भगवान विष्णु को प्रसन्न करना है बेहद सरल, गुरुवार को इस पूजा विधि से पूरी होगी मनोकामना

सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवी-देवता को समर्पित है. गुरुवार का दिन भगवान विष्णु की आराधना के लिए माना जाता है. भगवान विष्णु (Lord Vishu) गुरु के स्वामी हैं. इस दिन उनके पूजन-अर्चन से जीवन के समस्त कष्ट मिट जाते हैं. विष्णु भगवान की कृपा अगर हो जाए तो जीवन में कभी धन-धान्य की कमी नहीं रहती है. सुख-समृद्धि दिनों दिन बढ़ती है. पुराणों के अनुसार भगवान विष्णु की पूजा (Vishnu Puja) से माता लक्ष्मी प्रसन्न हो जाती हैं. विधि-विधान से अगर भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है तो भक्तों को पूजा का संपूर्ण लाभ मिलता है.

यह है पूजा विधि

भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए विधिवत पूजा भी अनिवार्य है. गुरुवार के दिन सूर्योदय से पहले उठकर स्नान करना चाहिए. साफ वस्त्रों को धारण करने के बाद एक चौकी पर स्वच्छ कपड़ा बिछाकर उस पर भगवान विष्णु की प्रतिमा स्थापित करें. विष्णु भगवान को पीला रंग बेहद प्रिय है, ऐसे में उन्हें पीले फूल चढ़ाना चाहिए. इसके साथ ही उन्हें पीले रंग के फलों का ही भोग लगाना चाहिए.

भगवान विष्णु की पूजा करने के साथ उन्हें धूप-दीप दिखाना चाहिए. इसके बाद विष्णु जी की आरती करना बेहद जरूरी है. गुरुवार को केले के पेड़ की पूजा का भी विशेष महत्व माना गया है. इसलिए हो सके तो केले के पेड़ की पूजा जरूर करना चाहिए.

astro

इन उपायों को भी करें

– बृहस्पति देव की कृपा बनी रहे इसके लिए गुरुवार के दिन बुजुर्ग व्यक्ति को भोजन कराएं और उनका आशीर्वाद लें.
– गुरुवार के दिन पीले वस्त्रों को धारण करना काफी शुभ माना जाता है. मान्यता है कि ऐसा करने से भाग्योदय हो जाता है.
– विवाह में रुकावट, वैवाहिक जीवन में आ रही समस्याओं को दूर करने के लिए गुरुवार का व्रत रखना चाहिए.
– गुरु दोष होने पर गुरुवार के दिन पानी में हल्दी डालकर स्नान करना चाहिए. इससे गुरु दोष कम हो जाता है.
– गुरुवार के दिन धार्मिक पुस्तकों का दान शुभ माना गया है.
– गुरुवार को मंदिर में केसर और चने की दाल का दान करने से विशेष लाभ मिलता है.

अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतwww.indiatv.in
पिछला लेखकैबिनेट के फैसले के ​बाद टेलीकॉम कंपनियों के शेयर में उछाल, वोडाफोन आइडिया 14% ऊपर
अगला लेखदैनिक राशिफल 17 सितंबर: कर्क राशि वाले सेहत के प्रति रहें सावधान, वहीं इनका परिवारिक महौल रहेगा खुशनुमा