है. भारत ने कहा कि आज भारत का लोकतंत्र दुनिया में उदाहरण बन गया है.

rgyan app

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत ने शांति का समय हो या संघर्ष का, भारतीयों ने डट कर मुकाबला किया है. औपनिवेशिक चुनौती से लेकर आंतकवाद तक हर मोर्चे पर भारत ने दृढ़ता से कार्य किया है. पीएम ने कहा कि बीते वर्ष में प्रवासी भारतीयों ने हर क्षेत्र में अपनी पहचान को मजबूत किया है. विभिन्न देशों के राज्य प्रमुख यह बताते हैं कि वहां रहने वाले प्रवासी भारतीयों ने कठिन समय में कितना बेहतरीन काम किया है.

भारत के वैक्सीन का सबको इंतजार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज भारत के वैक्सीन का इंतजार सबको है. पीएम ने कहा कि भारत के सामर्थ्य का लाभ सभी को मिलता है, पीएम ने कहा कि देश में ही बने दो वैक्सीन के साथ भारत मानवता के हित में कार्य करने हेतु तैयार है. पीएम ने कहा कि कोविड के समय में भी कई नए टेक स्टार्टअप्स भारत से ही निकल कर आए हैं. भारत ने एक बार फिर अपने सामर्थ्य का परिचय दे दिया. कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र के दौरान सूरीनाम के राष्ट्रपति चंद्रिका प्रसाद संतोखी ने मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित किया. अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.

स्रोतwww.aajtak.in
पिछला लेखइस एक चीज को बरकरार रखने में मनुष्य का पूरा जीवन हो जाता है समर्पित, टूटने में लगते हैं चंद सेकेंड
अगला लेखमहाराष्ट्र: वार्ड में था इतना धुआं, नर्सें भी नहीं ले पा रही थीं सांस, बच्चों का शरीर पड़ा काला