पंजाब में चुनाव की तारीख बदलने को लेकर हो सकता है फैसला, चुनाव आयोग की बैठक आज

पंजाब में विधानसभा चुनाव (Punjab Assembly Election: ) के लिए नई तारीख का ऐलान किया जा सकता है. यहां 14 फरवरी को वोटिंग होनी है. लेकिन दो दिन बाद यानी 16 फरवरी को गुरु रविदास की जयंती है. लिहाजा राजनीतिक दलों का कहना है कि अनुसूचित जाति (SC) समुदाय के लोग इस दिन बनारस जाएंगे. ऐसे में भारतीय जनता पार्टी और उसके सहयोगी शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) ने निर्वाचन आयोग से चुनाव की तारीख आगे बढ़ाने की अपील की है.

समाचार एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि आज पंजाब में चुनाव की तारीखों को लेकर चुनाव आयोग की बैठक हो सकती है. बता दें कि पंजाब में 117 विधानसभा सीटों के लिए 14 फरवरी को मतदान होना है और मतगणना 10 मार्च को होगी.

सीएम ने भी किया है आग्रह

इससे पहले मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने 13 जनवरी को निर्वाचन आयोग से मतदान की तारीख छह दिन के लिए आगे बढ़ाने का आग्रह किया था ताकि, अनुसूचित जाति के 20 लाख लोग राज्य विधानसभा चुनाव में वोट डाल सकें. मुख्यमंत्री चन्नी ने कहा है कि 10 से 16 फरवरी तक राज्य से बड़ी संख्या में अनुसूचित जाति के श्रद्धालुओं के उत्तर प्रदेश के बनारस जाने की संभावना है. ऐसे में इस समुदाय के कई लोग राज्य विधानसभा चुनाव में वोट नहीं डाल पाएंगे.

बनारस जाएंगे श्रद्धालु

भाजपा की पंजाब इकाई के महासचिव सुभाष शर्मा ने रविवार को मुख्य निर्वाचन आयुक्त को चिट्ठी लिख कर चुनाव की तारीख आगे बढ़ाने की मांग की है. उन्होंने लिखा है, ‘राज्य में अनुसूचित जाति (एससी) समुदाय सहित गुरु रविदास जी के अनुयायियों की अच्छी खासी आबादी है, जो पंजाब की आबादी का लगभग 32 प्रतिशत है. इस पावन अवसर पर लाखों श्रद्धालु उत्तर प्रदेश के बनारस में गुरुपर्व मनाने के लिए जाएंगे. इसके चलते उनके लिए वोटिंग में भाग लेना संभव नहीं होगा. इसलिए आप से अनुरोध है कि मतदान की तारीख को आगे बढ़ाया जाए.’ अन्य खबरों के लिए इस लिंक पर क्लिक करें

स्रोतindia.news18.com
पिछला लेखVastu Tips: आग्नेय कोण में लाल रंग करवाने के क्या हैं फायदे और नुकसान?
अगला लेखशिव चालीसा का पाठ करने से पूर्ण होगी सारी मनोकामनाएं, जानें नियम और फायदे